• Home
  • National
  • Prime Minister Narendra Modi will embark on a four day state visit to Palestine, Oman and the UAE on February 9.
--Advertisement--

9 फरवरी को 3 देशों के 4 दिन के दौरे पर जाएंगे मोदी, इजराइल के बाद अब फिलिस्तीन से बेहतर रिश्तों की कोशिश

मोदी की कोशिश इजराइल के साथ ही फिलिस्तीन को भी साधने की होगी। हालांकि, भारत और फिलिस्तीन के रिश्ते अच्छे रहे हैं।

Danik Bhaskar | Jan 28, 2018, 09:05 AM IST
मोदी अगले महीने 4 दिन के विदेशी दौरे पर जा रहे हैं। पीएम 9 फरवरी को रवाना होंगे।- फाइल मोदी अगले महीने 4 दिन के विदेशी दौरे पर जा रहे हैं। पीएम 9 फरवरी को रवाना होंगे।- फाइल

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले महीने 4 दिन के विदेशी दौरे पर जा रहे हैं। पीएम 9 फरवरी को रवाना होंगे। इस दौरान वो फिलीस्तीन, ओमान और यूएई जाएंगे। फिलीस्तीन का दौरा इसलिए बेहद अहम है क्योंकि हाल ही में इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू पांच दिन की विजिट पर भारत आए थे। इजरायल और फिलीस्तीन के रिश्ते अच्छे नहीं हैं। लिहाजा, मोदी की कोशिश इजराइल के साथ ही फिलीस्तीन को भी साधने की होगी। हालांकि, भारत और फिलीस्तीन के रिश्ते अच्छे रहे हैं और यूएन में एक अलग देश के तौर पर भारत हमेशा फिलिस्तीन के पक्ष में आवाज उठाता रहा है।

ओमान पर भी नजर

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, मोदी की तीन देशों की विजिट भारत के हितों के हिसाब से बेहद अहम हो जाती है। पीएम फिलिस्तीन, ओमान और यूएई जाएंगे। इन तीनों ही देशों के साथ भारत की इकोनॉमिक रिलेशनशिप काफी मजबूत है।
- यूएई और ओमान ने काफी भारतीय काम करते हैं। ओमान वैसे तो ऑयल रिच कंट्री है लेकिन हाल के दिनों में वहां आईटी सेक्टर में काफी ग्रोथ हुई है। इसमें भी खास बात ये है कि वहां के आईटी सेक्टर में भारतीय इंजीनियर और टेक्नोक्रेट्स ज्यादा है। ओमान ने इन्हें स्पेशल फेसेलिटीज भी दी हैं।

अब्बास से मिलेंगे पीएम

- इजरायल से नजदीकी रिश्तों के बाद अब भारत फिलिस्तीन में भी बड़ा रोल प्ले करना चाहता है। भारत की कोशिश है कि इजराइल और फिलिस्तीन के बीच शांति हो और दोनों देश बातचीत से अपने विवाद सुलझाएं।
- इस लिहाज से मोदी की विजिट पर नजर रहेगी। पीएम यहां फिलीस्तीन के प्रेसिडेंट महमूद अब्बास से मिलेंगे। इस दौरान दोनों नेता अापसी महत्व के मुद्दों पर बातचीत करेंगे। फिलीस्तीन ने हाल ही में पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ सख्त मैसेज दिया था।
- दरअसल, पाकिस्तान में फिलिस्तीन के एंबेसडर हाफिज सईद की रैली में शिरकत करने गए थे। इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री ने जैसे ही इस मुद्दे का जिक्र किया तो फिलिस्तीन ने फौरन अपने एंबेसडर को पाकिस्तान से वापस बुला लिया। जाहिर है फिलिस्तीन भारत की नाराजगी का जोखिम नहीं उठाना चाहता था।

UAE में क्या होगा फोकस

- UAE विजिट के दौरान दोनों देशों के बीच डिफेंस, सिक्युरिटी और ट्रेड पर बातचीत होगी। पीएम यहां 6th वर्ल्ड गवर्नमेंट समिट में भी हिस्सा लेंगे। यह समिट दुबई में होगी और भारत को यहां गेस्ट ऑफ ऑनर स्टेटस दिया गया है।
- ओमान में भी डिफेंस और सिक्युरिटी के साथ ही ट्रेड पर बातचीत होगी। ओमान और यूएई में पीएम इंडियन कम्युनिटी से भी मिलेंगे।

मोदी की तीन देशों की विजिट भारत के हितों के हिसाब से बेहद अहम हो जाती है। पीएम फिलिस्तीन, ओमान और यूएई जाएंगे। इन तीनों ही देशों के साथ भारत की इकोनॉमिक रिलेशनशिप काफी मजबूत है। - फाइल मोदी की तीन देशों की विजिट भारत के हितों के हिसाब से बेहद अहम हो जाती है। पीएम फिलिस्तीन, ओमान और यूएई जाएंगे। इन तीनों ही देशों के साथ भारत की इकोनॉमिक रिलेशनशिप काफी मजबूत है। - फाइल