• Home
  • National
  • SSC exam controversy result declared before valuation of copies
--Advertisement--

भर्ती परीक्षाओं में धांधली के आरोपों के बीच SSC का नया कारनामा, कॉपियों के मूल्यांकन से पहले ही जारी किया रिजल्ट

भर्ती प्रक्रिया में गड़बड़ी के आरोप झेल रहे कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) का एक और कारनामा उजागर हुआ है।

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 11:02 AM IST
अन्ना हजारे रविवार सुबह एसएससी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे स्टूडेंट्स से मिले। अन्ना हजारे रविवार सुबह एसएससी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे स्टूडेंट्स से मिले।

नई दिल्ली. भर्ती प्रक्रिया में धांधली के आरोप झेल रहे कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) के खिलाफ स्टूडेंट्स का प्रदर्शन 7वें दिन भी जारी है। रविवार को समाजसेवी अन्ना हजारे ने आयोग के दफ्तर के बाहर लड़के-लड़कियों से मुलाकात की। वहीं, बीजेपी सांसद मनोज तिवारी कुछ स्टूडेंट्स के साथ राजनाथ सिंह से मिले। उन्होंने कहा कि गृह मंत्री ने मामले में निष्पक्ष जांच का भरोसा दिया है। इसी बीच, एसएससी का एक और कारनामा उजागर हुआ। उसने एक एग्जाम का रिजल्ट तब घोषित कर दिया जब उसकी कॉपियों का मूल्यांकन अभी जारी है।

15 लाख स्टूडेंट्स ने भरते हैं फॉर्म

- इतना ही नहीं नियमों को ताक पर रखते हुए मल्टी टास्किंग के इस एग्जाम में मूल्यांकन के बीच में ही क्वालिफाई नंबर तक जारी किए। जबकि नियम के हिसाब से पिछले चार साल में क्वालिफाइंग नंबर तब जारी हुए थे, जब सभी कॉपियों का मूल्यांकन कर लिया जाता था।

- बता दें कि इस एग्जाम में करीब 15 लाख फॉर्म भरे जाते हैं। इनमें बड़ी संख्या बीटेक, एमए, एमबीए स्टूडेंट्स की होती है।

परीक्षा के बीच में बदले नियम

- दिल्ली के रहने वाले अरविंद बीटेक पास हैं। अब वे इसलिए परेशान हैं क्योंकि एसएससी ने परीक्षा के बीच में ही कई नियम बदल दिए। ये इस परीक्षा के पेपर 1 में पास हो चुके थे। लेकिन अब इसलिए परेशान हैं कि जिस पेपर 2 के कॉपी का मूल्यांकन का काम अभी चल रहा है।
- वहीं, राजस्थान निवासी रविंद्र सिंह एसएससी की प्रक्रिया पर सवाल उठाते हैं। कहते हैं, जब कॉपी मूल्यांकन का काम जारी है तो कुछ उम्मीदवारों को डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए क्यों बुला लिया। एसएससी की इस हरकत से पेपर 1 में सिलेक्ट हो चुके करीब डेढ़ लाख उम्मीदवार परेशान हैं।

ये नियम टूटे, जो बताए नहीं गए

- 21 फरवरी को नोटिफिकेशन जारी करते हुए एसएससी ने बताया कि 10 हजार 302 सीट के लिए पेपर 1 के 23 हजार 511 छात्रों का डॉक्यूमेंटेशन के लिए बुलाया है। इन्हीं बच्चों में चयन प्रक्रिया पूरी की जाएगी।
- एसएससी के इतिहास में पहली बार हुआ कि कॉपी मूल्यांकन प्रक्रिया के बीच में अनुमानित रिजल्ट घो‌षित कर दिया। वहीं, एसएससी ने पहली बार मूल्यांकन खत्म होने के पहले ही क्वालिफाई नंबर बता दिए। जबकि इसके पहले क्वालिफाई नंबर बाद में बताए जाते थे।

गलतियां छिपाने के लिए एसएससी की सफाई

- अपनी गलतियां छिपाने के लिए एसएससी ने उन उम्मीदवारों को भी डाक्यूमेंटेशन के लिए बुलाया है, जिन्होंने पेपर दो की परीक्षा नहीं दी। एसएससी के अंडर सेक्रेटरी जी. नायक ने कहा कि पेपर-1 परीक्षा के आधार पर उम्मीदवारों को डाॅक्यूमेंटेशन के लिए बुलाया है। उन्होंने पत्र के माध्यम से बताया कि जो बच्चे पेपर-2 के एग्जाम में गैर-हाजिर थे या जो बच्चे ये पेपर क्वालिफाई नहीं कर पाएंगे उनका चयन नहीं किया जाएगा।

सवालों पर एसएससी चेयरमैन ने साधी चुप्पी

- कॉपी मूल्यांकन के बीच ही क्वालिफाई नंबर घोषित करने के मामले में जब एसएससी के चेयरमैन असीम खुराना से सवाल किए गए तो उन्होंने कोई जवाब
नहीं दिया।

Q. एसएसएसी को ये कैसे पता चला कि जिन्हें डॉक्यूमेंटेशन के लिए बुलाया गया है, वही योग्य हैं, जबकि पेपर 2 के मूल्यांकन का काम जारी है।
असीम खुराना- कुछ नहीं बोले।

Q. एसएससी के नोटिफकेशन में यह भी नहीं बताया कि अगर बुलाए गए उम्मीदवार से भी सीट नहीं भरती है तो बची हुई सीट पर क्या अन्य उम्मीदवारों को भी मौका मिलेगा?
असीम खुराना- कुछ नहीं बोले।

भर्ती परीक्षाओं में धांधली का आरोप लगाते हुए स्टूडेंट्स 7 दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं। भर्ती परीक्षाओं में धांधली का आरोप लगाते हुए स्टूडेंट्स 7 दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं।
बीजेपी सांसद मनोज तिवारी रविवार को प्रदर्शन करने वाले कुछ स्टूडेंट्स को लेकर राजनाथ सिंह से मिले। बीजेपी सांसद मनोज तिवारी रविवार को प्रदर्शन करने वाले कुछ स्टूडेंट्स को लेकर राजनाथ सिंह से मिले।
इसबीच, एसएससी के मल्टी टास्किंग एग्जाम के पेपर-2 में गड़बड़ी सामने आई है। -फाइल इसबीच, एसएससी के मल्टी टास्किंग एग्जाम के पेपर-2 में गड़बड़ी सामने आई है। -फाइल