--Advertisement--

सही समय पर बन जाएगा राम मंदिर: विदेश राज्यमंत्री जनरल वी.के. सिंह

दीक्षांत समारोह में हिस्सा लेने आए जनरल वीके सिंह ने पाकिस्तान पर भी साधा निशाना।

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2017, 08:23 PM IST
विदेश राज्यमंत्री जनरल वी.के. सिंह ने कहा- सही समय पर बन जाएगा राम मंदिर। विदेश राज्यमंत्री जनरल वी.के. सिंह ने कहा- सही समय पर बन जाएगा राम मंदिर।

जयपुर. केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह ने शनिवार को कहा कि एनडीए के मैनिफेस्टो में किए गए वादे के मुताबिक, राम मंदिर सही समय पर बन जाएगा। जयपुर में एक प्राइवेट यूनिवर्सिटी की कॉन्वोकेशन सेरेमनी में हिस्सा लेने गए वीके सिंह ने हाफिज सईद को लेकर पाकिस्तान पर स्टेटमेंट दिया। उन्होंने स्टूडेंट्स को पॉलिटिक्स में अपनी एंट्री के बारे में भी बताया।

हाफिज सईद पर पाक को घेरा
- मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की पाॅलिटिक्स में एंट्री को लेकर वीके सिंह ने कहा कि ये पाकिस्तान पर निर्भर करता है कि वो आतंकी देश बनना चाहता है या नहीं।
- जनरल ने कहा कि पाकिस्तान में क्या चल रहा है इस बात का भारत पर कोई असर नहीं पड़ना चाहिए, बल्कि पाकिस्तान को खुद अपना फैसला करना चाहिए।

एक्सिडेंट से ज्वाइन की पॉलिटिक्स
- इवेंट के दौरान जनरल सिंह ने कहा “रिटायरमेंट के बाद मैं समाज की सेवा करना चाहता था, इसलिए मैं अन्ना के आंदोलन के साथ जुड़ गया। लेकिन जैसे ही आंदोलन पॉलिटिकल होने लगा मैंने उससे दूरी बना ली। फिर मैं बिना किसी प्लानिंग के दुर्घटनावश पॉलिटिक्स में आ गया।


क्या है राम मंदिर विवाद?
- हिंदू संगठनों का दावा है कि अयोध्या में भगवान राम की जन्मस्थली पर विवादित बाबरी ढांचा बना था।
- राम मंदिर आंदोलन के दौरान 6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या में विवादित बाबरी ढांचा गिरा दिया गया था। मामला अब सुप्रीम कोर्ट में है।

अब तक क्या हुआ?

- बुधवार को सुप्रीम कोर्ट की दूसरी सुनवाई भी ट्रांसलेशन में अटक गई। कुल 19,590 पेज में से सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के हिस्से के 3260 पेज जमा नहीं हुए थे। जिसके बाद बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल ने इसे भूमि विवाद के साथ-साथ राजनैतिक मुद्दा बताते हुए 2019 के बाद सुनवाई करने की बात कोर्ट से कही थी। हालांकि, कोर्ट ने सिब्बल की इन दलीलों को ठुकराते हुए अगली सुनवाई 8 फरवरी को रखी।

कितनी पिटीशंस दायर हैं SC में?

- मामले में 7 साल से पेंडिंग 20 पिटीशन्स इस साल 11 अगस्त को पहली बार लिस्ट हुई थीं। पहले ही दिन डॉक्युमेंट्स के ट्रांसलेशन पर मामला फंस गया था। संस्कृत, पाली, फारसी, उर्दू और अरबी समेत 7 भाषाओं में 9 हजार पन्नों का अंग्रेजी में ट्रांसलेशन करने के लिए कोर्ट ने 12 हफ्ते का वक्त दिया था। इसके अलावा 90 हजार पेज में गवाहियां दर्ज हैं। यूपी सरकार ने ही 15 हजार पन्नों के दस्तावेज जमा कराए हैं।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने क्या दिया था फैसला?

- 30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट के जस्टिस सुधीर अग्रवाल, एस यू खान और डी.वी. शर्मा की बेंच ने मंदिर मुद्दे पर अपना फैसला भी सुनाते हुए अयोध्या की विवादित 2.77 एकड़ जमीन को तीन बराबर हिस्सों में बांटने का आदेश दिया था।
- बेंच ने तय किया था कि जिस जगह पर रामलला की मूर्ति है, उसे रामलला विराजमान को दे दिया जाए। राम चबूतरा और सीता रसोई वाली जगह निर्मोही अखाड़े को दे दी जाए। बचा हुआ एक-तिहाई हिस्सा सुन्नी वक्फ बोर्ड को दिया जाए।

हाफिज सईद की पाॅलिटिक्स एंट्री पर जनरल ने पाकिस्तान को लताड़ा। हाफिज सईद की पाॅलिटिक्स एंट्री पर जनरल ने पाकिस्तान को लताड़ा।
सात से चल रही है सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर केस की सुनवाई। सात से चल रही है सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर केस की सुनवाई।
X
विदेश राज्यमंत्री जनरल वी.के. सिंह ने कहा- सही समय पर बन जाएगा राम मंदिर।विदेश राज्यमंत्री जनरल वी.के. सिंह ने कहा- सही समय पर बन जाएगा राम मंदिर।
हाफिज सईद की पाॅलिटिक्स एंट्री पर जनरल ने पाकिस्तान को लताड़ा।हाफिज सईद की पाॅलिटिक्स एंट्री पर जनरल ने पाकिस्तान को लताड़ा।
सात से चल रही है सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर केस की सुनवाई।सात से चल रही है सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर केस की सुनवाई।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..