Hindi News »National »Latest News »National» Pravasi Bhartiya Diwas: PM Narendra Modi First PIO Parliamentary Conference

प्रवासी भारतीयों की पहली संसद: भारत ट्रांसफॉर्म हो रहा है, अब हर लेवल पर बदलाव दिखेगा- मोदी

दिल्ली में हो रही पार्लियामेंट्री कॉन्फ्रेंस में 23 देशों के 124 सांसद और 17 मेयर हिस्सा ले रहे हैं।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 09, 2018, 08:01 PM IST

    • VIDEO: मोदी ने कहा था कि हम ब्रेन-ड्रेन को ब्रेन-गेन में बदलना चाहते हैं और इसलिए आपका पासपोर्ट हमारे लिए बहुत अहम है। (फाइल)

      नई दिल्ली.नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को विदेशों में रह रहे भारतीय मूल के लोगों (PIO) की पहली पार्लियामेंट कॉन्फ्रेंस का इनॉगरेशन किया। मोदी ने कहा कि जो भी लोग भारत से गए, यहां अपने अंश छोड़कर गए हैं। भारत में ट्रांसफॉर्म हो रहा है, अब हर लेवल पर बदलाव दिखेगा। बीते तीन साल में भारत में सबसे ज्यादा इन्वेस्टमेंट हुआ है। बता दें कि कॉन्फ्रेंस में 23 देशों के 124 सांसद और 17 मेयर हिस्सा ले रहे हैं।

      सवा सौ करोड़ भारतीयों की तरफ से आपका स्वागत

      - प्रवासी सांसद सम्मेलन में मोदी ने कहा, "आप सभी को प्रवासी भारतीय सांसद दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। मैं सभी क्षेत्रों से यहां आए सभी मित्रों का स्वागत करता हूं। सवा सौ करोड़ भारतीयों की तरफ से आपका स्वागत। वेलकम होम।''
      - "आपकी पुरानी पीढ़ियां देश के अलग-अलग हिस्सों से जुड़े हुए हैं। कुछ लोग मर्जी से गए तो कुछ को जबरन ले जाया गया था। वो यहां से भले ही चले गए हों। लेकिन, अपने मन और आत्मा का अंश इसी मिट्टी पर छोड़कर गए थे।''

      - "आप जब भारत के किसी एयरपोर्ट पर उतरते हैं तो इसी मिट्टी का जुड़ाव सामने आता है। आंखों से भावनाएं सामने आती हैं। आप रोकना चाहते हैं लेकिन ऐसा कर नहीं पाते। आपकी इस भावना को मैं भलीभांति समझता हूं। मैं उस भाव जगत को आदरपूर्वक नमन करता हूं।''

      - "वो भारत से जिस हिस्से में गए अपनी पहचान छोड़ी। वो वहां इंटीग्रेट होकर उस जगह को अपना घर बना लिया। भारतीयता को जीवित रखा। दूसरी तरफ वहां के खानपान और जीवन में घुल गए।''

      - "स्पोर्ट्स, आर्टस और कई क्षेत्र में इन लोगों ने अपनी छाप छोड़ी। ये मिनी वर्ल्ड पार्लियामेंट मेरे सामने है।''

      आपके पूर्वजों को जन्मभूमि पर गर्व था

      - मोदी ने कहा, "भारतीय मूल के कई लोग दूसरे देशों में हेड रहे हैं। गुयाना के भरत जगदेव यहां मौजूद हैं। आपके पूर्वजों को अपनी जन्मभूमि पर गर्व रहा है। आप लोगों ने विदेश में रहकर भी देश की सुगंध फैलाई। आप जियो पॉलिटिक्स को प्रभावित कर रहे हैं। इन खबरों को लोग चाव और गौरव से पढ़ते हैं। कहते हैं कि कोई अपना उस पद पर पहुंच गया है। हमारा गौरव बढ़ाने के लिए आप अभिनंदन के पात्र हैं।''
      - "आपने अनुभव किया होगा कि पिछले तीन या चार साल में दुनिया का भारत के प्रति नजरिया बदला है।''
      - "भारत ट्रांसफॉर्म हो रहा है। यह सामाजिक और आर्थिक स्तर के साथ ही वैचारिक स्तर पर भी बदल रहा है। भारत अब पुरानी सोच से बहुत आगे बढ़ चुका है।''
      - "लोगों की आशाएं उच्चतम स्तर पर हैं। ये बदलाव आपको हर स्तर पर नजर आएगा। पिछले साल 16 बिलियन डॉलर का एफडीआई भारत आया। ईज ऑफ डूइंग में 42 स्थानों का सुधार हुआ। ग्लोबल इंडेक्स में 21 रैंकिंग का सुधार हुआ। आज वर्ल्ड बैंक, आईएमएफ और मूडीज जैसी संस्थाएं भारत की तरफ आशा भरी नजरों से देख रही हैं।''
      - "माइनिंग और इलेक्ट्रॅानिक और कंप्यूटर साइंस में भारत ने दुनिया को रास्ता दिखाया। इन सेक्टर्स में आधे से ज्यादा निवेश पिछले तीन साल में हुआ। यह इसलिए हुआ क्योंकि हम आर्थिक नीति में रिफॉर्म टू ट्रांसफॉर्म में काम कर रहे हैं। करप्शन कम कर रहे हैं। जीएसटी के जरिए सैकड़ों टैक्स का जाल खत्म किया है। आर्थिक एकीकरण किया है।''

      भारत सरकार ने 10 करोड़ लोगों को लोन दिए

      - मोदी ने कहा, "ऐसा कोई सेक्टर नहीं है जिसमें रिफॉर्म नहीं हुआ हो। हम नौजवान देश हैं। स्किल इंडिया, स्टार्टअप, स्टैंडअप और मुद्रा के तहत हम यही काम कर रहे हैं।''
      - "10 करोड़ लोन दिए गए हैं। चार लाख करोड़ का कर्ज बिना बैंक गारंटी के दिया गया है। इससे तीन करोड़ नए आंत्रप्रेन्योर सामने आए।''
      - "हम ट्रांसपोर्ट और इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ा रहे हैं। हाईवे, रेलवे और आईवे और पोर्ट इस तरह से तैयार किए जा रहे हैं ताकि वो एक दूसरे के काम आ सकें।'' - "दोगुनी रफ्तार से रेलवे और हाईवे में काम हो रहे हैं। रिन्युबल एनर्जी को ग्रिड पावर से जोड़ा गया है। कार्गो हैंडलिंग में 11 फीसदी की वृद्धि हो रही है। नए काम मिल रहे हैं।''
      - "उज्जवला योजना सिर्फ गरीब महिलाओं को गैस देने तक ही सीमित नहीं है। 3 करोड़ महिलाओं को धुएं से मुक्ति मिली है। सामाजिक सुधार के साथ रोजगार के अवसर भी मिल रहे हैं। वसुधैव कुटुम्बकम की सोच ने विश्व को बहुत कुछ दिया है। मैंने दुनिया के सामने इंटरनेशनल योगा डे का विचार रखा था। 75 दिन में ये सर्वसम्मति से पारित हुआ। 177 देशों ने इसे स्वीकार किया। ये रिकॉर्ड है।''

      त्याग-सेवा भारतीयों की पहचान

      - मोदी ने कहा, "क्लाइटमेट चेंज के विषय पर मैंने फ्रांस के राष्ट्रपति से मिलकर इंटरनेशनल अलायंस की बात कही थी। अब इस पर ग्लोबल प्लेटफॉर्म बना रहे हैं। हम प्रकृति के साथ मिलकर चल रहे हैं।''
      - "नेपाल के भूकंप, श्रीलंका की बाढ़ में साथ दिया। यमन संकट से साढ़े चार हजार भारतीयों के साथ 32 देशों के नागरिकों को लेकर आए।''
      - "प्रथम और द्वितीय युद्ध में डेढ़ लाख भारतीय सैनिकों ने जान दी। जबकि हमारा इससे कोई सीधा संबंध नहीं था। आजादी के बाद भी यही परंपरा है। यूएन पीस कीपिंग फोर्स में भी हम पहली पंक्ति में खड़े हैं। यह त्याग और सेवा भावना हम भारतीयों की पहचान है। इसीलिए दुनिया में हमारी स्वीकार्यता है।''
      - "आपकी भी यही खासियत है। जब भी किसी देश में जाता हूं तो कोशिश करता हूं कि आप लोगों से मिलता हूं। मैं मानता हूं कि अगर कोई परमानेंट एम्बेसडर हैं तो वो आप लोग हैं।''
      - "पहले पीआओ और ओसीआई स्कीम अलग होती थीं। हमने इसे सरल किया और दोनों को मिलाकर एक स्कीम बनाई। हमारे विदेशमंत्री 24 घंटे एक्टिव नजर आएंगी।''
      - भारत को जानिए। इस क्विज में 5 हजार से ज्यादा प्रवासी भारतीय युवाओं ने हिस्सा लिया। हम इस साल इसे ज्यादा बड़े लेवल पर करेंगे। इससे भारत का नाम ऊंचा होता है। इसके आपकी प्रतिष्ठा भी बढ़ती है।''
      - "हम आपको अपना पार्टनर मानते हैं। नीति आयोग के 2020 के एजेंड में आपको खास जगह दी गई है। लक्ष्मीमल सिंघवी ने प्रवासी भारतीय दिवस मनाने का आईडिया दिया था। एक और आइडिया है भारत में निवेश का। इसके प्रति जागरूकता फैलाने में आपका बहुत बड़ा योगदान है।''

      अगली बार आएं तो प्रयाग जरूर जाएं

      - मोदी ने कहा, "टूरिज्म बढ़ाने में भी आपका बहुत बड़ा योगदान हो सकता है। दुनिया में कई भारतीय सीईओज और कंपनी मालिक हैं। आज विदेश में बसे लोग खुद को देश की प्रगति का हिस्सा मानते हैं। वो देश की विकास यात्रा में पार्टनर हैं, भागीदार हैं। दुनिया के अस्थिरता से भरे वातावरण में हम रास्ता दिखा सकते हैं।''
      - "कुंभ मेले को यूएन की लिस्ट में जगह मिली है। यूपी सरकार इसके लिए तैयारियां कर रही है। अगली बार जब आएं तो प्रयाग जरूर जाएं। अन्य लोगों को भी इस बारे में बताएं।''
      - "कट्टरता का मुकाबला करने के लिए गांधी जी की विचारधारा है, यह भारतीय विचारधारा है।''
      - "न्यू इंडिया से हम आपको जोड़ना चाहता है। 21वीं सदी को एशियन सेन्चुरी कहा जा रहा है। आपको भारत के बढ़ते कद को आप महसूस करेंगे। आपका माथा ऊपर उठेगा। भारत वो देश है जिसने विश्व पटल पर दुनिया को रास्ता दिखाया।''
      - "हम गिव एंड टेक पर भरोसा नहीं करते। हम किसी की जमीन पर नजर नहीं रखते। बाइलेट्रल और मल्टीलेट्रल हम सभी मंचों पर सभी को साथ लेकर चल रहे हैं। आसियान को हमने मजबूत किया है। गणतंत्र दिवस पर पूरी दुनिया इसे देखेगी।''


      हर साल 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाता है

      - बता दें कि 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाता है। इसका मकसद विदेशों में रह रहे भारतीय मूल के लोगों के अपने देश के लिए किए गए काम को अहमियत देना है।
      - बता दें कि बीते कई सालों से सरकार प्रवासी भारतीय दिवस मना रही है लेकिन इस साल पहली बार PIO-पार्लियामेंट्री कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया है।

      पिछले साल मोदी ने कहा था- प्रवासी लोग भारतीय मूल्यों के प्रतिनिधि

      - प्रवासी दिवस कार्यक्रम में मोदी ने कहा, "देश के विकास की यात्रा में प्रवासी भारतीय हमारे अहम साझेदार हैं। मैं ये पूरे विश्वास के साथ कहता हूं कि 21st सेन्चुरी भारत की होगी।"
      - "कालेधन और करप्शन के खिलाफ लड़ाई में आपके सपोर्ट के लिए धन्यवाद। दुर्भाग्य की बात है कि कालेधन के कुछ राजनीतिक पुजारी हैं जो हमारे प्रयासों को जनता विरोधी दर्शाते हैं।"
      - कार्यक्रम में मोदी ने कहा, "मेरे लिए FDI का मतलब सिर्फ फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट नहीं है, बल्कि फर्स्ट डेवलप इंडिया भी है।"

      पासपोर्ट का कलर नहीं, खून का रिश्ता देखते हैं

      - मोदी ने कहा, "हम पासपोर्ट का कलर नहीं देखते, खून का रिश्ता देखते हैं।"
      -"30 लाख भारतीय प्रवासियों की ताकत सिर्फ उनका संख्याबल नहीं है, बल्कि भारत और जिस देश वे रह रहे हैं उसके प्रति उनका सम्मान भी है।"
      - मोदी ने कार्यक्रम में कहा, "प्रवासी लोग भारतीय संस्कृति, सिद्धांत और मूल्यों का सबसे बेहतर प्रतिनिधित्व करते हैं।"

    • प्रवासी भारतीयों की पहली संसद: भारत ट्रांसफॉर्म हो रहा है, अब हर लेवल पर बदलाव दिखेगा- मोदी, national news in hindi, national news
      +1और स्लाइड देखें
      2017 में प्रवासी भारतीय दिवस के मौके पर मोदी ने कहा था कि मोदी ने कहा, हम पासपोर्ट का कलर नहीं देखते, खून का रिश्ता देखते हैं। (फाइल)
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Pravasi Bhartiya Diwas: PM Narendra Modi First PIO Parliamentary Conference
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From National

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×