• Home
  • National
  • Kanhaiya Kumar and Shehla Rashid answer Why not end studies
--Advertisement--

कन्हैया कुमार और शेहला रशीद की पढ़ाई क्यों नहीं खत्म हो रही? ये है जवाब

कन्हैया कुमार और शेहला ने एक प्रोग्राम में जवाब दिया कि आखिर उनकी पढ़ाई क्यों खत्म नहीं हो रही है।

Danik Bhaskar | Mar 13, 2018, 04:20 PM IST

नेशनल डेस्क. जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद को लेकर सवाल उठता रहा है कि आखिर वो जेएनयू में कब तक पढ़ते रहेंगे। उनकी पढ़ाई क्यों खत्म नहीं हो रही है। दोनों से यही सवाल एक टीवी चैनल के प्रोग्राम में पूछा गया। बताते हैं कि आखिर इस सवाल पर कन्हैया कुमार और शेहला रशीद ने क्या जवाब दिया।

'मोदी जी ने तो 35 की उम्र में MA किया हम 30 की उम्र में पीएचडी भी न करें'

कन्हैया कुमार ने सवाल के जवाब में कहा कि 'बीजेपी के पास कोई मुद्दा नहीं बचा है इसलिए वो इस तरह के आरोप लगाती है। उन्होंने कहा कि हमसे पूछ रहे हैं कि हम 30 साल तक क्यों पढ़ रहे हैं। अरे भाई हमारे पीएम ने तो 35 साल की उम्र में एमए किया तो हम 30 साल की उम्र में पीएचडी भी न करें।'

शेहला रशीद का जवाब
शेहला रशीद ने कहा कि 'हमारे देश का स्कूलिंग सिस्टम ऐसा है कि जब आप तीन से चार साल के होते हैं तब नर्सरी में होते हैं। दसवीं पास करते हैं तो सोलह साल के होते हैं। बारहवीं पास करते हैं तो अठ्ठारह साल के हो जाते हैं। बीए करते हैं तो इक्कीस साल, बीटेक करते हैं तो 22 साल, बीएएलएलबी करते हैं 24 साल, उसके बाद एमए करना चाहे तो 26 साल। एमफिल करना चाहे तो 28 साल ले लीजिए। उसके बाद पीएचडी करना चाहे तो तीन से चार सौ और ले लीजिए।'

'बीजेपी को पढ़ाई खत्म कराने की जल्दी क्यों है?'
उन्होंने कहा कि 'आज डिस्कोर्स बदल गया है। पहले कहते थे कि पढ़ने की कोई उम्र नहीं होती है आज इन लोगों (बीजेपी) को पढ़ाई खत्म कराने की जल्दी है। इनके मिनिस्टर (बीजेपी) कहते हैं कि डार्विन की थ्योरी गलत है। ये लोग कहते हैं हम इतिहास बदल देंगे, चलो वो भी ठीक है। तो एक काम करो, आप पढ़ाई के सिस्टम को ही खत्म कर दो। सब लोग शाखा चलते हैं वहीं से नॉलेज लेकर आते हैं।

'हम भी देते हैं टैक्स'
कन्हैया कुमार और शेहला रशीद से पढ़ाई खत्म करने का सवाल इसलिए भी पूछा जाता है कि कुछ लोग कहते हैं कि ये लोग जनता के पैसों से पढ़ाई के बदले टाइम पास कर रहे हैं। शेहला रशीद ने इसका भी जवाब दिया। उन्होंने कहा कि हम भी टैक्स देते हैं। जीएसटी, स्टेट जीएसटी जैसे अलग-अलग माध्यमों के जरिए।