Hindi News »National »Latest News »National» Vice President Venkaiah Naidu On Vande Mataram

मां को सलाम नहीं करेंगे तो क्या अफजल गुरु को करेंगे? वंदे मातरम् पर उपराष्ट्रपति

आतंकी अफजल संसद पर हमले का दोषी था, जिसे फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 08, 2017, 12:32 PM IST

    • Video: उपराष्ट्रपति ने वंदे मातरम् विवाद पर विरोधियों को आड़े हाथों लिया...

      नई दिल्ली.उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने राष्ट्रगीत 'वंदे मातरम्' का विरोध करने वालों को आड़े हाथों लिया। एक प्रोग्राम में उन्होंने कहा, ''वंदे मातरम् के बारे में विवाद होता है। इसका मतलब है मां तुझे सलाम। इसमें क्या परेशानी है। अगर मां को सलाम नहीं करेंगे तो क्या अफजल गुरु को करेंगे?'' वेंकैया गुरुवार को विश्व हिंदू परिषद् के दिवंगत अध्यक्ष अशोक सिंघल की बुक लॉन्च इवेंट में शामिल हुए थे। बता दें आतंकी अफजल संसद पर हमले का दोषी था, जिसे फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है।

      जिंदगी जीने का रास्ता दिखाता है हिंदुत्व

      - वाइस प्रेसिडेंट ने आगे कहा कि 'भारत माता की जय' फोटो में दिखने वाली सिर्फ एक देवी की बारे में नहीं बोलते हैं। यह देश के 125 करोड़ लोगों की जय है। जिसमें अलग-अलग जाति, धर्म और प्रांतों के लोग शामिल हैं। ये सभी भारतीय हैं।

      - वेंकैया ने 1995 में दिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का जिक्र करते हुए कहा कि हिंदुत्व कोई धर्म नहीं बल्कि जिंदगी जीने का रास्ता है। हिंदूवादी होना संकुचित विचारधारा नहीं, यह बड़े स्तर पर फैली भारतीय संस्कृति का प्रतिनिधित्व करता है।

      हमारी संस्कृति वसुधैव कुटुम्बकम

      - वैंकेया ने कहा कि हिंदू धर्म सालों से चली आ रही भारतीय संस्कृति और परंपरा है। इसमें पूजा-पाठ के तरीके अलग हो सकते हैं, लेकिन जिंदगी जीने का रास्ता एक जैसा है।

      - भारतीयों के अहिंसावादी रवैये के चलते हर टॉम, डिक और हैरी (एक फिल्म के कैरेक्टर) देश पर हमला करते, शासन करते और लूटपाट करते आए हैं। लेकिन हमारी संस्कृति ऐसी नहीं है कि किसी देश पर हमला किया हो। हमारी संस्कृति वसुधैव कुटुम्बकम है। इसका मतलब है कि पूरी दुनिया एक परिवार है।


      सिंघल ने 75 साल तक त्याग किया
      - उपराष्ट्रपति ने कहा कि अशोक सिंघल हिंदुत्व के पक्षधर थे। देश की कई पीढ़ियों के लिए उन्होंने 75 साल तक त्याग किया। साइंस और इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद भी गंगा के किनारे जाकर समाज, धर्म और संस्कृति का प्रतिनिधित्व किया।
      - आजादी की लड़ाई में सिंघल चाहते थे कि मुस्लिम भी बड़ी संख्या में इसमें शामिल हों। वह इकलौते प्रचारक थे, जिन्होंने 60 दशक तक समाज के लिए काम किया।

    • मां को सलाम नहीं करेंगे तो क्या अफजल गुरु को करेंगे? वंदे मातरम् पर उपराष्ट्रपति, national news in hindi, national news
      +1और स्लाइड देखें
      वेंकैया नायडू वीएचपी के दिवंगत अध्यक्ष अशोक सिंघल की बुक लॉन्च में शामिल हुए। -फाइल
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |
    Web Title: Vice President Venkaiah Naidu On Vande Mataram
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From National

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×