पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गुजरात-हिमाचल चुनाव के बाद पार्लियामेंट का विंटर सेशन आज से, हंगामेदार रहने के पूरे आसार

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नई दिल्ली.  संसद का विंटर सेशन (शीतकालीन सत्र) शुक्रवार से शुरू हो गया है। राज्यसभा में पहले ही दिन मनमोहन सिंह पर पीएम नरेंद्र मोदी के बयान और शरद यादव की मेंबरशिप खत्म करने पर जमकर हंगामा हुआ। इस दौरान विपक्ष ने 'तानाशाही नहीं चलेगी' के नारे लगाए और इन मामलोंं में मोदी से माफी मांगने को कहा। हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही पहले 12 बजे तक और फिर दोपहर 2.30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। बता दें कि यह सेशन 5 जनवरी तक चलेगा। 

 

 सबसे पहले उठा शरद यादव की सदस्यता खत्म करने का मामला 

सबसे पहले सदन में पूर्व दिवंगत सदस्यों को श्रद्धांजलि दी गई। इसके बाद सभापति एम वेंकैया नायडू ने बताया कि शरद यादव और अली अनवर की सदस्यता रद्द कर दी गई है। इस पर सदन में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद और एसपी नेता नरेश अग्रवाल ने आपत्ति जताई और सवाल खड़े किए। इस बीच, विपक्ष के कई सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया।

- इसके बाद आजाद और अग्रवाल को बोलने की इजाजत मिली। आजाद ने कहा कि ये फैसला गलत है। 

 

क्यों हुई शरद की सदस्यता रद्द? 

-  शरद यादव और अली अनवर जेडीयू के कोटे से राज्यसभा मेंबर थे। नीतीश कुमार के महागठबंधन (कांग्रेस, आरजेडी और जेडीयू) से अलग होने और बीजेपी के साथ सरकार बनाने के फैसले के बाद शरद यादव के साथ उनका टकराव शुरू हुआ था। बाद में शरद ने खुलकर नीतीश के खिलाफ बयान दिए और जेडीयू के चुनाव सिम्बल को अपना बताया। मामला इलेक्शन कमीशन तक पहुंच गया था। 

 

मोदी के मनमोहन पर दिए बयान पर भी हुआ हंगामा   

- 12 बजे जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो गुलाम नबी आजाद ने नरेंद्र मोदी के उस बयान का जिक्र किया, जिसमें उन्होंने मनमोहन सिंह, मणिशंकर अय्यर और पाक हाईकमिश्नर और पूर्व विदेश मंत्री के बीच हुई सीक्रेट मीटिंग का जिक्र किया था। 

- आजाद ने कहा कि पीएम मोदी सबूत पेश करें। उन्हें सिर्फ मनमोहन सिंह से नहीं, बल्कि देश से माफी मांगनी चाहिए। 

 

मोदी ने क्या कहा था? 

- नरेंद्र मोदी ने गुजरात की एक रैली में कहा था- "मनमोहन सिंह, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी और निलंबित कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पाक हाईकमिश्नर और पूर्व विदेश मंत्री के साथ सीक्रेट मीटिंग की थी। विदेश मंत्रालय की जानकारी के बिना अय्यर के घर पर हुई यह मीटिंग करीब तीन घंटे चली।" 

- मोदी ने कहा था कि इस मीटिंग के अगले ही दिन अय्यर ने उन्हें 'नीच' कह डाला। प्रधानमंत्री ने कांग्रेस से पूछा कि इस सीक्रेट मीटिंग का मकसद क्या था? 

 

लोकसभा में क्या हुआ? 

- लोकसभा की कार्यवाही भी सुबह 11 बजे शुरू हुई। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंत्रिमंडल के नए मंत्रियों का परिचय सदन को कराया। स्पीकर सुमित्रा महाजन ने लोकसभा की पहली महिला जनरल सेक्रेटरी स्नेहलता श्रीवास्तव का परिचय सांसदों से कराया। इसके बाद तीन मौजूदा और सात पूर्व सांसदों को श्रद्धांजलि देने के बाद सदन की कार्यवाही 18 दिसंबर, 11 बजे तक स्थगित कर दी गई। 

 

संसद सत्र से पहले क्या बोले मोदी?

- नरेंद्र मोदी ने कहा, ''सदन में अच्छी और सकारात्मक, इनोवेटिव सुझावों के साथ बहस हो। संसद के समय का इस्तेमाल देश की भलाई के लिए हो। इसलिए मुझे भरोसा है कि सदन बेहतर ढंग से चलेगा। कल भी ऑल पार्टी मीटिंग हुई उसमें कहा गया कि देश को आगे बढ़ाने के लिए सदन को बेहतर तरीके से चलाया जाए। इससे देश को फायदा मिलेगा।'' 

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा- "पहली बार किसी प्रधानमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री, उप राष्ट्रपति और डिप्लोमैट्स पर गुजरात चुनाव में पाकिस्तान के साथ साजिश करने का आरोप लगाया है। मोदीजी को संसद में इस पर सफाई देनी चाहिए।" 

 

इस सेशन में आ सकते हैं 41 बिल

- न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, इस विंटर सेशन में 41 बिल पर चर्चा हो सकती है। इसमें 40 बिल और एक फाइनेंशियल आइटम शामिल है। इसके अलावा, सेंट्रल गुड्स एंड सर्विस टैक्स (कम्पनसेशन टू स्टेट) बिल 2017, द मुस्लिम वुमन ( प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज) बिल 2017 को पेश किया जा सकता है। 

 

इन 5 मुद्दों पर हंगामे के आसार

1) जय शाह का मामला: कांग्रेस का आरोप है कि जय शाह की कंपनी केंद्र में बीजेपी की सरकार आने के बाद 50 हजार से कई करोड़ की हो गई। 

2) राफेल डील: कांग्रेस का आरोप है कि यूपीए सरकार ने फ्रांस के साथ 54 हजार करोड़ रुपए में 126 राफेल जेट्स की डील की थी। इसमें  टेक्नोलॉजी की डील भी शामिल थी। मोदी सरकार ने बिना टेक्नोलॉजी ट्रांसफर के 60 हजार करोड़ की बड़ी डील की, वह भी सिर्फ 36 राफेल के लिए। 

3) EC का रवैया: कांग्रेस का आरोप है कि मोदी ने वोट डालने के बाद रोड शो किया। उसकी अपील पर इलेक्शन कमीशन कोई सख्ती नहीं दिखा रहा है। पार्टी का कहना है कि गुजरात चुनाव में इलेक्शन कमीशन का रवैया भेदभाव वाला रहा है। 

4) गुजरात चुनाव में पाकिस्तान का मुद्दा: मोदी ने पालनपुर की रैली में कहा था कि 6 दिसंबर को कांगेस लीडर मणिशंकर अय्यर के घर कुछ पाकिस्तानी अधिकारियों ने मनमोहन सिंह के साथ एक सीक्रेट मीटिंग रखी थी। उनका कहना था कि पाकिस्तान के ऑफिसर कांग्रेस नेता अहमद पटेल को चीफ मिनिस्टर बनाना चाहते हैं।

5) संसद का सत्र बुलाने में देरी: कांग्रेस का आरोप है कि मोदी सरकार ने संसद का शीतकालीन सत्र बुलाने में बेवजह देरी की है। वह नहीं चाहती थी कि विपक्ष के सवालों में घिरने की वजह से गुजरात के चुनाव पर इसका कोई असर हो। 

खबरें और भी हैं...