देश

  • Home
  • National
  • Yashwant Sinha to launch Rashtra Manch TMC MP joins him
--Advertisement--

यशवंत सिन्हा कल लॉन्च करेंगे राष्ट्र मंच, TMC सांसद ने किया फोरम ज्वाइन करने का एलान

बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा कई बार मोदी सरकार के कामकाज और फैसलों की खुले तौर पर आलोचना कर चुके हैं।

Danik Bhaskar

Jan 29, 2018, 10:07 PM IST
यशवंत सिन्हा को बीजेपी नेता शत यशवंत सिन्हा को बीजेपी नेता शत

नई दिल्ली. सीनियर बीजेपी लीडर यशवंत सिन्हा मंगलवार को राष्ट्र मंच की लॉन्चिंग करेंगे। सिन्हा ने कहा कि ये पॉलिटिकल लीडर्स और उन लोगों का मंच होगा, जो देश के मौजूदा हालात को लेकर परेशान हैं। तृणमूल कांग्रेस के सांसद दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि वे भी राष्ट्र मंच ज्वाइन करेंगे। ऐसे भी कयास लगाए जा रहे हैं कि एनडीए के असंतुष्ट सांसद भी यह खेमा ज्वाइन कर सकते हैं। 2019 के चुनाव से पहले राष्ट्र मंच के एलान को सरकार के खिलाफ माहौल बनाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है।

राष्ट्र मंच पर क्या बोले यशवंत सिन्हा?

- सिन्हा ने कहा, "राष्ट्र मंच को ज्वाइन करने वालों का खुलासा मंगलवार को होगा। जो भी ये मंच ज्वाइन करेगा, वो अपनी खुद की क्षमता पर करेगा और इसलिए करेगा ताकि मौजूदा हालात पर अपनी चिंताओं को जाहिर कर सके। ये फोरम उन लोगों के लिए है, जो देश के मौजूदा हालात को लेकर चिंतित हैं।''

- सिन्हा ने ट्वीट किया, "आप जो कुछ भी करें, मैं अपने कर्तव्य से भाग नहीं सकता। मैं देश के युवाओं से इस मंच से जुड़ने की अपील करता हूं।''

पीएम मोदी के खिलाफ भी आवाज उठाएं मंत्री: यशवंत

- सुप्रीम कोर्ट के जज विवाद पर सिन्हा ने कहा था, ''देश में इमरजेंसी जैसे हालात न बनें, इसके लिए संसद का छोटा सेशन बुलाकर आवाज उठानी चाहिए। अगर संसद को लगता है कि सुप्रीम कोर्ट में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है तो लोकतंत्र खतरे में है।''
- ''अगर सुप्रीम कोर्ट के 4 जज मीडिया के सामने आकर यह बोलते हैं कि लोकतंत्र पर खतरा है, हमें उनके शब्दों को गंभीरता से लेना चाहिए। सभी नागरिक जो लोकतंत्र के बारे में सोचते हैं, उन्हें बोलना चाहिए। मैं पार्टी (बीजेपी) नेताओं और कैबिनेट के मंत्रियों से अपील करता हूं कि डर छोड़कर आवाज उठाएं।''
- ''सुप्रीम कोर्ट के जजों की तरह देश के प्रधानमंत्री भी सभी मंत्रियों के बराबर हैं, लेकिन सरकार में प्रथम मंत्री हैं। कैबिनेट के साथियों को भी उनके खिलाफ बोलने में कोई हिचकिचाहट नहीं होनी चाहिए।''

सिन्हा ने कई बार सरकार को आड़े हाथों लिया

- बता दें कि पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा मोदी सरकार के जीएसटी और नोटबंदी पर सवाल उठा चुके हैं। उन्होंने कहा था कि इससे देश की इकोनॉमी को नुकसान हुआ। उन्होंने कश्मीर मुद्दे को लेकर सरकार की नीतियों को भी कठघरे में खड़ा किया।
- एक आर्टिकल में उन्होंने कहा था, '"इकोनॉमी की हालत खराब है। पिछले दो दशक में प्राइवेट क्षेत्र में इन्वेस्टमेंट सबसे कम रहा है। जीएसटी को गलत तरीके से लागू किया गया। इससे लाखों लोग बेरोजगार हो गए। इकोनॉमी में पहले से ही गिरावट आ रही थी, नोटबंदी ने तो सिर्फ आग में घी का काम किया।''
- इंटरव्यू में सिन्हा ने दावा किया था कि उन्होंने नरेंद्र मोदी से मुलाकात का वक्त मांगा था, पर नहीं मिला। पीएम के इस बर्ताव से वे बेहद आहत हुए।

Click to listen..