• Home
  • National
  • Government says 111 killed in 822 communal incidents in 2017
--Advertisement--

सांप्रदायिक हिंसा में UP अव्वल, 2017 में देश में हुई 822 घटनाओं में 111 की मौत

गृह-राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने लोकसभा में दिए सांप्रदायिक हिंसा से जुड़े आंकड़े।

Danik Bhaskar | Feb 06, 2018, 04:09 PM IST
2015 और 2016 के मुकाबले पिछले साल ज्यादा हुई सांप्रदायिक हिंसा की घटनाएं।        -फाइल 2015 और 2016 के मुकाबले पिछले साल ज्यादा हुई सांप्रदायिक हिंसा की घटनाएं। -फाइल

नई दिल्ली. पिछले साल देश में हुई 822 सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं में 111 लोग मारे गए और 2384 लोग घायल हुए। सांप्रदायिक हिंसा की सबसे ज्यादा 195 घटनाएं उत्तर प्रदेश में हुईं। इनकी वजह से 44 लोगों की मौत हो गई और 542 लोग घायल हुए। गृह-राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने मंगलवार को ये जानकारी लोकसभा में दी। मरने वाले और घायलों का आंकड़ा 2016 के मुकाबले काफी बढ़ा है। 2016 में सांप्रदायिक हिंसा में 86 लोगों की मौत हुई थी, 2321 जख्मी हुए थे।

कर्नाटक में बढ़ी हिंसा की घटनाएं

- कर्नाटक में पिछले साल 100 सांप्रदायिक घटनाओं में 9 लोग मारे गए और 229 घायल हुए। राजस्थान में 91 घटनाओं में 12 की मौत हुई और 175 लोग जख्मी हुए।
- 2017 में बिहार में 85 हिंसा की घटनाओं में 3 लोग मारे गए और 321 घायल हुए। मध्य प्रदेश में भी ऐसी 60 घटनाओं में 9 लोगों की मौत हुई थी।

पश्चिम बंगाल में बढ़ी घटनाएं

- पश्चिम बंगाल में पिछले साल हुई 58 घटनाओं में 9 लोगों की मौत हुई थी और 230 लोग जख्मी हुए थे। इसी दौरान गुजरात में भी 50 दंगे हुए। 8 लोग मारे गए थे।

2016 के मुकाबले 2017 में बढ़ी हिंसा

- अहीर ने बताया कि 2016 में सांप्रदायिक हिंसा की 703 घटनाओं में 86 लोग मारे गए थे और 2321 घायल हुए थे। जबकि 2015 में हुए 751 दंगों से 97 की मौत हुई थी और 2264 जख्मी हुए थे।

सबसे ज्यादा UP में हुए 195 दंगे।     -फाइल सबसे ज्यादा UP में हुए 195 दंगे। -फाइल