• Home
  • National
  • Sushma Swaraj helps girl in getting Visa for studying in US
--Advertisement--

स्कॉलरशिप मिलने के बावजूद लड़की नहीं जा पा रही थी US, सुषमा ने की वीजा दिलाने में मदद

राजस्थान की लड़की को कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से मिली थी 1 करोड़ की स्कॉलरशिप, अमेरिका जाने को नहीं मिल रहा था वीजा।

Danik Bhaskar | Jan 05, 2018, 10:07 PM IST
सुषमा स्वराज ने वीजा दिला कर पूरा किया लड़की का अमेरिका में पढ़ाई का सपना। सुषमा स्वराज ने वीजा दिला कर पूरा किया लड़की का अमेरिका में पढ़ाई का सपना।

नई दिल्ली. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने एक बार फिर मदद के लिए हाथ बढ़ाते हुए एक लड़की के अमेरिका जाने के सपने को पूरा किया। दरअसल, राजस्थान की रहने वाली भानुप्रिया हरितवाल को अमेरिका की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप मिली थी, लेकिन अमेरिकन एंबेसी से वीजा ना मिलने की वजह से उसे परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। हालांकि, सुषमा स्वराज की पहल के बाद अब एंबेसी ने लड़की को वीजा जारी कर दिया है।

एंट्रेस इग्जाम में हासिल की 2nd रैंक

- 17 साल की भानुप्रिया ने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के एग्जाम में 2nd रैंक हासिल की थी। इसके लिए यूनिवर्सिटी ने उसे 4 साल के कंप्यूटर साइंस के कोर्स के लिए स्कॉलरशिप दी थी।
- अमेरिका में पढ़ाई के लिए लड़की ने एंबेसी में वीजा के लिए दो बार अप्लाई किया, लेकिन दोनों ही बार उसका वीजा रिजेक्ट कर दिया गया।

राजस्थान सरकार से मिली थी 1 करोड़ की स्कॉलरशिप

- 2015 में 10th के बोर्ड एग्जाम में रैंक हासिल करने पर राजस्थान सरकार ने भानुप्रिया विदेश में पढ़ने के लिए 1 करोड़ की स्कॉलरशिप दी थी।
- 12th के बोर्ड एग्जाम पास करने के बाद लड़की ने SAT और IELTS में भी अच्छे मार्क्स हासिल किए थे, जिसके चलते उसे कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में एडमिशन मिला।

सांसद ने पहुंचाई सुषमा तक बात

- राजस्थान से सिकार के सांसद स्वामी सुमेधानंद ने न्यूज एजेंसी को बताया कि लड़की के परिवारवालों ने वीजा दिलाने में मदद मांगी थी, जिसके बाद उन्होंने इस मामले को विदेश मंत्री के सामने उठाया और लड़की को वीजा दिलाने में मदद की।
- सांसद ने कहा कि लड़की टैलेंटेड है और अब अपनी आगे की पढ़ाई के लिए अमेरिका जा सकेगी।

17 साल की भानुमति को कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से मिली थी स्कॉलरशिप। 17 साल की भानुमति को कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से मिली थी स्कॉलरशिप।