--Advertisement--

नगालैंड: बीजेपी गठबंधन की आज बनेगी सरकार, नेफ्यू रियो चौथी बार लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

शपथ ग्रहण समारोह में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और गृह मंत्री राजनाथ सिंह मौजूद रहेंगे।

Dainik Bhaskar

Mar 08, 2018, 09:01 AM IST
नेफ्यू रियो के साथ 11 कैबिनेट मं नेफ्यू रियो के साथ 11 कैबिनेट मं

कोहिमा. नगालैंड में गुरुवार को बीजेपी गठबंधन की सरकार बन गई। नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) के नेफ्यू रियो ने चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनके साथ 11 कैबिनेट मंत्रियों ने भी शपथ ली। पहली बार राजभवन से बाहर कोहिमा के लोकल ग्राउंड में शपथ ली गई। इसी मैदान से 1963 में राज्य के गठन का एलान किया गया था। शपथ ग्रहण के दौरान बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय मंत्री किरण रिजीजू और बीजेपी महासचिव राम माधव मौजूद रहे। बता दें कि नॉर्थन अंगामी-II सीट से रियो निर्विरोध चुने गए थे।

पहली बार राजभवन से बाहर हुआ शपथ ग्रहण

- नगालैंड में नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री और कैबिनेट मंत्रियों ने कोहिमा के लोकल ग्राउंड में शपथ ली।

- यह पहला मौका था, जब नगालैंड में सरकार का शपथ ग्रहण राजभवन से बाहर हुआ। रियो पहले नेता बने, जिन्होंने राजभवन से बाहर शपथ ली।

- यह ग्राउंड इस मायने में अहम है कि 1 दिसंबर, 1963 को यहीं से तत्कालीन राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने नागालैंड राज्य के गठन की घोषणा की थी।

रियो को क्यों मिली जिम्मेदारी?
उम्र:
67 साल
सीट: नॉर्दर्न अंगामी-2, निर्विरोध चुने गए

- नगालैंड में 15 साल नेशनल पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) की सरकार रही। पहले इसे बीजेपी का समर्थन था। इसमें रहते हुए नेफ्यू रियो तीन बार राज्य के सीएम रहे।
- एनपीएफ से टूटकर नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) बनी। अब बीजेपी इसके साथ है। रियो इसी खेमे में हैं।

दीमापुर से थे त्रिपुरा के इकलौते सांसद

- 2014 में जिन दो मुख्यमंत्रियों ने लोकसभा चुनाव लड़ा था उनमें एक नरेंद्र मोदी और दूसरे रियो थे। रियो ने त्रिपुरा की दीमापुर सीट से चुनाव लड़ा था।
- वे राज्य से नगा समस्या खत्म करने का वादा करके केंद्र में गए थे। त्रिपुरा से वे इकलौते सांसद थे। इस पद से इस्तीफा देने के बाद उन्होंने राज्य में वापसी की।

नगालैंड में किसे कितनी सीटें मिलीं?
बहुमत: 31/60
2013: एनपीएफ जीता था।

पार्टी 2018 के नतीजे 2013 में सीटें फायदा/नुकसान 2013 में वोट शेयर 2018 में वोट शेयर
एनपीएफ 27 38 -11 47.2% 39.1%
कांग्रेस 00 08 -8 25% 2.1%

बीजेपी+

एनडीपीपी

28 (12+16) 01 +26 1.8% (बीजेपी 14.4+ एनडीपीपी 25.5%) = 39.9%
अन्य 04 13 -9 26% 18.9%

- इस बार एनडीपीपी ने 40, बीजेपी ने 20 सीटों पर चुनाव लड़ा था। एनपीएफ 59 सीटों पर मैदान में था।

- बीजेपी-एनडीपीपी गठबंधन को कुल 28 ( बीजेपी-12+एनडीपीपी-16) सीटें मिली हैं। निर्दलीय और जेडीयू के 1-1 विधायक बाहर से समर्थन दे रहे हैं।

जेलियांग ने पहले मना किया फिर इस्तीफा दिया

- राज्य के मुख्यमंत्री टीआर जेलियांग ने पहले इस्तीफा देने से मना कर दिया था। एनपीएफ ने कहा था, "सरकार बनाने के लिए जरूरी संख्या जुटाने की कोशिश की जा रही है।"

- हालांकि, बुधवार को उन्होंने राज्यपाल पीबी आचार्य को अपना इस्तीफा सौंप दिया। राज्यपाल ने उन्हें अगली सरकार बनने तक कामकाज संभालने को कहा।

X
नेफ्यू रियो के साथ 11 कैबिनेट मंनेफ्यू रियो के साथ 11 कैबिनेट मं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..