देश

  • Home
  • National
  • ISRO says connectivity with GSAT 6A satellite lost efforts to connect underway news and updates
--Advertisement--

कम्युनिकेशन सैटेलाइट जीसैट-6ए से इसरो का संपर्क टूटा, दोबारा लिंक करने की कोशिश में जुटे वैज्ञानिक

इसरो ने श्रीहरीकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से गुरुवार को जीसैट-6ए सैटेलाइट लॉन्च की थी।

Danik Bhaskar

Apr 01, 2018, 12:49 PM IST
श्रीहरिकोटा के सतीश धवन सेंटर से यह सैटेलाइट 29 मार्च को शाम 4:56 बजे लॉन्च किया गया था। श्रीहरिकोटा के सतीश धवन सेंटर से यह सैटेलाइट 29 मार्च को शाम 4:56 बजे लॉन्च किया गया था।

नई दिल्ली. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) का कम्युनिकेशन सैटेलाइट जीसैट-6ए से संपर्क टूट गया है। रविवार को इसरो की आधिकारिक वेबसाइट ने इसकी जानकारी दी। एजेंसी के मुताबिक, तीसरे और आखिरी चरण में लैम इंजन की फायरिंग के दौरान सैटेलाइट से इसरो का संपर्क टूट गया। बता दें कि इसरो ने 29 मार्च को जीएसएलवी-एफ08 रॉकेट के जरिए जीसैट-6ए को लॉन्च किया था। इसे पृथ्वी से 35,900 किलोमीटर ऊपर कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर लिया गया था।

सैटेलाइट से लिंक जोड़ने की कोशिश जारी: इसरो
- इसरो ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर जीसैट-6ए के अपडेट में लिखा, “जीसैट-6ए सैटेलाइट को लैम इंजन फायरिंग की मदद से 31 मार्च की सुबह सफलतापूर्वक अपनी कक्षा में स्थापित कर दिया गया था। काफी देर तक चली फायरिंग के बाद जब सैटेलाइट सामान्य संचालन करने लगा, ठीक उसी वक्त तीसरी और आखिरी फायरिंग में सैटेलाइट से संपर्क टूट गया। सैटेलाइट से दोबारा संपर्क जोड़ने की कोशिशें जारी हैं।”

जीएसएलवी-एफ08 से लॉन्च किया गया था सैटेलाइट
- सबसे बड़ी कम्युनिकेशन सैटेलाइट्स में से एक जीसैट-6ए को को गुरुवार को लाॅन्च किया गया था। इसके लिए इसरो का जीएसएलवी-एफ08 रॉकेट की मदद ली गई थी।
- जीएसएलवी में इस बार नया इंजन लगाया गया था। बताया गया है कि भारत के दूसरे चांद मशन के लिए ये रॉकेट अहम होने वाला था।

- 10 साल की मिशन लाइफ वाले जीसैट-6ए से मोबाइल कम्युनिकेशन में बड़े सुधार की उम्मीद की गई है। सेना के लिए इसका बड़ा महत्व है।

पिछले साल भी फेल हुआ था इसरो का मिशन

- 31 अगस्त 2017 को इसरो का एक लॉन्चिंग मिशन फेल हो गया था। तब उसने पीएसएलवी-सी39 के जरिए बैकअप नेवीगेशन सैटेलाइट आईआरएनएसएस-1एच सैटेलाइट लॉन्च किया था। यह तकनीकी खामी की वजह से आखिरी स्टेज में नाकाम हो गया था।

GSAT-6A कैसा है?

- 270 करोड़ रुपए लागत

- 21.40 क्विंटल वजन

- 1.53X1.56X2.4 साइज

इसरो ने GSAT 6A से संपर्क टूटने की जानकारी रविवार को दी। इसरो ने GSAT 6A से संपर्क टूटने की जानकारी रविवार को दी।
Click to listen..