Hindi News »National »Latest News »National» Pakistan Warns Against Any Indian Cross-Border Raid After Kashmir Attack

बेबुनियाद इल्जाम लगाना भारत की आदत, वो सरहद पार कोई हरकत ना करे: PAK

जम्मू में सुंजवान आर्मी कैम्प पर हमले के बाद पाकिस्तान ने भारत को वॉर्निंग दी है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 12, 2018, 10:07 PM IST

  • बेबुनियाद इल्जाम लगाना भारत की आदत, वो सरहद पार कोई हरकत ना करे: PAK, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    सुंजवान में 10 फरवरी को आर्मी कैम्प पर आतंकियों ने अटैक किया। - फाइल

    इस्लामाबाद/श्रीनगर. जम्मू में सुंजवान आर्मी कैम्प पर हमले के बाद पाकिस्तान ने भारत को वॉर्निंग दी है। पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने कहा कि किसी भी मामले की सही तरीके से जांच शुरू होने से पहले ही गैरजिम्मेदाराना बयान देना और बेबुनियाद आरोप लगाना भारतीय अधिकारियों की आदत है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, PAK फॉरेन मिनिस्ट्री ने कहा, "हम इंटरनेशनल कम्युनिटी से अपील करते हैं कि वो भारत से इंडियन ऑकुपाइड कश्मीर (IoK) में अत्याचार और मानवाधिकारों का उल्लंघन बंद करे और लाइन ऑफ कंट्रोल के पार किसी भी तरह की हरकत (मिसएडवेंचर) से दूर रहे।" बता दें उड़ी अटैक और सीजफायर वॉयलेशन के जवाब में भारत दो बार लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) को पारकर पाकिस्तान ओरिएंटेड कश्मीर (PoK) में सर्जिकल स्ट्राइक कर चुका है।

    पाकिस्तान को ऐसा बयान क्यों देना पड़ा?

    - जम्मू-कश्मीर में 3 दिन के भीतर दो टेररिस्ट अटैक हुए। पहला हमला 10 फरवरी को तड़के जम्मू के सुंजवान में आर्मी कैम्प पर हुआ। यहां 5 जवान शहीद हुए और एक सिविलयन की जान गई। जवाबी कार्रवाई में 3 टेररिस्ट मारे गए। दूसरा हमला 12 फरवरी को श्रीनगर के सीआरपीएफ कैम्प पर हुआ। गोलीबारी में एक जवान शहीद हुआ।
    - जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी एसपी वैद ने कहा था कि हमने कुछ बातचीत को इंटरसेप्ट किया है, जो हमलों के पीछे जैश-ए-मोहम्मद (JeM) का हाथ होने का इशारा कर रहे हैं। हालांकि, मंगलवार को सुंजवान और सीआरपीएफ कैम्प पर हमले की जिम्मेदारी लश्कर-ए-तैयबा ने ली है।

    कब और क्यों की भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक?

    # सर्जिकल स्ट्राइक-1
    कब हुई:
    29 सितंबर 2016 को भारत ने LoC के पार PoK में सर्जिकल स्ट्राइक की। टेरर लॉन्च पैड को खत्म किया और 40 से ज्यादा आतंकियों को मार गिराया।
    क्यों हुई:18 सितंबर 2016 को उड़ी में आर्मी बेस पर टेरर अटैक हुआ था। इस हमले में 19 जवान शहीद हुए थे। भारत ने JeM का हाथ होने का आरोप लगाया था। हालांकि, इस हमले की जिम्मेदारी किसी आतंकी संगठन ने नहीं ली थी। सर्जिकल स्ट्राइक इसी के जवाब में अंजाम दी गई।

    #सर्जिकल स्ट्राइक-2
    कब हुई: 26 दिसंबर 2017 को भारतीय सेना के घातक दस्ते ने LoC पार कर 45 मिनट में 3 पाकिस्तानी सैनिकों को मारकर लौट आए थे। इस दस्ते में 5 कमांडो थे।
    क्यों हुई: 23 दिसंबर 2017 को राजौरी में हुए सीजफायर वॉयलेशन में 4 भारतीय जवान शहीद हुए थे। सर्जिकल स्ट्राइक-2 को उसी का नतीजा कहा गया।

    इस बार कहां हुए हमले?

    सुंजवान अटैक: 10 फरवरी को तड़के आतंकी आर्मी कैम्प में दाखिल हुए। हमले में 5 जवान शहीद हुए और एक सिविलियन की मौत हो गई। जवाबी कार्रवाई में आर्मी ने 3 टेररिस्ट ढेर कर दिए।

    जम्मू CRPF कैम्प:12 फरवरी की सुबह सीआरपीएफ कैम्प में आतंकियों ने अटैक किया। हमले में एक सीआरपीएफ जवान शहीद हो गया।

    ये भी पढ़ें:

    1) कश्मीर में 3 दिन में दो आतंकी हमले: लश्कर ने ली जिम्मेदारी, 6 जवान शहीद; फोर्स पर पथराव

    2) हम PAK से हर जंग जीते; आज हमारे जवान शहीद हो रहे हैं, इसलिए बातचीत ही रास्ता: महबूबा मुफ्ती

  • बेबुनियाद इल्जाम लगाना भारत की आदत, वो सरहद पार कोई हरकत ना करे: PAK, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    सुंजवान अटैक के दौरान आर्मी जवान।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Pakistan Warns Against Any Indian Cross-Border Raid After Kashmir Attack
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×