--Advertisement--

ओला में ऐसे गाड़ी बुक करके आप भी कर सकते हैं कमाई, जानिए पूरा प्रॉसेस

ओला कैब में गाड़ी बुक करके आप अच्छी कमाई कर सकते हैं।

Danik Bhaskar | Feb 08, 2018, 12:02 AM IST

यूटिलिटी डेस्क। ओला कैब में गाड़ी बुक करके आप अच्छी कमाई कर सकते हैं। इसकी प्रॉसेस भी आसान है। ओला तभी आपकी गाड़ी को अटैच करेगा, जब उसकी कंडीशन अच्छी होगी। ड्रायवर आपको हायर करना होगा। ड्रायवर के पास कमर्शियल लाइसेंस भी होना जरूरी है। आज हम आपको बता रहे हैं ओला में गाड़ी बुक करने की पूरी प्रॉसेस।

कैसे अटैच कर सकते हैं गाड़ी
आप partners.olacabs.com में जाकर खुद को ओला पार्टनर के तौर पर रजिस्टर्ड कर सकते हैं। आपके रजिस्ट्रेशन करने के 24 घंटों के भीतर कंपनी की टीम आप से कॉन्टैक्ट करेगी। गाड़ी अटैच करने के लिए आपको अपने शहर के ओला ऑफिस में विजिट करना होगा। जो भी जरूरी डॉक्युमेंट्स हैं, वे कंपनी में सबमिट करना होंगे। कंपनी का स्टाफ आपकी गाड़ी की कंडीशन की जांच करेगा। यदि कंडीशन ठीक लगती है तो आपको गाइडलाइंस और ऑफर्स की जानकारी दी

जाएगी। आपको करेंट अकाउंट भी खुलवाना होगा। कंपनी ने गाड़ी अटैच करने की प्रक्रिया को ऑनलाइन भी कर रखा है।

कौन-कौन से डॉक्युमेंट्स लगेंगे, देखिए अगली स्लाइड में...

रजिस्ट्रेशन करवाना होगा


> इस प्रॉसेस के बाद संबंधित गाड़ी का रजिस्ट्रेशन किया जाता है। रजिस्ट्रेशन प्रॉसेस में डॉक्युमेंट्स का वेरिफिकेशन होगा। कार और ड्राइवर का ऑडिट किया जाएगा। 

आपको ऐसा ड्राइवर हायर करना होगा, जिसके पास कमर्शियल लाइसेंस हो। आप खुद भी इस लाइसेंस के साथ ड्राइव कर सकते हैं। ड्राइवर को ट्रेनिंग दी जाएगी। 

कॉन्ट्रेक्ट साइन होने के बाद डिवाइस हेंडओवर कर दी जाएगी। 

 

कौन-कौन से डॉक्युमेंट्स देना होते हैं


> व्हीकल ऑनर को पेन कार्ड, कैंसल चेक, आधार कार्ड और एड्रेस प्रूफ से जुड़े डॉक्युमेंट देना जरूरी है। वहीं गाड़ी कार रजिस्ट्रेशन, परमिट और इंश्योरेंस होना चाहिए। ड्राइवर के पास ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड और एड्रेस प्रूफ होना चाहिए।

कितना आता है खर्चा


> रजिस्ट्रेशन का कोई चार्ज नहीं लगता। आपके पास एंड्रॉइड स्मार्टफोन होना चाहिए। इंटरनेट से कनेक्टेड सिम कार्ड भी आपके पास होना चाहिए। गाड़ी अटैच करने 

के लिए वैलिड आरसी बुक, इंश्योरेंस, फिटनेस सर्टिफिकेट, टैक्स रिसिप्ट, टूरिस्ट परमिट भी लगाना होगा। 

 

कितनी होती है कमाई 


> सिंगल राइड में कंपनी कुल अमाउंट का 10 परसेंट कमीशन देती है। ओला ऐप पर अमाउंट का कैलकुलेशन ऑटोमैटिक हो जाता है। इसके अलावा कंपनी बोनस भी देती है। सुबह 7 से दोपहर 12.30 और शाम 5 से रात 11 बजे को पीक अवर्स माना जाता है। 2 वर्किंग डे के अंदर आपकी आउटस्टैंडिंग पेमेंट आपके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दी जाती हैं। आप ड्राइवर ऐप के जरिए अपनी अर्निंग भी देख सकेंगे।

 

> ओला में दिनभर में 12 राइड होने पर 4500 रुपए तक का कमीशन मिल जाता है। पीक अवर्स में राइड पर 250 रुपए का बोनस कंपनी देती है। एयरपोर्ट पर ड्रॉप करने के लिए भी अलग से बोनस दिया जाता है।