Hindi News »India News »Latest News »National» Gujarat CM Vijay Rupani Gujarat Assembly Election 2017 Winner From Rajkot West

गुजरात चुनाव रिजल्ट 2017: स्टॉक ब्रोकर थे विजय रूपाणी, इस वजह से राजनीति से लेना चाहते थे संन्यास

dainikbhaskar.com | Last Modified - Dec 18, 2017, 04:33 PM IST

गुजरात चुनाव रिजल्ट 2017: राजकोट वेस्ट सीट से गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी जीते। कांग्रेसी इंद्रनील राजगुरू हारे।
गुजरात चुनाव रिजल्ट 2017: स्टॉक ब्रोकर थे विजय रूपाणी, इस वजह से राजनीति से लेना चाहते थे संन्यास, national news in hindi, national news

गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 के रुझान सोमवार को आ गए। ये चुनाव वैसे तो नरेंद्र मोदी, अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के लिए बहुत ही अहम थे, लेकिन इनमें कई वीआईपी सीटें भी थीं जिन पर लोगों की नजरें थीं। ऐसी ही एक सीट है राजकोट वेस्ट।


गुजरात विधानसभा चुनाव रिजल्ट 2017: इन 4 विवादित बयानों ने खूब कराई छीछालेदर, जानें क्या हुआ नुकसान

विजय रूपाणी ने इंद्रनील राजगुरू को हराया

इस सीट पर मुख्यमंत्री विजय रूपाणी कांग्रेस के सबसे अमीर उम्मीदवार इंद्रनील राजगुरू के खिलाफ चुनावी मैदान में थे और विजय रूपाणी ने इंद्रनील राजगुरू को करारी हार का स्वाद चखाते हुए राजकोट वेस्ट से जीत दर्ज की।


LIVE: गुजरात चुनाव में BJP 93 सीटें जीती, 6 पर आगे; कांग्रेस के खाते में 75 सीटें, 2 पर बढ़त

ऐसे लगा राजनीति का चस्का

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी का पारिवारिक बैकग्राउंड व्यावसायिक था और इसीलिए विजय रूपाणी की दिलचस्पी व्यवसाय में थी, हालांकि राजनीति का चस्का भी विजय रूपाणी को खूब था। इसी के चलते विजय रूपाणी छात्र कार्यकर्ता के रूप में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गए।

इमरजेंसी के दौरान जेल जाने वाले एकमात्र मंत्री

इसके बाद 1971 में विजय रूपाणी पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और फिर जन संघ में शामिल हुए..लेकिन एक वक्त ऐसा भी आया जब विजय रूपाणी को जेल जाना पड़ा।


गुजरात चुनाव रिजल्ट 2017: बीजेपी-कांग्रेस की टक्कर पर ये बोली EVM

बात 1976 की है जब देश में इमरजेंसी (आपातकाल) का दौर था। इसी दौरान उन्हें 11 महीनों के लिए जेल में भेज दिया गया। विजय रूपाणी गुजरात के एकमात्र ऐसे मंत्री हैं जिन्हें इमरजेंसी के दौरान जेल में रहना पड़ा। हालांकि उस दौर को विजय रूपाणी अपनी मजबूती के रूप में देखते हैं। बकौल विजय रूपाणी, 'आजादी और अधिकारों को वैल्यू देना एक इंसान जेल में ही सीखता है।'


नरेंद्र मोदी पर भारी पड़े अल्पेश ठाकोर, इस वजह से राधनपुर से मिली बड़ी जीत

रंगून में रहते थे विजय रूपाणी

बर्मा में रंगून में जन्मे विजय रूपाणी पहले बर्मा में ही रहते थे, लेकिन बर्मा में राजनीतिक अस्थिरता के चलते विजय रूपाणी और उनका पूरा परिवार गुजरात के राजकोट में आकर बस गया और यहां अपना काम शुरू किया।

स्टॉक ब्रोकर थे विजय रूपाणी

विजय रूपाणी पहले एक स्टॉक ब्रोकर थे। उन्होंने रमणिकलाल एंड संस और राजदीप एक्सपोर्ट्स के नाम से कंपनियां शुरू कीं और अपने व्यवसाय में रम गए। इसके बाद राजनीति में कदम रखते ही विजय रूपाणी का एक नया ही चेहरा देखने को मिला। धीरे-धीरे वो बीजेपी के कद्दावर नेता बनकर उभरे।

गुजरात Election: 28 VIP सीटें- सीएम रूपाणी और डिप्टी सीएम नितिन पटेल जीते, कांग्रेस के गोहिल हारे

राज्य अध्यक्ष से मुख्यमंत्री पद

2016 में विजय रूपाणी को गुजरात राज्य अध्यक्ष बनाया गया और उसी साल उन्हें गुजरात का मुख्यमंत्री भी बनाया गया। गुजरात का मुख्यमंत्री बनते ही विजय रूपाणी ने राज्य अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया और गुजरात के विकास कार्यों में लग गए।

....और अब गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 के परिणामों में विजय रूपाणी एक बार फिर विजयी हुए और अपनी सीट बचाने में कामयाब हुए।

राजनीति को बाय-बाय

लेकिन शायद ही लोग जानते हों कि विजय रूपाणी की जिंदगी में एक ऐसा भी दौर आया जब उन्होंने राजनीति छोड़ने का मन बना लिया था। यह बात तब की है जब विजय रूपाणी के सबसे छोटे बेटे की एक हादसे में मौत हो गई। उस हादसे ने विजय रूपाणी को इस हद तक तोड़ दिया था कि वो राजनीति को छोड़ने का मन बना चुके थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: gujarat chunaav rijlt 2017: stock brokar the vijy rupaani, is wajah se raajniti se lenaa chaahte the snnyaas
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From National

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×