• Home
  • National
  • india sri lanka delhi test match dispute Pollution is not even less in Colombo
--Advertisement--

पॉल्यूशन तो कोलंबो में भी कम नहीं, श्रीलंका ने कोहली की ट्रिपल सेन्चुरी रोकने के लिए ड्रामा किया

रविवार को श्रीलंका टीम ने पॉल्यूशन की वजह से परेशानी बताकर 58 मिनट में 4 बार मैच रुकवाया था।

Danik Bhaskar | Dec 04, 2017, 09:01 AM IST
एक-दूसरे का मास्क चेक करते श्र एक-दूसरे का मास्क चेक करते श्र

नई दिल्ली. दूसरा टेस्ट हार चुकी श्रीलंकाई टीम ने रविवार को दिल्ली में एयर पॉल्यूशन का बहाना बनाकर चार बार खेल रुकवाया था। टेस्ट इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ। दरअसल, श्रीलंकाई खिलाड़ी पॉल्यूशन और खराब एयर क्वालिटी का बहाना बता रहे थे, लेकिन हकीकत ये है कि वे ट्रिपल सेन्चुरी की ओर बढ़ रहे विराट कोहली को रोकना चाहते थे। ऐसे में कोहली ने गुस्से में इनिंग डिक्लेयर कर दी। भारतीय खिलाड़ियों ने बिना मास्क के फील्डिंग की। 3 विकेट भी झटके। श्रीलंका ने बहाना बनाया, लेकिन हकीकत ये है कि कोलंबो में भी पॉल्यूशन कम नहीं है।

रविवार को दिल्ली टेस्ट के दौरान क्या हुआ था?

- टेस्ट के दौरान दूसरे दिन रविवार को बुरी हालात में आ चुकी श्रीलंकाई टीम के सात खिलाड़ी लंच ब्रेक के बाद मास्क पहनकर उतरे। अलग-अलग खिलाड़ियों के कारण चार बार खेल रोकना पड़ा। इस वजह से 26 मिनट खेल नहीं हो सका।

- पहले 122 और 124 ओवर के दौरान मैच रुका। इसके बाद 127th ओवर के दौरान दो बार मैच रोका गया।

- श्रीलंका के प्लेयर्स खराब एयर क्वॉलिटी की शिकायत कर रहे थे, इस दौरान में करीब 20 हजार दर्शक मौजूद थे। ये सभी श्रीलंका के खिलाफ- लूजर्स.. लूजर्स के नारे लगा रहे थे।

...और हकीकत ये है

1) कोहली को रोकने के लिए तमाशा किया

- BCCI के एक्टिंग प्रेसिडेंट सीके खन्ना ने कहा, "विराट का तिहरा शतक रोकने के लिए श्रीलंका ने तमाशा किया। टीम इंडिया, 20 हजार दर्शकों को परेशानी क्यों नहीं हुई? मुझे आश्चर्य है कि श्रीलंका की टीम ने इतना बड़ा बतंगड़ बनाया। मैं इस बारे में सेक्रेटरी से बात करूंगा और उनसे कहूंगा कि वो श्रीलंका क्रिकेट (बोर्ड) को लिखें।'

2) दिल्ली में शनिवार से सिर्फ 3.5% ज्यादा था पॉल्यूशन

पॉल्यूशन 3 दिसंबर 2 दिसंबर
पीएम-2.5 366 316
पीएम-10 175 142

(पीएम 2.5-60 और पीएम 10-100 माइक्रोग्राम्स होना चाहिए।)

3) श्रीलंका में पॉल्यूशन कंट्रोल के लिए आर्मी-नेवी की मदद लेनी पड़ी

- 2016 में दिल्ली में 2.2 गुना, जबकि कोलंबो में 3.6 गुना ज्यादा था पॉल्यूशन था। सालभर श्रीलंका में भी क्रिकेट खेला गया। ना श्रीलंकाई खिलाड़ियों और ना ही किसी दूसरे देश के खिलाड़ियों ने वहां मास्क पहनकर मैच खेला।

- श्रीलंका 2017 में भी पॉल्यूशन से इस कदर जूझा कि उसे पॉल्यूशन कंट्रोल के नियम लागू कराने में नेवी और आर्मी की मदद लेनी पड़ी। श्रीलंका के मंत्री पताली चंपिका रानावाका ने बीते नवंबर में ही यह बात कबूली थी।

- दिसंबर के शुरुआती दो दिनों में कोलंबो में एयर क्वालिटी इंडेक्स 100 से 150 के बीच था। यह दिल्ली से कम है, लेकिन यह इंडेक्स ‘अनहेल्दी फॉर सेंसेटिव ग्रुप्स’ की कैटेगरी में आता है।

4) विराट दो दिन खेले, मास्क की जरूरत नहीं पड़ी

- इंडिया की बॉलिंग कोच भारत अरुण ने कहा, "विराट कोहली ने करीब दो दिन तक बैटिंग की और उन्हें मास्क की जरूरत नहीं पड़ी। हमारा फोकस इस पर था कि हमें क्या करना है। दोनों टीमों के लिए कंडीशन एक जैसी थी। हमें इससे कोई परेशानी नहीं हुई।'

श्रीलंका के कोच ने क्या कहा?

- श्रीलंका के इंटरिम कोच निक पोथास ने कहा, "गमागे और लकमल हालात से जूझ रहे थे। मैच रेफरी और डॉक्टर दोनों ही हमारे ड्रेसिंग रूम में थे। लकमल लगातार उल्टियां कर रहे थे। धनंजय डिसिल्वा भी उल्टियां कर रहे थे। ये बेहद मुश्किल था और आप केवल डॉक्टर्स की सलाह पर ही भरोसा कर सकते थे, क्योंकि हम लोग मेडिकल पर्सन नहीं हैं। हम अगले दिन खेलेंगे या नहीं, ये मैच ऑफिशियल तय करेंगे।"