Hindi News »National »Latest News »National» SC Judges Controversy: Attorney General Said All Settle, Judges Attended Court

SC जज विवाद सुलझा: चारों सीनियर जज कोर्ट पहुंचे, अटॉर्नी जनरल बोले- ये प्याले में आए तूफान जैसा था

12 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जजों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर CJI के कामकाज पर सवाल उठाए थे।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 15, 2018, 04:11 PM IST

  • SC जज विवाद सुलझा: चारों सीनियर जज कोर्ट पहुंचे, अटॉर्नी जनरल बोले- ये प्याले में आए तूफान जैसा था, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    12 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट के 4 सीनियर जजों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कोर्ट के तौर-तरीके पर सवाल उठाए थे।

    नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट के 4 सीनियर जजों का विवाद थमता नजर आ रहा है। चारों जजों सोमवार को कोर्ट में गए और रूटीन कामों में हिस्सा लिया। वहीं अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि मामले को सुलझा लिया गया है। ये केवल चाय के प्याले में आए तूफान की तरह था।


    ये आतंरिक मामला था

    - बार काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन मनन मिश्रा ने कहा कि जज विवाद सुप्रीम कोर्ट का आतंरिक मामला था, जिसे अब सुलझा लिया गया है। सभी कोर्ट रूम्स में सामान्य कामकाज हो रहा है।
    - वेणुगोपाल ने भी कहा कि मामले को सुलझा लिया गया है। कोर्ट में सामान्य रूप से काम हो रहा है। ये चाय के कप में आए तूफान की तरह था।
    - बता दें कि चारों जजों ने कुछ बेंचो को ही केस रेफर करने की बात कही थी। ये भी कहा था कि कुछ मुद्दे देश की सबसे बड़ी अदालत के कामकाज पर असर डाल रहे हैं।

    CJI से 50 मिनट तक हुई BCI पैनल की चर्चा

    - रविवार को 7 मेंबरों के पैनल ने CJI दीपक मिश्रा ने BCI के 7 सदस्यीय डेलिगेशन से 50 मिनट तक मुलाकात की।

    - सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एसए बोबडे और जस्टिस एल नागेश्वर राव ने जस्टिस चेलमेश्वर के आवास पर उनसे मुलाकात की थी।

    - इसके अलावा BCI पैनल ने जस्टिस अरुण मिश्रा से भी मुलाकात की, जो जस्टिस बीएच लोया की मौत की जांच के मामले की सुनवाई के चलते चर्चा में आए थे।

    क्या है ये मामला?

    - सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने पहली बार अभूतपूर्व कदम उठाया। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद दूसरे नंबर के सीनियर जज जस्टिस जे चेलमेश्वर, रंजन गोगोई, मदन बी लोकुर और कुरियन जोसेफ ने शुक्रवार को मीडिया में 20 मिनट बात रखी। दो जज बोले, दो चुप ही रहे।
    - जस्टिस चेलमेश्वर ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के तौर-तरीकों पर सवाल उठाए। कहा- "लोकतंत्र दांव पर है। ठीक नहीं किया तो सब खत्म हो जाएगा।" चीफ जस्टिस को दो महीने पहले लिखा 7 पेज का पत्र भी जारी किया। इसमें कहा गया है कि चीफ जस्टिस पसंद की बेंचों में केस भेजते हैं। चीफ जस्टिस पर महाभियोग के सवाल पर बोले कि यह देश तय करे। उन्होंने जज लोया की मौत के केस की सुनवाई पर भी सवाल उठाए।

    जजों ने चीफ जस्टिस पर क्या आरोप लगाए?

    1.चीफ जस्टिस ने अहम मुकदमे पसंद की बेंचों को सौंप दिए। इसका कोई तर्क नहीं था। यह सब खत्म होना चाहिए। कोर्ट में केस अलॉटमेंट की मनमानी प्रॉसेस है।

    2. जस्टिस कर्णन पर दिए फैसले में हममें से दो जजों ने अप्वाइंटमेंट प्रॉसेस दोबारा देखने की जरूरत बताई थी। महाभियोग के अलावा अन्य रास्ते भी खोलने की मांग की थी।

    3. कोर्ट ने कहा था कि एमओपी में देरी न हो। केस संविधान पीठ में है, तो दूसरी बेंच कैसे सुन सकती है? कॉलेजियम ने एमओपी मार्च 2017 में भेजा पर सरकार का जवाब नहीं आया। मान लें कि वही एमओपी सरकार को मंजूर है।

  • SC जज विवाद सुलझा: चारों सीनियर जज कोर्ट पहुंचे, अटॉर्नी जनरल बोले- ये प्याले में आए तूफान जैसा था, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    7 मेंबरों के पैनल ने रविवार को मसले पर चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा से भी बात की थी। (फाइल)
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: SC Judges Controversy: Attorney General Said All Settle, Judges Attended Court
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×