--Advertisement--

पीएनबी फ्रॉड: मेरा पासपोर्ट रद्द हो गया, अब भारत लौटना संभव नहीं- मेहुल चौकसी का सीबीआई को लेटर

सीबीआई ने बैंक फ्रॉड मामले में मेहुल चौकसी को 7 मार्च तक पेश होने के लिए समन जारी किया था।

Dainik Bhaskar

Mar 08, 2018, 06:40 PM IST
पिछले महीने पीएनबी में 12,672 करोड पिछले महीने पीएनबी में 12,672 करोड

नई दिल्ली. पीएनबी में 12,672 करोड़ फ्रॉड के आरोपी और गीतांजलि ग्रुप के मालिक मेहुल चौकसी ने सीबीआई को 7 पन्नों का लेटर लिखा। इसमें चौकसी ने कहा कि खराब हेल्थ और पासपोर्ट रद्द किए जाने से अब भारत लौटना मुमकिन नहीं है। साथ ही चौकसी ने मनी लॉन्ड्रिंग केस की जांच कर रही सीबीआई और ईडी की आलोचना की। कहा कि जांच एजेंसियों ने गैर-कानूनी तरीके से फैमिली मेंबर्स को परेशान किया। बता दें कि देश में बैंकिंग इंडस्ट्री के सबसे बड़े फ्रॉड में हीरा कारोबारी नीरव मोदी, मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं। सीबीआई ने चौकसी को 7 मार्च तक पेश होने के लिए समन जारी किया था। दोनों आरोपी केस दर्ज होने के पहले ही देश छोड़ चुके हैं। 16 फरवरी को उनके पासपोर्ट रद्द कर दिए गए।

कैसे मैं भारत की सुरक्षा के लिए खतरा हूं

- मेहुल चौकसी ने लेटर में कहा, ''मैं कारोबार के सिलसिले में विदेश यात्रा पर हूं, जो मनी लॉन्ड्रिंग की एफआईआर दर्ज होने से पहले ही शुरू हो गई थी। अब पासपोर्ट रद्द हो जाने की वजह से मेरे लिए भारत लौटना असंभव है। पूछना चाहता हूं कि मैं कैसे भारत की सुरक्षा के लिए खतरा हूं? इस बारे में मुंबई के पासपोर्ट ऑफिस ने मुझे कोई वजह नहीं बताई।''

- ''मैं अपनी हेल्थ और अच्छे होने को लेकर परेशान हूं क्योंकि मुझे डर है कि भारत में मुझे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इसके बाद सरकारी अस्पतालों में मुझे बेहतर इलाज नहीं मिलेगा। जेल में बंद किसी आरोपी को उसकी पसंद का डॉक्टर नहीं मिलता। फिलहाल, मेरी हालत ऐसी नहीं है कि अगले 4 से 6 महीने ट्रैवल कर पाऊं।''

जांच एजेंसियों ने गैर-कानूनी तरीके से कार्रवाई की

- चौकसी ने आगे लिखा, ''जांच एजेंसियों ने मेरी प्रॉपर्टी और बैंक खाते सीज कर दिए। भारत में सभी ऑफिस बंद होने से बिजनेस पर चौपट हो गया। एजेंसियों ने पहले से तय सोच के मुताबिक, मेरे खिलाफ कानून का गलत इस्तेमाल किया। मुझे इंसाफ के लिए आजादी से मुकदमा लड़ने का मौका मिले।''
- ''मीडिया और जांच एजेंसियों ने मुझे परेशान करने के लिए फैमिली मेंबर्स को इस मामले में जबरन घसीटा है। मीडिया खुद ही इस मामले का ट्रायल करने लगी और आरोपों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया।''

नीरव मोदी पर 321 करोड़ की धोखाधड़ी का नया केस

- उधर, सीबीआई ने गुरुवार को पंजाब नेशनल बैंक फ्रॉड में नीरव मोदी के खिलाफ 321 करोड़ की धोखाधड़ी का एक और केस दर्ज किया। सीबीआई के मुताबिक, बैंक ने रविवार को नीरव के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। इसमें कहा गया कि नीरव ने 2013 से 2017 तक क्रेडिट सुविधाओं का फायदा उठाकर बैंक को 321 करोड़ रुपए का नुकसान पहुंचाया।

- इसके बाद नीरव के खिलाफ धोखाधड़ी का दूसरा केस दर्ज किया गया। एफआईआर में उसकी कंपनी फायरस्टार डायमंड के पूर्व प्रेसिडेंट विपुल अंबानी, रवि गुप्ता, कंपनी के कुछ और अधिकारी और कुछ अज्ञात बैंककर्मियों के नाम भी शामिल हैं।

क्या है पीएनबी घोटाला?

- पीएनबी ने पिछले महीने सेबी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को 11,421 करोड़ रुपए के घोटाले के जानकारी दी। घोटाला मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में हुआ। 2011 से 2018 के बीच हजारों करोड़ की रकम 297 फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LoUs) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई। इस मामले में सीबीआई ने पहली एफआईआर 14 फरवरी को दर्ज किया था।

- पीएनबी ने हाल ही में सीबीआई को बैंक में 1300 करोड़ के नए फ्रॉड की जानकारी दी थी। यह मेहुल चौकसी की कंपनी गीतांजलि जेम्स से जुड़ा है। इस तरह पीएनबी फ्रॉड 11,421 से बढ़कर 12,672 करोड़ हो गया है।

X
पिछले महीने पीएनबी में 12,672 करोडपिछले महीने पीएनबी में 12,672 करोड
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..