Hindi News »National »Latest News »National» Dokalam Standoff: China Said This Area Is Part Of China And Their Effective Jurisdiction

डोकलाम हमारा, सेना वहां मौजूद; पैट्रोलिंग भी जारी: विवादित इलाके से आर्मी वापस बुलाने पर चीन

16 जून को डोकलाम विवाद शुरू हुआ था। 72 दिन तक चले विवाद के बाद 28 अगस्त को मसला खत्म हो गया था।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 10, 2018, 12:47 PM IST

  • डोकलाम हमारा, सेना वहां मौजूद; पैट्रोलिंग भी जारी: विवादित इलाके से आर्मी वापस बुलाने पर चीन, national news in hindi, national news
    +2और स्लाइड देखें
    डोकलाम विवाद के दौरान भारत-चीन की सेनाएं 100 मीटर की दूरी तक आ गई थीं। (फाइल)

    बीजिंग. भारत के आर्मी चीफ बिपिन रावत ने सोमवार को कहा कि डोकलाम से हमारी और चीन दोनों की आर्मी को वापस बुला लिया गया है। चीन ने सीधे तौर पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। लेकिन मंगलवार को ये जरूर कहा कि चीन ने कहा कि डोंग लांग (डोकलाम) हमेशा से हमारा हिस्सा था, है और हमारे ज्यूरिसडिक्शन (अधिकार क्षेत्र) में रहेगा। बता दें कि 16 जून को डोकलाम विवाद शुरू हुआ था। इस दौरान भारत-चीन दोनों की सेनाएं 100 मीटर तक आमने-सामने आ गई थीं। 72 दिन तक चले विवाद के बाद 28 अगस्त को मसला खत्म हो गया था।

    डोकलाम में चीनी आर्मी मौजूद

    - न्यूज एजेंसी के मुताबिक चीन के विदेश मंत्रालय के स्पोक्सपर्सन लू कांग ने कहा, "हमारी बॉर्डर ट्रूप्स न केवल डोकलाम इलाके में मौजूद हैं, बल्कि वहां पैट्रोलिंग भी करती हैं। वह इलाका चीन का संप्रभु (सॉवेरिन) हिस्सा है।''
    - "डोकलाम हमेशा से चीन के अधिकार क्षेत्र में रहा है। इस बारे में कोई विवाद नहीं है।''
    - कांग ने रावत के बयान पर सीधे तौर पर नहीं बताया कि डोकलाम से चीन ने सेना वापस बुलाई है या नहीं।

    भारत के सीमावर्ती पूर्वी हिस्से को लेकर विवाद

    - कांग ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश दरअसल साउथ तिब्बत का हिस्सा है।
    - "हम कई बार बता चुके हैं कि भारत-चीन सीमा पर स्थित एक पूर्वी इलाके को लेकर विवाद है। इसमें आपसी सहमति से ही कोई राय बनाई जा सकती है। लेकिन इसके पहले हमें इलाके में शांति और सुरक्षा बनाए रखनी है। विवाद को हल करने के लिए बाकायदा एक मैकेनिज्म तैयार किया गया है।''

    पिछली बार कितने दिन चला था टकराव ?

    - बता दें कि भारतीय-चीन बॉर्डर पर डोकलाम इलाके में दोनों देशों के बीच 16 जून 2017 से 28 अगस्त 2017 के बीच टकराव चला था। हालात काफी तनावपूर्ण हो गए थे। बाद में अगस्त में यह टकराव खत्म हुआ और दोनों देशों में सेनाएं वापस बुलाने पर सहमति बनी थी।

    क्या था डोकलाम विवाद?
    - डोकलाम में विवाद 16 जून को तब शुरू हुआ था, जब इंडियन ट्रूप्स ने वहां चीन के सैनिकों को सड़क बनाने से रोक दिया था। हालांकि चीन का दावा था कि वह अपने इलाके में सड़क बना रहा था।
    - इस एरिया का भारत में नाम डोका ला है जबकि भूटान में इसे डोकलाम कहा जाता है। चीन दावा करता है कि ये उसके डोंगलांग रीजन का हिस्सा है। भारत-चीन का जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक 3488 km लंबा बॉर्डर है। इसका 220 km हिस्सा सिक्किम में आता है।

  • डोकलाम हमारा, सेना वहां मौजूद; पैट्रोलिंग भी जारी: विवादित इलाके से आर्मी वापस बुलाने पर चीन, national news in hindi, national news
    +2और स्लाइड देखें
  • डोकलाम हमारा, सेना वहां मौजूद; पैट्रोलिंग भी जारी: विवादित इलाके से आर्मी वापस बुलाने पर चीन, national news in hindi, national news
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Dokalam Standoff: China Said This Area Is Part Of China And Their Effective Jurisdiction
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×