ये 1 गलती करने पर पुलिस को है आपको बिना वारंट गिरफ्तार करने का अधिकार

आज हम कुछ ऐसी धाराओं की जानकारी आपको दे रहे हैं, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 11, 2018, 12:45 PM IST

  • ये 1 गलती करने पर पुलिस को है आपको बिना वारंट गिरफ्तार करने का अधिकार, national news in hindi, national news
    +2और स्लाइड देखें

    यूटिलिटी डेस्क।यदि आप ड्रिंक करके गाड़ी चला रहे हैं और पुलिस को आप पर शक होता है तो पुलिस मोटर व्हीकल एक्ट के सेक्शन 185 के तहत आपको रोक सकती है और जांच कर सकती है। यदि आप ब्रेथलाईजर टेस्ट के लिए मना करते हैं तो पुलिस को आपको बिना वारंट के गिरफ्तार करने का अधिकार होता है। इसलिए शराब पीकर कभी भी ड्राइव न करें। आज हम कुछ ऐसी धाराओं की जानकारी आपको दे रहे हैं, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए।

    किसी भी होटल से जाकर पी सकते हैं पानी
    हाईकोर्ट एडवोकेट संजय मेहरा ने बताया कि इंडियन सराइस एक्ट 1967 के तहत कोई भी व्यक्ति किसी भी होटल में जाकर फ्री में पानी पी सकता है। साथ ही फ्री में वॉशरूम का यूज कर सकता है। इसके लिए संबंधित व्यक्ति से किसी भी तरह का चार्ज नहीं लिया जा सकता। इसी तरह सीआरपीसी के सेक्शन 51 के तहत वुमन ऑफिसर ही किसी वुमन को अरेस्ट कर सकती हैं। गिरफ्तारी का समय सुबह 6 से शाम 6 के बीच होना चाहिए। रात में किसी महिला को अरेस्ट नहीं किया जा सकता।

    जानिए ऐसे ही और कानून के बारे में, अगली स्लाइड्स में....

  • ये 1 गलती करने पर पुलिस को है आपको बिना वारंट गिरफ्तार करने का अधिकार, national news in hindi, national news
    +2और स्लाइड देखें

    > हिंदू मैरिज एक्ट, 1955 के सेक्शन 14 के तहत कोई भी कपल शादी के 1 साल तक तलाक के लिए आवेदन नहीं कर सकता। हालांकि यदि रिलेशनशिप में कुछ बहुत ही बड़ी प्रॉब्लम आ जाए तो तब जरूर डायवोर्स के लिए अप्लाई किया जा सकता है।

    > हिंदू एडॉप्शन एंड मेंटेनेन्स एक्ट 1956के तहत, कोई भी मैरिड कपल एक ही जेंडर के दो बच्चों को एडॉप्ट नहीं कर सकते। जैसे किसी कपल के पास लड़की है तो वह लड़के को अडॉप्ट कर सकता है लेकिन दूसरी लड़की को नहीं। ऐसे ही यदि किसी के पास लड़का है तो वह लड़की को अडॉप्ट कर सकता है लड़के को नहीं।

  • ये 1 गलती करने पर पुलिस को है आपको बिना वारंट गिरफ्तार करने का अधिकार, national news in hindi, national news
    +2और स्लाइड देखें

    > लीगल सर्विसेज अथॉरिटीस एक्ट, 1987 के तहत हर रेप पीड़ित महिला ओ फ्री में कानूनी मदद पाने का अधिकार है। स्टेशन हाउस ऑफिसर की यह जिम्मेदारी है कि वे इस बारे में सिटी के लीगत सर्विसेज अथॉरिटी को जानकारी दे। अथॉरिटी लॉयर का इंतजाम करे।

    > पुलिस आपके द्वारा लिए गए कन्फेसन को आपके खिलाफ कोर्ट यूज नहीं कर सकती।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Know The Law
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×