• Home
  • National
  • modi pays tribute to chhattisgarhs social activist late kunwar bai on the occasion of womens day
--Advertisement--

मोदी ने महिला दिवस के मौके पर कुंवर बाई को दी श्रद्धांजलि, कहा- वो बापू के सपने को पूरा करने में जुटी थीं

कुंवर बाई ने शौचालय बनवाने के लिए अपनी बकरियों को बेच दिया था।

Danik Bhaskar | Mar 08, 2018, 10:25 AM IST
मोदी ने लिखा- जिन महिलाओं से आपको प्रेरणा मिली हो, उनकी कहानियां शेयर करें। (फाइल) मोदी ने लिखा- जिन महिलाओं से आपको प्रेरणा मिली हो, उनकी कहानियां शेयर करें। (फाइल)

नई दिल्ली. आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है। इस मौके नरेंद्र मोदी ने छत्तीसगढ़ की सामाजिक कार्यकर्ता कुंवर बाई को श्रद्धांजलि दी। कुंवर बाई को स्वच्छ भारत अभियान का प्रतीक (मस्कट) बनाया गया था। कुंवर बाई ने शौचालय बनवाने के लिए अपनी बकरियों को बेच दिया था।


मोदी ने किए ट्वीट
- "मैं हमेशा उस पल को याद करता रहूंगा, जब मुझे छत्तीसगढ़ दौरे में कुंवर बाई से आशीर्वाद लेने का मौका मिला। वे हमारे दिलों में जिंदा हैं। वे हमेशा गांधीजी के स्वच्छ भारत के सपने को पूरा करने में जुटी रहीं।"
- #SheInspiresMe नाम से किए ट्वीट में मोदी ने कहा, "कुंवर बाई का 106 साल की उम्र में निधन हो गया था। पूरा छत्तीसगढ़ आपका सम्मान करता है। उन्होंने शौचालय बनवाने के लिए अपनी बकरियां बेच दीं। स्वच्छ भारत के लिए उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। उनके काम से मुझे काफी प्रेरणा मिली।"
- "कई महिलाओं ने मानव इतिहास के लिए बहुत योगदान दिया है। उनके इस काम से कई पीढ़ियों को प्रेरणा मिलेगी। मेरी आपसे अपील है कि जिन महिलाओं ने आपको प्रेरणा दी, उनके बारे में लिखें।"
- मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर कुंवर बाई का एक वीडियो भी शेयर किया। मोदी ने कुंवर बाई को मां कहकर संबोधित किया था और पैर छुए थे।

कौन थी कुंवर बाई?
- कुंवर बाई स्वच्छता की प्रेरणास्रोत बन गई थीं। घर में शौचालय बनवाने के लिए उन्होंने अपनी 8 बकरियों को बेचकर 22 हजार रु. जुटाए थे। इसके बाद वे पूरे देश में प्रसिद्ध हो गई थीं।
- धमतरी जिले की रहने वालीं कुंवर बाई का 106 साल की उम्र में निधन हो गया था।

छत्तीसगढ़ में एक रैली में मोदी ने कुंवर बाई से मुलाकात की थी और पैर छुए थे। (फाइल) छत्तीसगढ़ में एक रैली में मोदी ने कुंवर बाई से मुलाकात की थी और पैर छुए थे। (फाइल)