देश

--Advertisement--

पिछले साल घाटी में 126 युवाओं ने आतंकी गुटों को ज्वाइन किया, 2016 से 38 ज्यादा: महबूबा

2014 से कश्मीरी लड़कों का आतंकी बनना तेज हुआ। इस साल 54 युवा आतंकी बने। 2015 में 66, 2016 में 88 युवा आतंकी बने।

Dainik Bhaskar

Feb 06, 2018, 04:00 PM IST
जुलाई, 2016 में कश्मीर में हिजबुल आतंकी बुरहान वानी (दाएं) को फोर्स ने मार गिराया था। 2017 में वानी का ही साथी सब्जार अहमद भट (बाएं) भी मारा गया। (फाइल) जुलाई, 2016 में कश्मीर में हिजबुल आतंकी बुरहान वानी (दाएं) को फोर्स ने मार गिराया था। 2017 में वानी का ही साथी सब्जार अहमद भट (बाएं) भी मारा गया। (फाइल)

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में 2017 में 126 युवाओं ने आतंकी गुटों को ज्वाइन किया। ये आंकड़ा 2016 में युवाओं के आतंकी बनने से 88 ज्यादा है। जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को ये बात विधानसभा में कही। 2010 से कितने युवाओं ने आतंकी गुटों को ज्वाइन किया, इसका डाटा मौजूद है। वहीं, लोकसभा में गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने बताया कि 2017 में कश्मीर में घुसपैठ की घटनाएं हुईं और 75 आतंकी मारे गए।

नेशनल कॉन्फ्रेंस के सवाल पर महबूबा का जवाब

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक महबूबा ने विधानसभा में लिखित रूप से जवाब दिया, "2015 में 66, 2016 में 88 और 2017 में 126 युवाओं ने आतंकी गुटों को ज्वाइन किया।''
- नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता अली मोहम्मद ने लिखित में सवाल पूछा था कि घाटी में कितने युवा आतंकी बन चुके हैं।
- न्यूज एजेंसी ने दिसंबर में बताया था कि 2017 में कश्मीरियों ने पिछले सात सालों की तुलना में सबसे ज्यादा आतंकी गुटों को ज्वाइन किया है। हालांकि इस बात को जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद ने नकार दिया था।

कश्मीर के युवाओं का आतंकी गुटों में भर्ती होना बढ़ा

- पिछले साल मार्च में संसद में रखे गए डाटा के मुताबिक, 2014 से घाटी में युवाओं के हथियार उठाने की संख्या में इजाफा हुआ है।
- डाटा के मुताबिक, 2010 में 54 युवा आतंकी बने। अगले तीन सालों में युवाओं के आतंकी बनने में गिरावट आई। 2011 में कश्मीर में 23, 2012 में 21 और 2013 में महज 16 लड़के आतंकी बने।
- 2014 से कश्मीरी लड़कों का आतंकी बनना तेज हुआ। इस साल 54 युवा आतंकी बने। 2015 में 66, 2016 में 88 युवा आतंकी गुटों में भर्ती हुए।

बुरहान के एनकाउंटर के बाद युवा ज्यादा आतंकी बन रहे

- 8 जुलाई, 2016 को सिक्युरिटी फोर्स ने हिजबुल मुजाहिदीन आतंकी बुरहान वानी को एनकाउंटर में मार गिराया। बुरहान को कश्मीर का पोस्टर ब्वॉय माना जाता था।
- वहीं, सिक्युरिटी अफसरों का मानना है कि 1990 के दशक और आज के आतंकवाद में बदलाव आया है। पहले की बजाय आज के युवाओं में आतंकवाद की विचारधारा कहीं ज्यादा मजबूत हुई है।
- "घाटी में एक तरह से पैन-इस्लामिज्म का ट्रेंड रहा है। इसमें युवा आतंकवाद का रास्ता इसलिए पकड़ते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि वे मारे जा सकते हैं।''

कश्मीर में पिछले साल घुसपैठ की 515 घटनाएं हुईं

- रिजिजू ने कहा कि पिछले साल कश्मीर में घुसपैठ की 515 घटनाएं हुईं और 75 आतंकी मारे गए। 2016 में 45 आतंकी मारे गए थे।
- 2015 में घुसपैठ की 223 घटनाएं हुई थीं और 64 आतंकी मारे गए थे।
- रिजिजू ने कहा कि कश्मीर में सिक्युरिटी फोर्सेस आतंकवाद से निपटने के लिए पर्याप्त कदम उठा रही हैं।

नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता अली मोहम्मद के लिखित सवाल पर महबूबा ने विधानसभा में जवाब दिया। (फाइल) नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता अली मोहम्मद के लिखित सवाल पर महबूबा ने विधानसभा में जवाब दिया। (फाइल)
X
जुलाई, 2016 में कश्मीर में हिजबुल आतंकी बुरहान वानी (दाएं) को फोर्स ने मार गिराया था। 2017 में वानी का ही साथी सब्जार अहमद भट (बाएं) भी मारा गया। (फाइल)जुलाई, 2016 में कश्मीर में हिजबुल आतंकी बुरहान वानी (दाएं) को फोर्स ने मार गिराया था। 2017 में वानी का ही साथी सब्जार अहमद भट (बाएं) भी मारा गया। (फाइल)
नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता अली मोहम्मद के लिखित सवाल पर महबूबा ने विधानसभा में जवाब दिया। (फाइल)नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता अली मोहम्मद के लिखित सवाल पर महबूबा ने विधानसभा में जवाब दिया। (फाइल)
Click to listen..