Home | National | Latest News | National | Chief minister Kejriwal was being treated like a peon says Rajya Sabha member

केजरीवाल के साथ चपरासी की तरह बर्ताव करते हैं दिल्ली के LG: राज्यसभा में चर्चा के दौरान बोले SP सांसद

दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपराज्यपाल (एलजी) के बीच जारी अधिकारों की लड़ाई राज्यसभा तक पहुंच गई।

DainikBhaskar.com| Last Modified - Dec 29, 2017, 11:04 AM IST

1 of
Chief minister Kejriwal was being treated like a peon says Rajya Sabha member
पिछले दिनों केजरीवाल को मेट्रो की मेजेंटा लाइन के इनॉगरेशन में नहीं बुलाया गया। (फाइल)

नई दिल्ली.  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपराज्यपाल (एलजी) के बीच जारी अधिकारों की लड़ाई राज्यसभा तक पहुंच गई। SP सांसद ने सीएम के सपोर्ट में कहा कि दिल्ली के उपराज्यपाल, केजरीवाल के साथ चपरासी की तरह बर्ताव करते हैं। इसके बाद राज्यसभा के डिप्टी चेयरमैन पीजे कुरियन ने हाउसिंग एंड अरबन अफेयर्स मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी से कहा कि वो केजरीवाल और एलजी अनिल बैजल के बीच टकराव दूर करने की कोशिश करें। बता दें कि पिछले दिनों केजरीवाल को मेट्रो की मेजेंटा लाइन के इनॉगरेशन में नहीं बुलाया गया। सपा, टीएमसी समेत कई पार्टी के सांसदों ने इस मुद्दे को राज्यसभा में उठाया। दूसरी ओर, एलजी ने दिल्ली सरकार के होम डिलिवरी सर्विस के फैसले पर भी रोक लगाई है।

 

केंद्रीय मंत्री को सौंपा टकराव दूर करने का जिम्मा

- दरअसल, राज्यसभा में गुरुवार को दिल्ली में अवैध कॉलोनियों से जुड़े बिल पर चर्चा चल रही थी। इसी दौरान कई सांसदों ने केजरीवाल को मेट्रो की मेजेंटा लाइन के इनॉगरेशन प्रोग्राम में नहीं बुलाने का मुद्दा उठाया। कुछ ने दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल के बीच अधिकारों की लड़ाई का भी जिक्र किया। 
- इस पर डिप्टी चेयरमैन कुरियन ने केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी से कहा कि कृपया आप दोनों के बीच टकराव का हल निकालने की कोशिश करें। पुरी ने कहा कि 40 साल की पब्लिक सेक्टर लाइफ में मैंने आतंकवादियों तक से समझौते के लिए बातचीत की कोशिश की। लेकिन मेरे लिए यह बड़ा चैलेंज होगा, दोनों को लंच पर बुलाकर कोई हल निकालूंगा।   

 

प्रोग्राम में सीएम को नहीं बुलाना गलत परंपरा: सांसद 

- सांसद राज गोपाल वर्मा ने कहा कि मुझे बताया गया कि मेट्रो के यूपी में पड़ने वाले सेक्शन का इनॉगरेशन हुआ है तो मैं चुप रहा। लेकिन सभी लोग इस बात के विरोध में हैं कि जब दिल्ली मेट्रो ने इसे बनाया है तो वहां के सीएम को क्यों नहीं बुलाया। यह गलत परंपरा है। 
- उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने एक बार प्रोग्राम में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया था, क्योंकि इसमें राज्य के सीएम को नहीं बुलाया गया था। आज भी इसी परंपरा को फॉलो किया जाना चाहिए।
- इसी दौरान टीएमसी, सीपीएम, सीपीआईएम सांसद भी इनविटेशन नहीं देने के मुद्दे पर केजरीवाल के सपोर्ट में आ गए। सीपीएम के टीके रंगराजन ने कहा कि दिल्ली की तरह पुड्डुचेरी में भी उपराज्यपाल का राज चल रहा है।
  

केजरी के साथ चपरासी की तरह बर्ताब करते हैं LG: अग्रवाल

- केंद्रीय मंत्री और दिल्ली के सांसद विजय गोयल ने आप सरकार के द्वारा अवैध कॉलोनियों को रेग्यूलर नहीं करने का मुद्दा उठाया। इससे जुड़े बिल पर चर्चा में समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल भी शामिल हुए। 
- अग्रवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार को काम करने और फैसले लेने की आजादी नहीं है। उपराज्यपाल दिल्ली के सीएम के साथ एक चपरासी की तरह बर्ताव करते हैं। दिल्ली में एक चुनी हुई सरकार है, उसे काम करने का अधिकार मिले। क्यों बीजेपी नहीं चाहती है कि दिल्ली भी बनारस की तरह मॉडल सिटी बने। 

 

कब हुआ था मेट्रो की मेजेंटा लाइन का इनॉगरेशन?

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 दिसंबर को दिल्ली की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो की शुरुआत की थी। मेजेंटा लाइन नोएडा के बॉटनिकल गार्डन को साउथ दिल्ली के कालकाजी से जोड़ती है। इस प्रोग्राम को यूपी सरकार ने आयोजित किया था। इसमें केजरीवाल को नहीं बुलाने पर आप सरकार ने इसे दिल्ली की जनता का अपमान बताया था। 

Chief minister Kejriwal was being treated like a peon says Rajya Sabha member
नरेंद्र मोदी ने 25 दिसंबर को नोएडा से साउथ दिल्ली के बीच मेट्रो की मेजेंटा लाइन की शुरुआत की थी। (फाइल)
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now