• Home
  • National
  • India re-elected International Maritime Organisation Council
--Advertisement--

भारत मैरीटाइम ऑर्गनाइजेशन काउंसिल में फिर चुना गया, जर्मनी के बाद सबसे ज्यादा वोट मिले

आईएमओ UN की एजेंसी है, जो समुद्र में जहाजों की सिक्युरिटी और उनसे होने वाले पॉल्यूशन की निगरानी करती है।

Danik Bhaskar | Dec 02, 2017, 10:45 AM IST
आईएमओ में कैटिगरी-बी के लिए पह आईएमओ में कैटिगरी-बी के लिए पह

लंदन. भारत को इंटरनेशनल मैरीटाइम ऑर्गनाइजेशन (आईएमओ) काउंसिल में फिर एक बार चुन लिया गया है। वह इस संगठन का दो साल तब मेंबर रहेगा। भारत को इस चुनाव में 144 वोट मिले और दूसरे नंबर पर रहा। उससे ज्यादा 146 वोट जर्मनी को मिले। भारत को इसमें कैटैगरी बी में चुना गया है, जिसमें शामिल देशों का समुद्र के रास्ते होने वाले अंतर्राष्ट्रीय कारोबार में बड़ा हित है। आईएमओ काउंसिल यूनाइटेड नेशंस की एजेंसी है, जो समुद्र में जहाजों की सिक्युरिटी और जहाजों से होने वाले पॉल्यूशन की निगरानी करती है।

जर्मनी के बाद सबसे ज्यादा वोट मिले

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, 143 वोट के साथ ऑस्ट्रेलिया तीसरे नंबर पर रहा।

- इनके अलावा फ्रांस को 140, कनाडा को 138, स्पेन को 137, ब्राजील को 131, स्वीडन को 129, नीदरलैंड्स को 124 और यूएई 115 वोट मिले।

कैटेगरी बी में पहली बार हुई वोटिंग
- आईएमओ में कैटिगरी-बी के लिए पहली बार वोटिंग हुई है। इससे पहले आम सहमति से 10 मेंबर चुन लिए जाते थे। भारत इस आर्गनाइजेशन का 1959 से मेंबर है। वह सिर्फ 1983-84 में एकबार इससे बाहर हुआ था।

गडकरी ने की थी मदद की अपील
- वोटिंग से पहले जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने लंदन में आईएमओ के सेशन को एड्रेस किया था। उन्होंने मेंबर देशों से इलेक्शन में भारत का सपॉर्ट करने को कहा था।

और कौन है कैटेगरी बी में?
- भारत और जर्मनी के अलावा इस कैटिगरी में ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, कनाडा, स्पेन, ब्राजील, स्वीडन, नीदरलैंड्स और यूएई शामिल हैं।
- इस चुनाव में ऑस्ट्रेलिया और यूएई नए मेंबर हैं। अभी तक बांग्लादेश और अर्जेंटीना इस कैटिगरी में मेंबर थे।