Hindi News »National »Latest News »National» India Britain Extradition Treaty 24 Year Ago Vijay Mallya

DB RESEARCH: 24 साल पहले ब्रिटेन से हुई थी एक्स्ट्राडिशन ट्रीटी; पहले आरोपी को लाने में 23 साल लग गए

इस ट्रीटी के तहत सबसे ज्यादा 17 आरोपी यूएई से लाए गए।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 13, 2017, 09:03 AM IST

नई दिल्ली. भारत में अपराध कर विदेश भाग गए आरोपियों के प्रत्यर्पण (Extradition) से जुड़ी सुनवाई में देरी को लेकर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को कड़ी फटकार लगाई। कोर्ट ने विदेश मंत्रालय के सचिव को समन भेजने के संकेत भी दिए। कोर्ट ने विदेश मंत्रालय से 15 दिसंबर तक जानकारी मांगी है। प्रत्यर्पण का सबसे ताजा और चर्चित मामला विजय माल्या का है। माल्या को कब तक लाया जाएगा, इस पर कुछ कहा नहीं जा सकता, क्योंकि ब्रिटेन से 24 साल पहले प्रत्यर्पण संधि हुई थी, फिर भी पहले आरोपी को लाने में 23 साल लग गए। भारत सरकार 14 साल में 62 आरोपियों को ला चुकी है। सबसे ज्यादा 17 आरोपियों का प्रत्यर्पण यूएई से और 9 का प्रत्यर्पण अमेरिका से किया गया।

आर्थिक अपराधों में 8 आरोपी लाए जा चुके हैं

- भारत अलग-अलग अपराधों में जिन 62 लोगों को प्रत्यर्पित कर लाया है, उनमें सबसे ज्यादा 15 हत्या के आरोपी हैं।

- आतंकवाद के मामले में भी 9 आरोपी लाए गए हैं। माल्या जैसे या अन्य आर्थिक अपराधों के मामलों में 8 लोगों को लाया गया है।

अपराधभारत लाए गए अपराधी
हत्या15
आपराधिक साजिश10
आतंकवाद9
आर्थिक अपराध8
धोखाधड़ी4
युद्ध छेड़ने का मामला3

बाकी 13 आरोपियों को अलग-अलग अपराधों में प्रत्यर्पित कर लाया गया।

ब्रिटेन से पहला प्रत्यर्पण पिछले साल हुआ

- भारत और ब्रिटेन के बीच 1993 में प्रत्यर्पण संधि हुई थी। तब से लेकर अब तक पहले आरोपी को भारत लाने में 23 साल लग गए।

- इसमें मर्डर के मामले में सिर्फ एक आरोपी समीरभाई वीनूभाई पटेल को 19 अक्टूबर 2016 को प्रत्यर्पण कर भारत लाया गया था।

ब्रिटेन में इन 5 प्रमुख आरोपियों के मामले पेंडिंग

1. नदीम सैफी: गुलशन कुमार की हत्या में शामिल होने का आरोप। 1997 से लंदन में है। इसे ब्रिटिश नागरिकता भी मिल चुकी है। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में रहने की खबरें।

2. टाइगर हनीफ: दाऊद इब्राहिम का सहयोगी। गुजरात में 1993 के धमाकों का आरोपी। 3 साल से प्रत्यर्पण के कागजात ब्रिटेन के गृह सचिव के पास।

3. ललित मोदी: उद्योगपति और आईपीएल का संस्थापक। मनी लॉन्ड्रिंग, भ्रष्टाचार का आरोपी।

4. रवि शंकरन: पूर्व नौसेना कमांडर और हथियार डीलर। नौसेना वॉर रूम लीक मामले में जासूसी करने का आरोप है।

5. सुधीर चौधरी: हथियार डीलर और रक्षा सौदों में मध्यस्थ। इसके खिलाफ सीबीआई ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है।

भारत ने 45 आरोपियों को दूसरे देशों को सौंपा

- 45 लोग विदेशों में अपराध कर भारत में आ छुपे थे, जिन्हें भारत ने उन देशों को सौंप दिया, जिन्होंने इनके प्रत्यर्पण की मांग की थी।

- इनमें से सबसे ज्यादा 24 अमेरिका को सौंपे गए हैं, जबकि 3 आरोपियों को ब्रिटेन को सौंपा गया है।

ब्रिटेन के पास पेंडिंग हैं प्रत्यर्पण के 17 मामले

- जुलाई 2016 तक ब्रिटेन से 16 लोगों के प्रत्यर्पण की प्रॉसेस चल रही थी। माल्या को मिलाकर ये 17 हो गए हैं।

- इनमें ललित मोदी, संगीतकार नदीम और गुजरात में 1993 में किए गए धमाकों का आरोपी टाइगर हनीफ भी शामिल है।

अमेरिका से 9 आरोपी लाए गए

देशप्रत्यर्पण
यूएई17
अमेरिका9
कनाडा4
थाईलैंड4
जर्मनी3
साउथ अफ्रीका3
ऑस्ट्रेलिया2
बांग्लादेश2
पुर्तगाल2
बेल्जियम1
मॉरिशस1
14 आरोपियों को अलग- अलग देशों से लाया गया।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 24 saal pehle briten se huee thi ekstraadishn triti, pehle aaropi ko laane mein 23 saal lga gae
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×