Hindi News »National »Latest News »National» Pakistan Suspends Military & Intelligence Cooperation With US - Defence Minister Khurram Dastgir Khan

पाकिस्तान का 7 दिन बाद एक्शन से जवाब: US को दी जाने वाली मिलिट्री-इंटेलिजेंस मदद रोकी

खास बात ये है कि पाकिस्तान ने अभी अमेरिका को लैंड और एयर एक्सेस रोकने पर कोई फैसला नहीं किया है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 10, 2018, 02:49 PM IST

    • VIDEO: अमेरिका पाकिस्तान को दी जाने वाली 7 हजार करोड़ रुपए की मिलिट्री एड पर पहले ही रोक लगा चुका है।

      इस्लामाबाद/वॉशिंगटन/नई दिल्ली. अमेरिका द्वारा पाकिस्तान को दी जाने वाली करीब सात हजार करोड़ रुपए की मिलिट्री एड रोके जाने के बाद पाकिस्तान ने भी 7 दिन बाद उसे जवाब दिया है। पाकिस्तान ने अमेरिका को दी जाने वाली सभी तरह की मिलिट्री और खुफिया मदद रोकने का एलान किया है। खास बात ये है कि पाकिस्तान ने अभी अमेरिका को लैंड और एयर एक्सेस रोकने पर कोई फैसला नहीं किया है। ये इसलिए अहम हो जाता है क्योंकि अफगानिस्तान में मौजूद अमेरिकी ट्रूप्स को रसद जमीन और आसमान के जरिए ही पहुंचाई जाती है। पाकिस्तान की तरफ से पहली धमकी इन्हीं दो रास्तों को बंद करने की दी गई थी। दूसरी तरफ, अमेरिका ने कहा है कि उसे पाकिस्तान ने ऐसे किसी फैसले की जानकारी नहीं दी है।

      पाकिस्तान के डिफेंस मिनिस्टर ने किया एलान

      - पाकिस्तान के डिफेंस मिनिस्टर खुर्रम दस्तगीर खान ने मंगलवार रात अमेरिका को मदद रोके जाने के फैसले का एलान किया। अमेरिका ने 2 जनवरी को पाकिस्तान को दी जाने वाली 7 हजार करोड़ रुपए की मिलिट्री एड रोकने का फैसला किया था।
      - दस्तगीर ने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकवाद से निपटने में काफी कुर्बानियां दीं। अमेरिका ने इन्हें ध्यान में नहीं रखा। खान ने कहा- अब पाकिस्तान अमेरिका को दी जाने वाली मिलिट्री और इंटेलिजेंस एड पर रोक लगा रहा है। - खान ने कहा- अमेरिका को हम लैंड और एयर पैसेज जारी रखेंगे। इस बारे में कोई फैसला जरूरत होने पर ही किया जाएगा।


      अमेरिका ने कहा- पाकिस्तान ने जानकारी नहीं दी

      - इस्लामाबाद में अमेरिकी एम्बेसी के स्पोक्सपर्सन रिचर्ड नेल्सर ने पाकिस्तान के फैसले पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। मीडिया द्वारा पूछे गए एक सवाल के जवाब में रिचर्ड ने कहा- पाकिस्तान की तरफ से हमें अब तक ऐसे किसी भी फैसले की जानकारी नहीं दी गई है।

      CIA चीफ की पाकिस्तान को दो टूक

      - इसके पहले, मंगलवार को अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA के चीफ माइक पॉम्पियो ने पाकिस्तान को सीधी वॉर्निंग दी। पॉम्पियो ने कहा- प्रेसिडेंट ट्रम्प साफ कह चुके हैं कि पाकिस्तान में आतंकी पनाहगाहें अब किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जाएंगी। हम साफ कर देना चाहते हैं कि पाकिस्तान आतंकवाद पर अब फुल स्टॉप लगा दे। अगर ऐसा नहीं होता है तो फिर हम अमेरिका को अपने तरीके से महफूज करने करेंगे।

      पेंटागन ने भी यही कहा

      - पेंटागन ने भी पाकिस्तान को आतंकवादियों के खिलाफ सख्त और नतीजे देने वाली कार्रवाई करने को कहा है। पेंटागन के प्रेस सेक्रेटरी कर्नल रॉब मैनिंग ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था- हम पाकिस्तान को साफ बता चुके हैं कि अब उसे क्या ठोस कदम उठाने हैं और अमेरिका किस तरह के नतीजे चाहता है।
      - मैनिंग ने कहा- हमने पाकिस्तान की मदद रोकी है, इसे बंद नहीं किया है। अगर वो हमारे हिसाब से नतीजे देने वाली कार्रवाई करता है तो इसे बहाल भी किया जा सकता है। लेकिन, अगर ऐसा नहीं हो पाता तो फिर अगले कदमों पर विचार किया जाएगा।

    • पाकिस्तान का 7 दिन बाद एक्शन से जवाब: US को दी जाने वाली मिलिट्री-इंटेलिजेंस मदद रोकी, national news in hindi, national news
      +2और स्लाइड देखें
      अमेरिका ने कहा है कि हमने पाकिस्तान की मदद रोकी है, इसे बंद नहीं किया है। -फाइल
    • पाकिस्तान का 7 दिन बाद एक्शन से जवाब: US को दी जाने वाली मिलिट्री-इंटेलिजेंस मदद रोकी, national news in hindi, national news
      +2और स्लाइड देखें
      पेंटागन ने भी पाकिस्तान को आतंकवादियों के खिलाफ सख्त और नतीजे देने वाली कार्रवाई करने को कहा है। -फाइल
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Pakistan Suspends Military & Intelligence Cooperation With US - Defence Minister Khurram Dastgir Khan
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From National

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×