Hindi News »National »Latest News »National» PM Narendra Modis Live Motion Of Thanks Speech To President Address In Rajya Sabha - कांग्रेस मुक्त भारत का विचार मेरा नहीं है, ये तो गांधी का विचार था- राज्यसभा में नरेंद्र मोदी

कांग्रेस मुक्त भारत का विचार मेरा नहीं है, ये तो महात्मा गांधी का था: राज्यसभा में नरेंद्र मोदी

लोकसभा और राज्यसभा में मोदी ने राष्ट्रपति के बजट अभिभाषण पर करीब 2 घंटा 30 मिनट तक स्पीच दी।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Feb 07, 2018, 07:05 PM IST

  • कांग्रेस मुक्त भारत का विचार मेरा नहीं है, ये तो महात्मा गांधी का था: राज्यसभा में नरेंद्र मोदी, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा में अपनी बात रखी।

    नई दिल्ली.राष्ट्रपति के बजट अभिभाषण पर नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लोकसभा और राज्यसभा में धन्यवाद दिया। दोनों सदनों में करीब 2 घंटे 30 मिनट तक मोदी बोले। लोकसभा की तरह राज्यसभा में भी कांग्रेस की पहले की सरकारों पर मोदी ने तंज कसे और सवाल उठाए। मोदी ने कहा, "आजादी के बाद गांधी ने कांग्रेस के बिखर जाने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि अब कांग्रेस की कोई जरूरत नहीं है। कांग्रेस मुक्त भारत गांधी का विचार था, हमारा नहीं।"

    मोदी की स्पीच की 21 अहम बातें

    1) 50 साल सत्ता में रहने के बाद जमीन से कटना स्वाभाविक है

    - नरेंद्र मोदी ने कहा- "आपने आयुष्मान योजना की तुलना अमेरिका और ब्रिटेन से की। उनका स्ट्रक्चर अलग है। करीब 50 साल सत्ता में रहने के बाद जमीन से कट जाना बड़ा स्वभाविक है। मैं नहीं मानता कि आपके (गुलाम नबी आजाद) हेल्थ मिनिस्टर रहने के बाद अब बहुत कुछ करने की जरूरत है। मैं सोचता हूं कि अगर इस योजना में कोई कमी है तो मैं इसे दूर करने के लिए आपको समय दूंगा।''
    - ''आप जैसी हमारी सोच नहीं है। सदन में हमसे भी विद्वान लोग हैं। हम सब बैठकर देश के 40 करोड़ लोगों के लिए एक अच्छी व्यवस्था शुरू कर सकते हैं क्या?'' एक योजना का विचार प्रस्तुत हुआ है। अच्छे सुझाव आएं। जो मेरी स्पीच सुनते होंगे टीवी पर वे भी अपने सुझाव दें। देश के गरीब के लिए योजनाएं हैं, इसमें कोई दल नहीं होता है।"

    2) यहां बैठने वाले को 9 दिखेगा, लेकिन वहां बैठने वाले को 6

    -"ये बात सही है कि अगर मैं यहां बैठकर अंग्रेजी में लाइन लिखता हूं तो यहां बैठने वाले को 9 दिखेगा, लेकिन वहां बैठने वाले को 6 दिखेगा। आज इसलिए मैं समझता हूं कि कोई मुझे बताए कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में सुधार होता है तो हमें दुख क्यों होना चाहिए। क्या देश के हर नागरिक को गर्व नहीं होना चाहिए?''

    - ''हमने किया, आपने किया.. वो मुद्दा जब चुनाव में जाएंगे तो खेल खेल लेंगे। हम यहां तक चले जाते हैं कि रेटिंग एजेंसी पर ही हमला बोल देते हैं। आपको बीजेपी की जमकर आलोचना करो, मोदी की आलोचना करो, लेकिन बीजेपी की बुराइयां करते-करते आप भारत की बुराई करने लग जाते हैं।"

    3) हमें न्यू इंडिया लेकिन आपको पुराना भारत चाहिए

    - "जहां तक बीजेपी और मोदी का विरोध करते हैं, राजनीति में ये आपका हक है और आपको करना भी चाहिए। लेकिन, आप मर्यादा लांघ देते हैं, इससे देश को नुकसान होता है। आप कभी ये स्वीकार नहीं कर पाएंगे कि हमारे जैसे लोग यहां बैठे हैं, आप कभी नहीं कर पाएंगे। मैं आपकी पीड़ा समझ सकता हूं।''

    - ''एक विषय आया कि राष्ट्रपति जी ने अपने भाषण में न्यू इंडिया की कल्पना की। विवेकानंद, महात्मा गांधी, पूर्व राष्ट्रपति भी ऐसी ही कल्पना करते थे। पता नहीं क्या परेशानी है, आप कहते हैं कि हमें पुराना भारत चाहिए।"

    4) आपको कौन सा भारत चाहिए?

    -"हमें महात्मा गांधी वाला भारत चाहिए। मुझे भी गांधी वाला भारत चाहिए, क्योंकि गांधी ने कहा था कि आजादी मिल चुकी है और अब कांग्रेस की कोई जरूरत नहीं है। कांग्रेस को बिखर जाना चाहिए। कांग्रेस मुक्त भारत मोदी का नहीं गांधी का विचार है। हम उन पद चिह्नों पर चलने का प्रयास कर रहे हैं। आप कहते हैं कि हमें तो वो वाला भारत चाहिए। क्या सेना पनडुब्बी घोटाले, बोफोर्स घोटाले वाला, हेलिकॉप्टर घोटाले वाला भारत चाहिए?''

    - "आपको इमरजेंसी वाला भारत चाहिए? जेपी, मोरारजी को देश में बंद करने वाला भारत चाहिए। लोकतांत्रिक अधिकार छीन लेना, अखबारों को बंद करने वाला भारत चाहिए। बड़ा पैर गिरने के बाद हजारों सिखों का कत्ल आम हो जाए, आपको न्यू इंडिया नहीं चाहिए आपको भारत चाहिए.. वो भारत चाहिए। आपको वो भारत चाहिए जहां रसूखदार लोगों के आगे प्रशासन घुटने टेकता हो। हजारों लोगों की मौत के जिम्मेदार को विमान में बिठाकर देश के बाहर ले जाया जाए, वो भारत चाहिए? दावोस में आप भी गए थे, हम भी गए थे.. लेकिन आप किसी की चिट्ठी लेकर किसी को भेजते हैं.. वो भारत चाहिए? आपको न्यू इंडिया नहीं चाहिए।"

    5) हम ऐम चेजर हैं, नेम चेंजर नहीं

    - "आपने जनधन योजना की भी आलोचना की। आपने कहा कि ये पहले हुआ था। आप तथ्यों को स्वीकार करें। जो हम 31 करोड़ जनधन अकाउंट की बात करते हैं, वे सारे 2014 में हमारी सरकार बनने के बाद बने हैं, वो हैं। मैं चाहता हूं कि आप तथ्यों को जरा ठीक कर लें तो अच्छा होगा।''

    - ''आपने ये भी कहा कि हम तो नेम चेंजर हैं, गेम चेंजर नहीं। हमारे काम देखेंगे और सच्चाई से कहना होगा तो कहेंगे कि हम तो ऐम चेजर हैं। हम लक्ष्य का पीछा करने वाले लोग हैं और उसे प्राप्त करके रहेंगे। हम लक्ष्य तय करते हैं और उसे वक्त के भीतर प्राप्त करने के लिए रोडमैप तैयार करते हैं।''

    6) वाजपेयी सरकार में रखी गई थी आधार की नींव

    - "अब आधार की बात आती है तो आप कहते हैं कि काम हमारा और क्रेडिट आप ले रहे हैं। अच्छा है ये। 7 जुलाई 1998 इसी सदन में वेंकैया जी ने सवाल पूछा था। तब गृहमंत्री आडवाणी जी ने जवाब दिया था। कहा था- मल्टीपर्पज नेशनल आइडेंडिटी कार्ड, जिसका इस्तेमाल, पासपोर्ट, राशनकार्ड, स्कूल, जनरल-लाइफ इंश्योरेंस जैसी चीजों के लिए इस्तेमाल होगा। आधार का बीज यहां है। कांग्रेस कहती है कि आधार उसने शुरू किया तो हमें आपको क्रेडिट देने में तकलीफ नहीं है। आधार आपका है। हमनें आगे देश को रखा है। हमारे फैसलों का आधार देशहित रहता है।''

    7) आप बर्फ का छूरा बनाकर भोंक दें किसी को पता भी ना चले

    - "कालेधन के खिलाफ कार्रवाई करने का क्रेडिट भी कांग्रेस स्वीकार कर ले। कांग्रेस बेनामी संपत्ति लागू नहीं किया था, उसका क्रेडिट भी ले ले। अब तक 3500 करोड़ से ज्यादा बेनामी संपत्ति (आनंद शर्मा जी आपकी बोलने की स्टाइल है विशेष, आप बर्फ का छूरा बना कर भोंक दें किसी को पता भी ना चले।) जब्त की है। क्रेडिट मिलना चाहिए। सारी दुनिया बदली है, सॉल्वेंसी कोड, बैंकरप्सी लॉ। ज्ञान नहीं था ये नहीं मानता, लेकिन क्रेडिट आपको जाना चाहिए।"

    8) रेलवे के बजट में घोषणाएं बंद कर दीं हमने

    - "बार-बार चुनाव का नतीजा है कि योजना पूरी बनी हो या ना हो, हम पत्थर जड़ देते हैं। हमने रेलवे के बजट में घोषणाएं बंद कर दीं। जब मैंने देखा कि पुरानी सरकारों ने 1500 ऐसी रेलवे योजनाएं घोषित कीं, जिन्हें देखने वाला कोई नहीं था। इस कल्चर से देश का नुकसान हुआ है। मैंने एक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हुए इनिशिएटिव लिया, सारे रुके हुुए प्रोजेक्ट का रिव्यू करने लगा। ऐसे-ऐसे प्रोजेक्ट सामने आए जो 30-40 साल पहले तय हुए, शिलान्यास हुआ और बाद में कागज पर उसकी लकीर भी नहीं थी।"

    9) सब जगह पत्थर हैं, नाम हैं... कुछ पत्थर चोरी भी चले गए

    - “सरकार में ऐसे नहीं चलता है कि ये काम तो उसके वक्त का है, ताला मारो। 9 लाख करोड़ के ऐसे प्रोजेक्ट शुरू किए हैं, जो सालों से बंद थे। उस वक्त होता तो कुछ हजार करोड़ में होता। सरकार आपने भी चलाई, हम भी चला रहे हैं, लेकिन चीजों को अच्छे ढंग से चलाते तो ठीक होता। सब जगह पत्थर हैं, नाम हैं.. कुछ पत्थर चोरी भी चले गए।''

    - ''क्रेडिट सब आपको जाता है। आजाद साहब ने फूड सिक्योरिटी बिल की बात डेट के साथ की। आपने जो डेट दी, हम तो उसके एक साल बाद आए। एक साल में आपने क्या किया। आपने सुप्रीम कोर्ट का हवाला देते हुए पूछा। केरल जहां आपकी सरकार थी, वहां आपने स्वीकार नहीं किया था, एससी ने डंडा मारा था।”

    10) सरदार पटेल का जिक्र किया

    - “फर्टिलाइजर के कारखाने खोलने के वक्त आपने कहा कि हमारे वक्त हुआ, बंद भी तो आपके वक्त हुआ। उसका भी क्रेडिट लीजिए, जो हजारों लोग बेरोजगार हुए। हमने यूपी-बिहार में यूरिया के कारखाने खोले, गैस पाइपलाइन का काम शुरू किया। ये वो इलाके हैं, जहां से पूर्वी भारत के विकास की संभावनाएं बढ़ती हैं। देश के लिए जरूरी है कि पूर्वी भारत का विकास होना चाहिए। मुझे विश्वास है कि आप एप्रिशिएट करेंगे।''

    - ''अमित शाह का भाषण हुआ, आजाद जी ने ये खोजकर निकाला कि आपने इतनी स्पीच दी और सरदार पटेल का नाम नहीं लिया। सरदार पटेल कांग्रेस पार्टी की हर लिट्रेचर में थे। मुझे अच्छा लगा कि बहुत सालों बाद ये दिन भी आया। गुजरात का चुनाव खत्म होते ही, आपके पार्टी के कार्यक्रम में पुराने चित्र देख सकते हैं कि बैकड्रॉप में कहीं सरदार पटेल का चित्र नहीं है। एक हफ्ते बाद कार्यक्रम हुआ और सरदार साहब गायब हैं। बाबा साहेब अंबेडकर और पटेल साहब को भारत रत्न कब मिला, इतना समय बीत गया। जब आप विषय उठाते हैं तो चार उंगलियां खुद की तरफ होती हैं, ये आप ना भूलें।”

    आगे की स्लाइड में पढ़ें- राज्यसभा में मोदी की स्पीच के 11 और प्वाइंट...

  • कांग्रेस मुक्त भारत का विचार मेरा नहीं है, ये तो महात्मा गांधी का था: राज्यसभा में नरेंद्र मोदी, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    राज्यसभा में मोदी एक घंटे से ज्यादा वक्त तक बोले।

    11) बारीकियों मे जाने की आदत काम आई

    -“हो सकता है कि आपकी कार्यशैली में बारीकियों में जाने का स्वभाव नहीं है। हम सब जो सीएम रहे, उन्हें पता है कि बारीकियों में जाना पड़ता है। मेरे जिम्मे अब बड़ा काम है, मेरी वो आदत काम आ रही है। हमने 40-50 साल नहरें नहीं बनाईं। यानी 6 मंजिला मकान बनाए और लिफ्ट सीढ़ी ना हो। मैंने ऐसी 99 परियोजनाओं को पहचाना, 50 पूरी हो चुकी हैं और बाकी जल्द से पूरी हों... उस पर काम चल रहा है। आपकी सोच अधूरी, काम अधूरा, रुपए गए और परिणाम नहीं मिला। आपके वक्त जो काम शुरू हुए, वो पूरे हुए होते तो देश का भला होता।”

    12) किसानों का आय दोगुना करने में किसे एतराज?

    - “हमारी सरकार ने आउटकम पर फोकस किया है। रुपया जिस काम के लिए निकला था, उसी काम पर खर्च हुआ कि नहीं। मैं हैरान हूं कि किसान की आमदनी दोगुना करने में किसे ऐतराज हो सकता है। यहां हर व्यक्ति के दिल में है, जो चाहता है कि ये काम करना है। अब ये कैसे होगा, जमीन के टुकड़े बढ़ते जा रहे हैं।''

    - ''किसान सोचता था कि बिना पानी भरे गन्ना हो ही नहीं सकता। अब स्प्रिंकलर से गन्ने की खेती हो रही है। केले की खेती में फल मिलने के बाद जो तना खड़ा रहता था, उसके लिए पैसा देना पड़ता था। हमने उससे फाइबर, कपड़े बनाए। सूखी जमीन में काटकर डाल दिया जाए तो 90 दिन तक पेड़-पौधे बढ़ सकते हैं। आज उसे लेने के लिए लोग 10-15 हजार रुपए एकड़ दे रहे हैं। एग्रीकल्चर के वेस्ट पर ही बल दें तो किसान की आमदनी बढ़ सकती है।”

    13) हमारा शहद अब दुनिया में जा रहा है

    - “किसान संपदा योजना हम लाए। लाखों-करोड़ों रुपए खेत से लेकर मार्केट तक के वीक प्वाइंट सुधारने पर खर्च हो रहे हैं। हम उस दिशा में काम कर रहे हैं। ईनाम योजना अभी शुरू हुई है। 36000 रुपए का कारोबार ऑनलाइन किया है किसानों ने। किसान अगर हरी मिर्च बेचता है तो कम मिलता है। लाल मिर्ची बेचे, उसका पाउडर बेचे तो मुनाफा बढ़ता है।''

    - ''आज खेत के अंदर सोलर एनर्जी का प्लांट, सोलर पंप, जोड़कर आमदनी बढ़ाई जा सकती है। बिजली राज्य सरकार खरीद सकती है। 90 साल से कानून बना दिया कि बांस पेड़ है और कोई काट नहीं सकता है। सारी दुनिया में बांस को घास बोला जाता है। हमने इसे बदला। आज किसान बांस की खेती कर सकता है, उससे नुकसान नहीं है।''

    - ''आज हजारों करोड़ का एक्सपोर्ट होता है। छोटे से फैसले से किसान की आय बढ़ने की ताकत मिलती है। मधुमक्खी के क्षेत्र में कितना काम हो सकता था, हम नहीं कर पाए। हमने शहद के उत्पादन में 38 फीसदी बढ़ोतरी की, हमारा शहद दुनिया में जा रहा है।”

    14) ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा मिले

    - ''हम सब कोशिश करेंगे तो परिणाम मिलेगा। आज देश में स्वच्छ भारत अभियान, मेक इन इंडिया, योग दिवस का मजाक उड़ रहा है, सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठ रहे हैं। आप मुझे बताइए कि ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा मिले, कौन इसका विरोध करेगा। पूरा विरोध करने की हिम्मत नहीं होती है।''

    - ''जनता का सामना करने की ताकत नहीं होती है। ओबीसी जागरुक हुआ है, हक के लिए सामने आया है। आप खुलेआम बोलने की हिम्मत नहीं करते हैं। देश का ओबीसी समाज अपना हक मांगता है तो उसे पारित करें।''

    15) तीन तलाक पर क्या बोले मोदी?

    - ''तीन तलाक! आप जिस तरह का कानून चाहते हैं, 30 साल पहले आपके सामने मामला आया था। आपके मंत्री ने कहा था कि ये आना चाहिए, आपके मंत्री और मिशन को बाहर जाना पड़ा। हिंदू दो शादी करे, दो साल जेल जाए और सजा हो... तब ये ख्याल नहीं आया।''

    - ''कभी-कभी मुझे लगता है कि नरेश जी ने हमदर्दी दिखाई थी, वो चीरहरण कर रहे थे। हमने तो 15 साल तक क्या झेला है, हमें मालूम है। लेकिन, कानून अपना काम करे या ना करे। इस तरह की बातें कानून का उपहास है कि नहीं? जब आप कहते हैं कि मदद करो तो दुष्यंत की कविता याद आती है- उनकी अपील है कि उन्हें हम मदद करें, चाकू की पसलियों से गुजारिश तो देखिए।''

    16) मैंने लालकिले से बेटियों के लिए आवाज उठाई

    - ''महिलाओं पर अत्याचार। ये कांग्रेस-बीजेपी दूसरी पार्टियों का विषय हो ही नहीं सकता। जो चिंता आपने जताई, वो स्वाभाविक है। मैंने लालकिले से कहने की हिम्मत की कि बेटियों के लिए तो बहुत कुछ कहा जाता है कोई तो बेटे से पूछे कि देर से क्यों आता है, कहां जाता है।''

    - ''क्या माताओं-पिताओं-शिक्षकों को झकझोर नहीं सकते। वो किसी ना किसी का तो बेटा है जो बेटी की अस्मत लेता है। क्या एक स्वर में हम ये नहीं कर सकते। उज्ज्वला योजना महिला सशक्तिकरण का बहुत बड़ा काम है। क्लीन कुकिंग, सोलर चूल्हे जैसे इनोवेशन हो ताकि गरीब का खर्च ना हो।''

    17) लोगों का बिहेवियर बदलना चाहिए

    - ''यहां चर्चा हुई कि स्वच्छ भारत के विज्ञापन पर इतना खर्चा हुआ। आप सरकार में रहे, सार्वजनिक जीवन में जीते हैं। शौचालय-स्वच्छता का विषय है। इन्फ्रास्ट्रक्चर से ज्यादा ये बिहेवियर का विषय है। आप जब सरकार में थे, तब भी यही इश्यू था कि बिहेवियर चेंज में आने तक परिवर्तन नहीं आता।''
    - ''बिहेवियर चेंज के लिए छोटी-छोटी घटनाओं से लोगों को शिक्षित करने का काम हो रहा है। गरीब आदमी के पैसों से खजाने में जो आया, वो परिवार के लोगों के जन्मदिन पर अखबारों पर एक-एक पन्ने के विज्ञापन पर खर्च हुए। स्वच्छ भारत बिहेवियरल चेंज के लिए है और इसे खर्च करना होगा। आप अपनी राज्य सरकारों से भी कहें कि ये खर्च करें।''

    18) वेंकटरामन ने कहा था- कांग्रेस का खर्च कमीशन से चलता है

    - ''आजाद साहब ने बोफोर्स के मुद्दे को विस्तार से कहा और क्रेडिट लेने की कोशिश की। मैं कांग्रेस के वरिष्ठ मंत्री और बाद में राष्ट्रपति आर. वेंकटरमन जी की आत्मकथा का हिस्सा है। उन्होंने टाटा से मुलाकात का जिक्र किया और कहा- तोप और दूसरे रक्षा सौदों में लाभ हुआ हो या नहीं, लेकिन इसे नकारना मुश्किल होगा कि कांग्रेस को कमीशन नहीं मिला। उन्हें लगता था कि 1980 के बाद से उद्योगपतियों से चंदा नहीं मांगा गया है और पार्टी का खर्चा ऐसे सौदों से मिलने वाले कमीशन से चलता है। वे बड़े वरिष्ठ नेता रहे हैं।''
    - ''यहां पर कभी परिवारवाद की बात आई तो बड़ा दुख हुआ, गुस्सा भी हुआ। मैं भी नहीं चाहता कि किसी की राजनीति को चोट पहुंचे। आप के ही एक महाशय ने कहा- सल्तनत गॉन, बट वी बिहेव लाइक सुल्तान। सुल्तानी तो गई, लेकिन हम अभी भी सुल्तान की तरह व्यवहार कर रहे हैं। मैं जयराम रमेश जी के खुलेपन के लिए बधाई देता हूं।''

    19) गरीब-मध्य वर्ग को मकान बनाने के लिए सब्सिडी दी
    - ''महंगाई का सबसे बड़ा असर निम्न-मध्यम वर्ग पर होता है। हमने कोशिश की है कि महंगाई 2 से 6 फीसदी के बीच नियंत्रित रखें। जिस तेजी से बढ़ रही थी, वैसे बढ़ती तो निम्न और मध्यम वर्ग का जीना मुश्किल हो जाता। हमने इन परिवारों को बचाने का काम किया। गरीब-मध्यमवर्ग अपने घर बनाना चाहता है तो बैंक ब्याज में कटौती और सब्सिडी देने का काम किया है।''
    - ''पीएम आवास योजना में नई कैटेगिरी लाए हैं और 9 लाख के कर्ज में 4 फीसदी की छूट दी है। 12 लाख के मकान में 3 फीसदी ब्याज में रियायत देने का काम किया है। गांव में पुराने घर हैं, उन्हें बढ़ाना है तो 2 लाख तक कर्ज में 3 फीसदी रियायत दी है। ये सारी चीजें मध्यम, निम्न मध्यम वर्ग को अपनी आशाएं पूरी करने में मदद करेंगे। हमने रियल एस्टेट रेगुलेटरी एक्ट के तहत भी सुरक्षा दी।''

    20) जनता के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए योजना बनाईं

    - ''हमने कंज्यूमर प्रोटेक्शन, कंज्यूमर एम्पावरमेंट पर जोर दिया। सस्ती दवाएं मिलने के लिए राष्ट्रीय जन औषधि लाए। 800 दवाओं के दाम कम किए। ऑपरेशन, स्टेंट का खर्च कम किया। डायलिसिस पर मिशन मोड में काम किया। 500 से अधिक जिलों में नॉमिनल चार्ज से डायलिसिस का मूवमेंट चलाया।''
    - जानकारी है कि 22 लाख से ज्यादा डायलिसिस के सेशन हैं। ये मानवता के काम है, हमने इन पर जोर दिया है। एलईडी से जो लाभ हुआ, वो आप जानते हैं। करीब 15 हजार करोड़ रुपए बच रहे हैं।''

    21) एक साथ चुनाव कराने पर क्या बोले मोदी?

    - ''राष्ट्रपति जी ने स्पीच में लोकसभा-विधानसभा चुनाव साथ कराने का जिक्र किया। प्रणब दा ने भी कहा था। ये हम सभी का काम है। हम सब हिम्मत करके एक स्वस्थ परंपरा की दिशा में जा सकते हैं क्या? 1967 तक लोकसभा-विधानसभा साथ हुए। एकाध अपवाद हो सकते हैं। तब कोई तकलीफ नहीं हुई। बाद में राजनीतिक कारणों से असंतुलन पैदा हुआ। अब एक चुनाव के बाद दूसरे चुनाव की तैयारी शुरू हो जाती है। चुनाव के वक्त तूतू-मैंमैं ठीक है।''
    - ''चार-साढ़े चार तक देश के लिए कामों पर चर्चा हो। 2009 में चुनाव पर एक हजार करोड़ खर्च हुआ, 2014 में चार हजार करोड़ खर्च हुआ। उसके बाद असेंबली में 3 हजार करोड़ खर्च हुए। भारत में गरीबों के लिए करना हमारी जिम्मेदारी है। हमारे यहां एक करोड़ से ज्यादा लोग 9 लाख 30 हजार पोलिंग स्टेशन पर जाते हैं। सिक्युरिटी फोर्सेस सुरक्षा में लगते हैं। इसमें मतभेद हो सकते हैं, लेकिन मिलकर रास्ता खोजें और इसे आगे बढ़ाने में सफल हो सकते हैं।''

Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: PM Narendra Modis Live Motion Of Thanks Speech To President Address In Rajya Sabha - कांग्रेस मुक्त भारत का विचार मेरा नहीं है, ये तो गांधी का विचार था- राज्यसभा में नरेंद्र मोदी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×