• Home
  • National
  • Subramanian Swamy raised suspicion of supari killing on Rajiv Gandhi assassination
--Advertisement--

राजीव गांधी की सुपारी देकर हत्या कराई गई, इससे किसी को फायदा हो सकता है: सुब्रमण्यम स्वामी का दावा

21 मई 1991 में श्रीपेरंबुदूर में सुसाइड हमले में राजीव गांधी की हत्या हो गई थी।

Danik Bhaskar | Mar 12, 2018, 01:28 PM IST
राजीव गांधी एक चुनावी रैली में तमिलनाडु के श्रीपेरम्बुदूर गए थे। तभी एक आत्मघाती हमले में उनकी हत्या कर दी गई। (फाइल) राजीव गांधी एक चुनावी रैली में तमिलनाडु के श्रीपेरम्बुदूर गए थे। तभी एक आत्मघाती हमले में उनकी हत्या कर दी गई। (फाइल)

नई दिल्ली. बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी का दावा है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या सुपारी देकर कराई गई। ये साजिश इसलिए रची गई क्योंकि इससे किसी को काफी पैसा मिल सकता था। सबसे ज्यादा फायदा सोनिया गांधी को हुआ। स्वामी ने मामले की जांच कराने की भी मांग की है। बता दें कि राहुल गांधी ने हाल ही में सिंगापुर में बयान दिया था कि उन्होंने और उनकी बहन प्रियंका ने पिता के हत्यारों को माफ कर दिया है।

स्वामी ने नलिनी का हवाला दिया
- स्वामी के हवाले से न्यूज एजेंसी एएनआई ने कहा है, "सुप्रीम कोर्ट ने नलिनी को मौत की सजा सुनाई थी। इन्होंने (कांग्रेस की अगुआई वाली संप्रग सरकार) ने राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखी कि उसे उम्रकैद देनी चाहिए। उनके (राहुल के) सिंगापुर में दिए बयान से सारे परिवार पर संदेह आया है। राजीव की हत्या से सबसे ज्यादा फायदा सोनिया गांधी को हुआ था।"
- स्वामी ने प्रियंका गांधी के नलिनी से जेल में मिलने पर भी सवाल उठाया है। उन्होंने कहा, "ऐसे मौके पर प्रियंका वहां चली जाती हैं। दोषी से सिर्फ रिश्तेदार मिल सकते हैं। प्रियंका उनकी कौन सी रिश्तेदार हैं? सोनिया ने नलिनी की लड़की का इंग्लैंड में पढ़ाई का सारा खर्चा उठाया। उन्होंने इतनी दया क्यों दिखाई?"
- "क्या राजीव गांधी उनकी प्रॉपर्टी हैं? वह देश के प्रधानमंत्री थे, इसलिए उनकी हत्या हुई। इन्होंने देश के प्रधानमंत्री की नीति पर एतराज कर उनकी जान ली तो आगे कौन सही नीति बनाने की हिम्मत करेगा।"

स्वामी ने क्या बताई वजह
- "लिबरेशन ऑफ टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (LTTE) ने राजीव की हत्या की वजह में बताया था कि उन्होंने श्रीलंका में लिट्टे से लड़ने के लिए आर्मी भेजी थी। हालांकि वह (राजीव गांधी) केवल संसद में पारित प्रस्ताव पर एक्टिंग करते हुए कहते थे कि श्रीलंका ने एलटीटीई से लड़ने में मदद देने के लिए कहा था, क्योंकि वे अकेले उससे नहीं निपट पा रहे हैं।"
- "राजीव एक सच्चे देशभक्त थे। जो उनकी हत्या के लिए जिम्मेदार थे, उनके साथ सहानुभूति नहीं रखी जानी चाहिए। पहले नलिनी को मौत की सजा दी गई, फिर उसे घटाकर उम्रकैद में बदल दिया गया। मुझे यह समझ में नहीं आता कि जिन्होंने हमारे प्रधानमंत्री को मारा, उनको लेकर हम भावुक क्यों होने लगते हैं।"
- "राहुल के बयान से राष्ट्रवाद गायब दिखता है। उन्हें ध्यान रखना चाहिए कि जो सजा दी गई वह उनके पिता नहीं बल्कि देश के प्रधानमंत्री के हत्यारों के लिए थी।"
- बता दें कि 21 मई 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरम्बुदूर में एक चुनावी सभा के दौरान लिट्टे की आत्मघाती हमलावर ने राजीव गांधी की हत्या कर दी थी।

सिंगापुर में क्या बोले थे राहुल?

- राहुल ने कहा था, "मुझे याद है जब मैंने प्रभाकरण (लिट्टे का पूर्व प्रमुख) को टीवी पर मरा हुआ देखा। तब मुझे दो अहसास हुए। एक- इस शख्स का इस तरह क्यों अपमान किया गया? दूसरा- मुझे प्रभाकरण और उसके बच्चों को लेकर दुख हुआ। इसकी वजह यह थी कि मैं उस दुख को समझ सकता था।"
- "मैंने हिंसा देखी थी। लेकिन यह भी जाना कि वह भी एक इंसान था। उसका भी एक परिवार था। उसके जाने के बाद उसके बच्चे रो रहे थे। मुझे यह सब सोचकर बहुत दुख हुआ। मैंने पाया कि लोगों से नफरत करना काफी कठिन है। मेरी बहन ने भी ऐसा ही किया।"
- राहुल ने कहा, "मैं जानता था कि मेरे पिता की मौत हो सकती थी। मैं जानता था कि मेरी दादी की हत्या हो सकती थी। राजनीति में अगर आप गलत ताकतों को दबाना चाहते हैं, आप किसी के साथ खड़े होते हैं तो आपको मरना पड़ेगा।"

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि राजीव एक सच्चे देशभक्त थे। जो उनकी हत्या के लिए जिम्मेदार थे, उनके साथ सहानुभूति नहीं रखी जानी चाहिए। (फाइल) सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि राजीव एक सच्चे देशभक्त थे। जो उनकी हत्या के लिए जिम्मेदार थे, उनके साथ सहानुभूति नहीं रखी जानी चाहिए। (फाइल)