--Advertisement--

हाईकमान दिल्ली में आज करेगा हिमाचल के CM का एलान, धूमल-जयराम समर्थकों के हंगामे की वजह से तय नहीं हो पाया था नाम

हिमाचल में बीजेपी ने सीएम के तौर पर प्रेम कुमार धूमल का नाम प्रोजेक्ट किया था। वे चुनाव हार गए।

Dainik Bhaskar

Dec 23, 2017, 08:02 AM IST
धूमल और जयराम समर्थक आमने-सामन धूमल और जयराम समर्थक आमने-सामन

शिमला. हिमाचल का सीएम कौन होगा? इसका फैसला शनिवार को हाईकमान नई दिल्ली में करेगा। ऐसा कहा जा रहा है कि इस पोस्ट पर बीजेपी चुने हुए विधायकों में से ही किसी एक को बैठाएगी। शुक्रवार शाम को ऑब्जर्वर्स निर्मला सीतारमण और नरेंद्र सिंह तोमर बिना कोई फैसला लिए शिमला से दिल्ली लौट आए थे। जयराम ठाकुर का नाम सामने आने पर धूमल समर्थकों ने ऑब्जर्वर्स के सामने हंगामा किया था। बता दें कि हाल के असेंबली चुनाव में बीजेपी को 44, कांग्रेस 21 और अन्य को 3 सीट मिली हैं।

ऑब्जर्वर्स की किसके साथ चर्चा हुई?

- निर्मला सीतारमण और नरेंद्र सिंह तोमर की प्रदेश महामंत्री पवन राणा, सांसद शांता कुमार, वीरेंद्र कश्यप के साथ भी चर्चा हुई। इन्होंने सब से अलग-अलग बात की। इसके अलावा, कुछ विधायकों से भी बात हुई। हालांकि हंगामा होने की वजह से सबका फीडबैक नहीं लिया जा सका।

कौन हैं सीएम की दौड़ में?

- इस दौड़ में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्‌डा, पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल, सिराज से विधायक जयराम ठाकुर और शिमला के विधायक सुरेश भारद्वाज शामिल हैं। सीतारमण और नरेंद्र सिंह तोमर ने इनसे भी बात की।

हंगामे की वजह से नाम तय नहीं हो पाया

- धूमल और जयराम समर्थक आमने-सामने थे। सीएम के नाम के लिए होने वाली बैठक से पहले ही धूमल गुट उन्हें सीएम बनाने की मांग करते हुए नारेबाजी करने लगा। वहीं, दूसरी तरफ जयराम समर्थक भी इकट्ठे हो गए और मोदी और बीजेपी जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। बीच-बीच कई बार दोनों गुटों में माहौल गरमाया भी। इसी दौरान वहां पहुंचे ऑब्जर्वरों की गाड़ियों को भी रोक लिया। दोनों गुटों के समर्थकों के बीच धक्का मुक्की भी हुई, लेकिन सीनियर नेताओं ने मामले को संभाल लिया।

- इसके बाद पीटरहाॅफ में एक घंटा मीटिंग के बाद ऑब्जर्वर दिल्ली चले गए। धूमल समर्थकों की नारेबाजी के कारण ऑब्जर्वर्स ने किसी नाम पर मुहर नहीं लगाई। बैठक के बाद मंगल पांडे ने कहा- "राज्य में कौन अगला सीएम होगा, इसके लिए सभी बड़े नेताआें से बात हो चुकी है। नेताआें से लेकर कार्यकर्ताआें को ऑब्जर्वर्स ने सुना। अब इसकी पूरी रिपोर्ट पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को सौंपेंगे। उनके मार्गदर्शन के बाद ही नाम का एलान किया जाएगा।"

जीता हुआ कैंडिडेट ही सीएम बनेगा

- सूत्रों के अनुसार पार्टी किसी जीते हुए विधायक को ही सीएम बनाना चाहती है और इनमें जयराम का नाम सबसे ऊपर चल रहा है ।

धूमल रेस में पीछे क्यों?

- हिमाचल प्रदेश असेंबली इलेक्शन में बीजेपी ने सीएम के तौर पर प्रेम कुमार धूमल का नाम प्रोजेक्ट किया था। पार्टी ने तो शानदार जीत दर्ज की लेकिन धूमल सुजानपुर सीट हार गए। पार्टी के लिए इससे दिक्कतें बढ़ गईं।

कौन हैं जयराम ठाकुर?

- 5वीं बार मंडी जिले के सिराज विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए हैं। ठाकुर 1998 में पहली बार विधायक बने थे। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) से अपना पॉलिटिकल करियर शुरू किया था। ठाकुर मंडी के राजकीय महाविद्यालय में पढ़ाई के दौरान ABVP से जुड़े। बीए करने के बाद वह जम्मू में होल टाइमर ABVP कार्यकर्ता बने। दस साल के बाद 90 के दशक में उन्हें मंडी के सिराज विधानसभा क्षेत्र से युवा मोर्चा का अध्यक्ष बनाया गया। इसके बाद 1993 में वह युवा मोर्चा के जिलाअध्यक्ष भी रहे।

X
धूमल और जयराम समर्थक आमने-सामनधूमल और जयराम समर्थक आमने-सामन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..