• Home
  • National
  • Padmaavat ban by Haryana government says minister Anil Vij
--Advertisement--

पद्मावत 25 जनवरी को हरियाणा में रिलीज नहीं होगी, राजस्थान समेत 3 राज्यों में पहले ही बैन

पद्मावत पर हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश की सरकारें बैन लगा चुकी हैं। फिल्म 25 जनवरी को यहां रिलीज नहीं होगी।

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 03:23 PM IST
सेंसर बोर्ड के सुझाव के बाद फिल्म का नाम पद्मावती से पद्मावत कर दिया गया है। -फाइल सेंसर बोर्ड के सुझाव के बाद फिल्म का नाम पद्मावती से पद्मावत कर दिया गया है। -फाइल

नई दिल्ली. संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावत' 25 जनवरी को हरियाणा में रिलीज नहीं होगी। मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि कैबिनेट मीटिंग में फिल्म पर रोक लगाने के फैसले को मंजूरी दी गई। फिल्म के विरोध में राजपूत करणी सेना ने राजस्थान के धौलपुर में रैली निकाली। राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश की सरकारें पहले ही रिलीज पर रोक लगा चुकी हैं। उत्तर प्रदेश और गोवा में पद्मावत दिखाए जाने पर स्थित अभी साफ नहीं है। दूसरी ओर, फिल्म मेकर्स ने रविवार को पद्मावत की ऑफिशियल रिलीज डेट का एलान किया था। बता दें कि पद्मावत पर पिछले काफी समय से विवाद हो रहा है। सेंसर बोर्ड इसे बिना किसी कट के रिलीज करने की बात कह चुका है।

हरियाणा कैबिनेट ने लगाई फिल्म पर रोक

- मंत्री अनिल विज ने कहा, ''मुख्यमंत्री ने पहले ही कहा था कि फिल्म को सेंसर बोर्ड के पास करने पर कोई फैसला लिया जाएगा। आज की मीटिंग में मैंने कहा कि लॉ एंड ऑर्डर को देखते हुए राज्य में पद्मावत पर रोक लगाई जानी चाहिए। कैबिनेट ने इस बात को सपोर्ट किया और फिल्म को रिलीज नहीं करने का फैसला लिया है।''

कालवी बोले- देशभर में बैन हो पद्मावत

- उधर, राजस्थान के धौलपुर में करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने फिल्म के विरोध में रैली निकाली। यहां राजपूत करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी ने पद्मावत की रिलीज को लेकर कहा, ''मैंने बार-बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अनुरोध करता हूं कि हमारी भावनाओं को समझा जाए। हम फिल्म पर पूरे देश में बैन के सिवाय कुछ नहीं चाहते।''

IMAX 3D में रिलीज होगी पद्मावत

- पद्मावत के मेकर्स भंसाली प्रोडक्शन और वायाकॉम 18 मोशन पिक्चर्स ने रविवार को बताया था कि फिल्म को दुनियाभर में एक साथ IMAX 3D में रिलीज किया जाएगा। यह तीन भाषाओं- हिंदी, तमिल और तेलुगु में रिलीज की जाएगी।

रिलीज को लेकर अभी कहां-क्या हालात?

1. राजस्थान में शुरू से था विरोध, रिलीज भी नहीं होगी
- फिल्म जब से बननी शुरू हुई तभी से राजस्थान में इस फिल्म के रिलीज होने पर संशय था। राजपूत करणी सेना के विरोधी सुरों में राज्य सरकार ने सुर में सुर मिलाए थे।
- अब सेंसर बोर्ड से पास होने, कई कट लगने और नाम बदलने के बाद भी राजस्थान सरकार इस फिल्म की रिलीज को तैयार नहीं है।
- राजस्थान के गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा है कि राजस्थान में पद्मावत रिलीज नहीं होगी।
- इससे पहले मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को लेटर लिखकर कहा था कि वह पद्मावती विवाद में हस्तक्षेप करें। इसमें मुख्यमंत्री ने लिखा था कि फिल्म को रिलीज करने से पहले उसके विवादित अंश हटा दिए जाएं।

2. गुजरात में भी बैन

- राजस्थान के बाद गुजरात सरकार ने भी इस फिल्म को रिलीज न करने का फैसला लिया है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि संजय लीला भंसाली की पद्मावत गुजरात में रिलीज नहीं की जाएगी।
- एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में रूपाणी ने कहा कि यह कानून-व्यवस्था से जुड़ा मामला है और मौजूदा हालात में फिल्म को गुजरात में रिलीज नहीं किया जाएगा।

3. मध्य प्रदेश में भी नहीं दिखेगी

- शिवराज सिंह ने एलान किया कि मध्‍यप्रदेश में पद्मावत नहीं दिखाई जाएगी। शिवराज ने भी इसे कानून-व्यवस्था के साथ जोड़ा।
- चौहान ने कहा कि हम अपने फिल्म को न दिखाने के अपने स्टैंड पर कायम हैं। राज्य में यह फिल्म रिलीज नहीं होगी।

4. गोवा में सरकार राजी, पुलिस तैयार नहीं

- गोवा पुलिस ने राज्य में पद्मावत पद्मावत रिलीज न करने की बात कही। इसको लेकर पुलिस ने राज्य सरकार को लेटर लिखा। इस पर सीएम मनोहर पर्रिकर ने कहा कि कानून-व्यवस्था ठीक रखने के लिए जरूरी कदम उठाए जाएंगे।
- पर्रिकर ने कहा कि अगर फिल्म को सेंसर बोर्ड से सर्टिफिकेट मिल गया है तो उसकी रिलीज रोकी नहीं जाएगी। गोवा पुलिस ने सरकार को लेटर लिखा कि राज्य में टूरिस्ट सीजन चल रहा है। अगर फिल्म रिलीज की जाती है तो पुलिस पर सुरक्षा को लेकर दबाव बढ़ जाएगा।

5. यूपी में सस्पेंस बरकरार

- फिल्म का विवाद अपने चरम पर था तब यूपी सरकार ने कहा था कि यह फिल्म एेतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ करने वाली है, लिहाजा इसे न रिलीज करना ही सही फैसला होगा।
- सेंसर बोर्ड से पास होने के बाद जब यह फिल्म बदले नाम के साथ रिलीज को तैयार है, तब यूपी सरकार की तरफ से इसे दिखाने या न दिखाने से जुड़ा कोई बयान अब तक नहीं आया। यूपी सरकार की ये चुप्पी फिल्म की रिलीज को लेकर सस्पेंस बनाए हुए है।

क्या होगा नुकसान?

- हरियाणा, मध्य प्रदेश, गुजरात और राजस्थान बड़े राज्य हैं। यहां पर फिल्म के रिलीज न होने का सीधा असर फिल्म के कलेक्शन पर पड़ेगा। ये तीनों हिंदी भाषी राज्य हैं जहां मल्टीप्लेक्स और सिंगल थिएटर में बड़ी संख्या में यह फिल्म दिखाई जानी थी।

फिल्म पद्मावत को लेकर क्या आपत्ति है?

- राजस्थान में करणी सेना, बीजेपी लीडर्स और हिंदूवादी संगठनों ने इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाया। राजपूत करणी सेना का मानना है कि ​इस फिल्म में पद्मिनी और खिलजी के बीच सीन फिल्माए जाने से उनकी भावनाओं को ठेस पहुंची। फिल्म में रानी पद्मावती को भी घूमर नृत्य करते दिखाया गया है। जबकि राजपूत राजघरानों में रानियां घूमर नहीं करती थीं।
- हालांकि, भंसाली साफ कर चुके हैं कि ड्रीम सीक्वेंस फिल्म में है ही नहीं।


कौन थीं रानी पद्मावती?

- पद्मावती चित्तौड़ की महारानी थीं। उन्हें पद्मिनी भी कहा जाता है। वे राजा रतन सिंह की पत्नी थीं। उन्होंने जौहर किया था। उनकी कहानी पर ही संजय लीला भंसाली ने फिल्म बनाई है।

राजस्थान के धौलपुर में मंगलवार को करणी सेना ने पद्मावत के विरोध में रैली निकाली। राजस्थान के धौलपुर में मंगलवार को करणी सेना ने पद्मावत के विरोध में रैली निकाली।
फिल्म पद्मावत को लेकर लंबे वक्त से राजपूत समाज और हिंदू संगठन विरोध कर रहे हैं। -फाइल फिल्म पद्मावत को लेकर लंबे वक्त से राजपूत समाज और हिंदू संगठन विरोध कर रहे हैं। -फाइल