• Hindi News
  • National
  • The Defence Minister says that we will not reveal the amount paid for buying Rafael aircrafts What does this mean This only means there is a scam: Rahul Gandhi
--Advertisement--

राफेल डील में घोटाला हुआ, मोदी ने खुद पेरिस जाकर सौदे में बदलाव कराया- ये देश जानता है: राहुल गांधी

राहुल ने कहा- डिफेंस मिनिस्टर ने कहा कि वो डील की रकम नहीं बता सकतीं। मैंने पहले ही कहा था कि इसमें स्कैम है।

Dainik Bhaskar

Feb 06, 2018, 07:40 PM IST
राहुल ने कहा कि सरकार आखिर राफेल एयरक्राफ्ट्स की कीमत देश को क्यों नहीं बता रही? इस डील में घोटाला हुआ है।- फाइल राहुल ने कहा कि सरकार आखिर राफेल एयरक्राफ्ट्स की कीमत देश को क्यों नहीं बता रही? इस डील में घोटाला हुआ है।- फाइल

नई दिल्ली. कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी ने मंगलवार को फ्रांस के साथ हुई राफेल फाइटर जेट डील में घोटाले का आरोप लगाया। उन्होंने कहा- डिफेंस मिनिस्टर कहती हैं कि राफेल एयरक्राफ्ट्स के लिए कितना पेमेंट किया गया, ये हम नहीं बता सकते। इसका मतलब ही ये कि डील में स्कैम हुआ। मोदी जी खुद पेरिस गए थे। उन्होंने डील में चेंज कराए। पूरा देश ये जानता है। बता दें कि 23 सितंबर, 2016 को फ्रांस के रक्षामंत्री ज्यां ईव द्रियां और भारत के रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने नई दिल्ली में राफेल सौदे पर साइन किए थे। इसके तहत भारत को 36 राफेल फाइटर जेट मिलेंगे।

जनता को कीमत बताए सरकार

- संसद के बाहर मीडिया से बातचीत में राहुल ने कहा कि सरकार आखिर राफेल एयरक्राफ्ट्स की कीमत देश को क्यों नहीं बता रही? इस डील में घोटाला हुआ है।
- कांग्रेस प्रेसिडेंट ने कहा- पहली बार डिफेंस मिनिस्टर ने कहा कि वो डील पर खर्च की गई रकम नहीं बता सकतीं। मैंने गुजरात चुनाव के दौरान ही कहा था कि इसमें स्कैम हुआ है। मोदी जी ने खुद ये डील फाइल कराई है।
- राहुल ने आगे कहा- मोदी जी खुद पेरिस गए थे उन्होंने खुद ये डील चेंज कराई। पूरा देश इस बात को जानता है। अब डिफेंस मिनिस्टर कह रही हैं कि वो देश को इस बारे में नहीं बता सकतीं। भारतीय शहीद हो रहे हैं और उनके रिश्तेदारों को नहीं बताया जा रहा कि डील कितने में हुई? इसका क्या मतलब है? इसके मायने हुए कि इसमें कुछ तो घोटाला हुआ है।

राहुल का कमेंट क्यों?

- सोमवार को डिफेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने राफेल डील की रकम बताने से इनकार करते हुए कहा था- यह इसलिए मुमकिन नहीं है क्योंकि भारत और फ्रांस के बीच एक सिक्युरिटी एग्रीमेंट हुआ है।

कांग्रेस ने राहुल की मांग ही दोहराई

- कांग्रेस के सीनियर लीडर गुलाम नबी आजाद ने कहा- मोदी सरकार देश के हितों और सुरक्षा के साथ ऐसे समझौते कर रही है जिसे माफ नहीं किया जा सकता। इंडियन एयरफोर्स के लिए फाइटर जेट्स खरीदने में बहुत बड़ा घोटाला हुआ है।
- रणदीप सिंह सुरजेवाला और राजीव गौड़ा ने भी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। सरकार पर डील की शर्तें छुपाने के आरोप लगाए। कहा- राफेल डील पर कांग्रेस ने 8 सवाल पूछे थे। सरकार ने इस पर खामोशी ओढ़ ली। पीएम देश की जनता को इस पर जवाब दें।
- आजाद ने कहा- हमारी जानकारी के मुताबिक, एनडीए ने एक राफेल फाइटर जेट 1570.8 करोड़ रुपए में खरीदा है। यूपीए के वक्त हमने इसकी कीमत 526.1 करोड़ रुपए लगाई थी। कतर को यही एयरक्राफ्ट 694.8 करोड़ में बेचा गया है। फिर भारत 100 गुना ज्यादा कीमत क्यों दे रहा है?

कब हुई राफेल डील, पहला फाइटर जेट कब मिलेगा?

- 23 सितंबर, 2016 को फ्रांस के रक्षामंत्री ज्यां ईव द्रियां और भारत के रक्षामंत्री मनोहर पर्रीकर ने नई दिल्ली में राफेल सौदे पर साइन किए थे। डील के तहत 36 राफेल फाइटर जेट विमान मिलने हैं। पहला एयरक्राफ्ट सितंबर 2019 तक मिलने की उम्मीद है और बाकी बीच-बीच में 2022 तक मिलने की उम्मीद है।


क्या है राफेल की खासियत?

- राफेल फ्रांस की डेसाल्ट कंपनी द्वारा बनाया गया 2 इंजन वाला फाइटर जेट है। ये एक मिनट में 60,000 फीट की ऊंचाई तक पहुंच सकता है। इसकी रेंज 3700 किलोमीटर है। साथ ही यह 2200 से 2500 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ सकता है। सबसे खास बात ये है कि इसमें मॉडर्न ‘मिटिअर’ मिसाइल और इजराइली सिस्टम भी है।

23 सितंबर, 2016 को फ्रांस के रक्षामंत्री ज्यां ईव द्रियां और भारत के रक्षामंत्री मनोहर पर्रीकर ने नई दिल्ली में राफेल सौदे पर साइन किए थे।- फाइल 23 सितंबर, 2016 को फ्रांस के रक्षामंत्री ज्यां ईव द्रियां और भारत के रक्षामंत्री मनोहर पर्रीकर ने नई दिल्ली में राफेल सौदे पर साइन किए थे।- फाइल
X
राहुल ने कहा कि सरकार आखिर राफेल एयरक्राफ्ट्स की कीमत देश को क्यों नहीं बता रही? इस डील में घोटाला हुआ है।- फाइलराहुल ने कहा कि सरकार आखिर राफेल एयरक्राफ्ट्स की कीमत देश को क्यों नहीं बता रही? इस डील में घोटाला हुआ है।- फाइल
23 सितंबर, 2016 को फ्रांस के रक्षामंत्री ज्यां ईव द्रियां और भारत के रक्षामंत्री मनोहर पर्रीकर ने नई दिल्ली में राफेल सौदे पर साइन किए थे।- फाइल23 सितंबर, 2016 को फ्रांस के रक्षामंत्री ज्यां ईव द्रियां और भारत के रक्षामंत्री मनोहर पर्रीकर ने नई दिल्ली में राफेल सौदे पर साइन किए थे।- फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..