--Advertisement--

LoC और इंटरनेशनल बॉर्डर पर रहने वालों के लिए बनेंगे 14 हजार बंकर्स, PAK की गोलाबारी से होगा बचाव

पाकिस्तान की फायरिंग के चलते बॉर्डर इलाकों में रहने वाले लोगों को अपने घर छोड़ने पड़ते हैं।

Dainik Bhaskar

Jan 07, 2018, 06:09 PM IST
LoC और इंटरनेशनल बॉर्डर पर बंकर बनाने के पीछे सरकार का मकसद वहां रहने वाले लोगों का पाकिस्तान की फायरिंग से बचाव करना है। - फाइल LoC और इंटरनेशनल बॉर्डर पर बंकर बनाने के पीछे सरकार का मकसद वहां रहने वाले लोगों का पाकिस्तान की फायरिंग से बचाव करना है। - फाइल

जम्मू. पाकिस्तान की ओर से होने वाली गोलाबारी से बचाव के लिए लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 14 हजार बंकर बनाए जाएंगे। केंद्र सरकार ने इसकी मंजूरी दे दी है। सरकार इन जगहों पर इंडिविजुअल और कम्युनिटी बंकर्स बनवाएगी। कम्युनिटी बंकर्स में 40 लोग आ सकेंगे। बता दें कि पाकिस्तान की फायरिंग के चलते बॉर्डर इलाकों में रहने वाले लोगों को अपने घर छोड़ने पड़ते हैं। पिछले साल नौशेरा सेक्टर में PAK की फायरिंग की वजह से 4 महीने तक यहां के लोगों को आर्मी कैम्प में रहना पड़ा था।

सरकार क्यों बना रही है बंकर?

- पिछले साल सितंबर में गृह मंत्री राजनाथ सिंह LoC के पास रहने वाले लोगों से मिलने पहुंचे थे। नौशेरा सेक्टर में रहने वाले इन लोगों को पाकिस्तान की फायरिंग की वजह से अपने गांव छोड़ने पड़े और ये लोग 4 महीनों से आर्मी के कैम्प में रह रहे थे। करीब 5000 लोगों ने राजनाथ सिंह से डिमांड की थी कि सरकार उन्हें खुद के बंकर्स बनाकर दे, ताकि सीजफायर वॉयलेशन के दौरान ग्रामीणों का बचाव हो सके।

सरकार ने तब क्या भरोसा दिया था?
- राजनाथ सिंह ने ग्रमीणों को भरोसा दिलाया था बॉर्डर इलाकों में पैरामिलिट्री फोर्सेस की तैनाती भी निश्चित की जाएगी।
- डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट कमिश्नर शाहिद इकबार चौधरी ने कहा था, "सरकार 7000 बंकर्स बनाने की योजना बना रही है। ये व्यक्तिगत और कम्युनिटी के लिए होंगे। इससे LoC के पास रहने वाले लोगों की सेफ्टी निश्चित की जा सकेगी। ये प्रोजेक्ट केंद्र के पास मंजूरी के लिए भेजा गया है। सरकार ने नौशेरा में 100 बंकर बनाने की शुरुआत कर दी है।"


अब बंकर कंस्ट्रक्शन की कैसी प्लानिंग है?
- अधिकारी के मुताबिक, 7298 बंकर्स LoC के पास पुंछ और राजौरी में बनाए जाएंगे। इंटरनेशनल बॉर्डर पर जम्मू, कठुआ, सांबा जिलों में 7162 बंकर्स बनाए जाएंगे।
- उन्होंने बताया, "सरकार ने हाल ही में 14460 बंकर्स बनाने की मंजूरी दी है। इसमें 415.73 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। 13029 कम्युनिटी बंकर्स और 1431 इंडिविजुअल बंकर्स बनाए जाएंगे।"

कैसे होंगे ये बंकर्स?
- "160 फीट के इंडिविजुअल बंकर की कैपेसिट 8 लोगों की होगी। 800 फीट के कम्युनिटी बंकर्स में 40 लोग आ सकेंगे।"

PAK की गोलाबारी में कितने लोग मारे गए?
- पिछले साल पाकिस्तान की गोलाबारी में 35 लोग मारे गए। इसमें 19 आर्मी के अफसर और जवान, 12 नागरिक और 4 बीएसएफ जवानों की जान गई।'
- सरकार के मुताबिक, 10 दिसंबर तक पाकिस्तान ने LoC पर 771 बार और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 110 बार सीजफायर तोड़ा।

इस साल सीजफायर वॉयलेशन में कितने लोग मारे गए?
- PAK के सीजफायर वॉयलेशन में आर्मी के 5 अफसर और जवान मारे गए हैं। इनमें से 3 जनवरी को बीएसएफ कॉन्स्टेबल आरपी हाजरा शहीद हुए और इसी दिन उनका जन्मदिन थी।

10 दिसंबर तक पाकिस्तान ने LoC पर 771 बार और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 110 बार सीजफायर तोड़ा है। 10 दिसंबर तक पाकिस्तान ने LoC पर 771 बार और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 110 बार सीजफायर तोड़ा है।
पिछले साल सितंबर में राजनाथ सिंह नौशेरा के आर्मी कैम्प गए थे। यहां फायरिंग की वजह से अपना घर छोड़ने वाले करीब 5000 लोगों ने बंकर बनाने की अपील की थी। - फाइल पिछले साल सितंबर में राजनाथ सिंह नौशेरा के आर्मी कैम्प गए थे। यहां फायरिंग की वजह से अपना घर छोड़ने वाले करीब 5000 लोगों ने बंकर बनाने की अपील की थी। - फाइल
X
LoC और इंटरनेशनल बॉर्डर पर बंकर बनाने के पीछे सरकार का मकसद वहां रहने वाले लोगों का पाकिस्तान की फायरिंग से बचाव करना है। - फाइलLoC और इंटरनेशनल बॉर्डर पर बंकर बनाने के पीछे सरकार का मकसद वहां रहने वाले लोगों का पाकिस्तान की फायरिंग से बचाव करना है। - फाइल
10 दिसंबर तक पाकिस्तान ने LoC पर 771 बार और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 110 बार सीजफायर तोड़ा है।10 दिसंबर तक पाकिस्तान ने LoC पर 771 बार और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 110 बार सीजफायर तोड़ा है।
पिछले साल सितंबर में राजनाथ सिंह नौशेरा के आर्मी कैम्प गए थे। यहां फायरिंग की वजह से अपना घर छोड़ने वाले करीब 5000 लोगों ने बंकर बनाने की अपील की थी। - फाइलपिछले साल सितंबर में राजनाथ सिंह नौशेरा के आर्मी कैम्प गए थे। यहां फायरिंग की वजह से अपना घर छोड़ने वाले करीब 5000 लोगों ने बंकर बनाने की अपील की थी। - फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..