Hindi News »National »Latest News »National» Parliament Attack Anniversary Modi Met Manmohan Rahul Meets Bjp Leaders

संसद हमले की 16वीं बरसी पर शहीदों को श्रद्धांजलि, मतभेद भुलाकर मनमोहन से मिले मोदी; राहुल भी पहुंचे

13 दिसंबर, 2011 को संसद पर आतंकी हमला हुआ था। 8 जवान शहीद हो गए थे। 2013 में हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरु को फांसी हुई।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 13, 2017, 12:13 PM IST

    • VIDEO: संसद हमले की 16वीं बरसी पर श्रद्धांजलि देने पहुंचे मोदी-मनमोहन समेत सत्ता पक्ष और विपक्ष।

      नई दिल्ली. संसद पर हमले की बुधवार को 16वीं बरसी है। इस मौके पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान आरोप-प्रत्यारोप लगाते नरेंद्र मोदी और मनमोहन सिंह एक-दूसरे का अभिवादन करते नजर आए। हाल ही में कांग्रेस प्रेसिडेंट बने राहुल गांधी भी संसद पहुंचे और शहीदों को श्रद्धांजलि दी। बाद में वे भी सुषमा स्वराज, रविशंकर प्रसाद समेत सरकार के कई नेताओं से मिलते नजर आए। हमले की बरसी पर श्रद्धांजलि देने सभी बड़े नेता जुटे तो इससे डेमोक्रेसी की ताकत नजर आई। बता दें 13 दिसंबर, 2001 को संसद पर आतंकी हमला हुआ था, जिसे सुरक्षा बलों ने नाकाम कर दिया था। महिला समेत 8 जवान शहीद हुए थे। 5 आतंकियों को मार गिराया गया था।

      आडवाणी-सोनिया भी संसद पहुंचे

      - हमले की 16वीं बरसी पर मोदी और राहुल के साथ ही पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, सोनिया गांधी, बीजेपी के सीनियर लीडर लालकृष्ण आडवाणी समेत सत्ता और विपक्ष के नेता भारतीय जवानों की शहादत को सम्मान देने के लिए एक साथ खड़े नजर आए।
      - ये मौका इसलिए भी खास है, क्योंकि मंगलवार को ही गुजरात चुनाव के दूसरे फेज के लिए प्रचार खत्म हुआ है। इस दौरान बीजेपी और कांग्रेस ने एक-दूसरे के लिए खासा हमलावर रवैया अपनाया था। इस दौरान 'नीच विवाद', 'मंदिर', 'पाकिस्तान' जैसे मुद्दे सामने आए थे। भाषाई मर्यादाएं भी टूटीं।
      - वहीं, सारी तल्खियों के बीच संसद पर हमले की बरसी पर सारे नेताओं की एकजुटता से जाहिर हुआ कि देश लोकतंत्र के मंदिर पर हुए हमले को भूला नहीं है।

      कब हुआ था हमला
      - 13 दिसंबर, 2001 को संसद पर हुए आतंकी हमलों में दिल्ली पुलिस के 5 जवान, सीआरपीएफ की एक महिला अधिकारी, संसद के 2 सुरक्षाकर्मी और एक माली शहीद हुआ था।
      - लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने संसद में विस्फोट कर सांसदों को बंधक बनाने की साजिश रची थी। देश के जवानों ने अपनी जान की बाजी लगाकर आतंकियों के मंसूबों को कामयाब नहीं होने दिया।
      - जिस दौरान संसद पर हमला हुआ, उस समय शीतकालीन सत्र चल रहा था। करीब 100 सांसद संसद में ही मौजूद थे।
      - बाद में हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरु को फांसी की सजा सुनाई गई थी। अफजल को 9 फरवरी 2013 को तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई।

    • संसद हमले की 16वीं बरसी पर शहीदों को श्रद्धांजलि, मतभेद भुलाकर मनमोहन से मिले मोदी; राहुल भी पहुंचे, national news in hindi, national news
      +5और स्लाइड देखें
      संसद पर आतंकी हमले की बुधवार को 16वीं बरसी है। इस मौके पर मोदी, मनमोहन, राहुल समेत सांसदों ने शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी। इस हमले में 8 जवान शहीद हुए थे।
    • संसद हमले की 16वीं बरसी पर शहीदों को श्रद्धांजलि, मतभेद भुलाकर मनमोहन से मिले मोदी; राहुल भी पहुंचे, national news in hindi, national news
      +5और स्लाइड देखें
      प्रचार के दौरान मनमोहन ने जीएसटी और नोटबंदी को लेकर भी मोदी को कई बार आड़े हाथ लिया था।
    • संसद हमले की 16वीं बरसी पर शहीदों को श्रद्धांजलि, मतभेद भुलाकर मनमोहन से मिले मोदी; राहुल भी पहुंचे, national news in hindi, national news
      +5और स्लाइड देखें
      गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी ने भी मोदी और बीजेपी पर जमकर निशाना साधा था, लेकिन संसद में वे मंत्री रविशंकर प्रसाद से गर्मजोशी से मिले।
    • संसद हमले की 16वीं बरसी पर शहीदों को श्रद्धांजलि, मतभेद भुलाकर मनमोहन से मिले मोदी; राहुल भी पहुंचे, national news in hindi, national news
      +5और स्लाइड देखें
      राहुल ने संसद में सुषमा समेत कई बीजेपी नेताओं से मुलाकात की।
    • संसद हमले की 16वीं बरसी पर शहीदों को श्रद्धांजलि, मतभेद भुलाकर मनमोहन से मिले मोदी; राहुल भी पहुंचे, national news in hindi, national news
      +5और स्लाइड देखें
      13 दिसंबर, 2001 को हुए संसद हमले में 8 जवान शहीद हो गए थे।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

    More From National

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×