Hindi News »National »Latest News »National» Delhi Smog EPCA Lens On Diesel Vehicles, Thermal Power Plants

दिल्ली में डीजल गाड़ियां-थर्मल पॉवर प्लान्ट बंद हों: पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी

EPCA ने साफ कर दिया है कि पंजाब और हरियाणा के खेतों में जलाई जाने वाली पराली ही हालात बिगाड़ने के लिए जिम्मेदार नहीं है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 13, 2017, 09:34 PM IST

  • दिल्ली में डीजल गाड़ियां-थर्मल पॉवर प्लान्ट बंद हों: पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    EPCA का गठन सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर पर किया गया है। उसने सोमवार को अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपी।- सिम्बॉलिक
    नई दिल्ली.एन्वायरन्मेंट पॉल्यूशन प्रिवेंशन एंड कंट्रोल अथॉरिटी (EPCA) ने दिल्ली और एनसीआर में बढ़ते पॉल्यूशन से निपटने के लिए डीजल गाड़ियों और थर्मल पावर प्लान्ट टेम्पररी तौर पर बंद करने का सुझाव दिया है। यह सुझाव ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान के तहत दिए गए हैं। बता दें कि दिल्ली और एनसीआर में इन दिनों स्मॉग की वजह से हालात काफी खराब हैं। मेडिकल संस्थानों ने हेल्थ एडवाइजरी भी जारी की है।

    सुप्रीम कोर्ट को रिपोर्ट सौंपी

    - EPCA का गठन सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर पर ही किया गया है। उसने सोमवार को अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपी। पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी ने पॉल्यूशन कंट्रोल करने के लिए कई रिकमंडेशन्स की हैं।
    - EPCA ने कहा है कि सभी गाड़ियों पर ऐसे स्टिकर लगाए जाने चाहिए, जिन पर उस गाड़ी के फ्यूल टाइप और गाड़ी कितनी पुरानी है, जैसी जानकारियां हों। इनमें से भी कुछ खास तरह की गाड़ियों को सड़कों से हटाया जाना चाहिए। EPCA ने यह रिकमंडेशन्स जीआरएपी लागू करने के लिहाज से दी है।

    पराली स्मॉग की इकलौती वजह नहीं

    - पॉल्यूशन और स्मॉग से निपटने के सुझाव देने के साथ ही EPCA ने ये भी साफ कर दिया है कि पंजाब और हरियाणा के खेतों में जलाई जाने वाली पराली ही हालात बिगाड़ने के लिए जिम्मेदार नहीं है। कुछ और भी ऐसी वजहें हैं जिनके चलते सर्दियों में दिल्ली और एनसीआर में पॉल्यूशन लेवल ज्यादा बढ़ जाता है।
    - EPCA ने कहा- इमरजेंसी को देखते हुए कुछ दूसरे कदम भी उठाए जाने चाहिए। कोयले से चलने वाले थर्मल पावर प्लान्ट और ऐसी ही इंडस्ट्रीज बंद कर देनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट पहले ही फर्नेस ऑयल प्लान्ट्स को बंद करने का आदेश दे चुका है।


    डीजल गाड़ियों पर क्या कहा?

    - EPCA ने कहा- डीजल से चलने वाली गाड़ियों को बैन किया जाना चाहिए। या इन पर पीयूसी (पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट) स्टिकर लगाए जाने चाहिए। इससे ये पता लगेगा कि खतरा किस हद या कैटेगरी का है। इसी आधार पर इन गाड़ियों को रोका जा सकता है।
    - अथॉरिटी के मुताबिक, इसमें सभी संबंधित मिनिस्ट्रीज का दखल होना चाहिए, ताकि स्टिकर के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ ना की जा सके। ये सभी सुझाव EPCA ने सुप्रीम कोर्ट को सौंपी अपनी रिपोर्ट में दिए हैं।

    वेदर फोरकास्ट पर क्या कहा?

    - EPCA ने वेदर फोरकास्ट को लेकर भी सुझाव दिए हैं। पॉल्यूशन अथॉरिटी ने कहा है कि मौसम विभाग को वेदर एक्सपर्ट्स की मदद से ज्यादा बेहतर वेदर फोरकास्ट करनी चाहिए। उसने कहा है कि 6 नवंबर की शाम तक अथॉरिटीज को पता ही नहीं था कि अगली सुबह पॉल्यूशन और स्मॉग की वजह से हालात खतरनाक हो जाएंगे।

    बेहतर हेल्थ एडवाइजरी जारी करें

    - EPCA ने ये भी कहा है कि इस तरह के हालात में लोगों को सेहत का ध्यान रखने के लिए बेहतर हेल्थ एडवाइजरी जारी की जानी चाहिए। इसके अलावा पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम को भी बेहतर बनाए जाने की सख्त जरूरत है।
    - अथॉरिटी ने कहा कि तीन साल पहले दिल्ली की सड़कों पर जितनी बसें थीं, आज उससे काफी कम हैं। एनसीआर में तो हालात और भी खराब हैं। वहां जनरेटर सेट्स बैन कर दिए गए है। लेकिन बिजली की दिक्कत को भी देखना होगा।
  • दिल्ली में डीजल गाड़ियां-थर्मल पॉवर प्लान्ट बंद हों: पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    EPCA ने कहा है कि सभी गाड़ियों पर ऐसे स्टिकर लगाए जाने चाहिए, जिन पर उस गाड़ी के फ्यूल टाइप और गाड़ी कितनी पुरानी है जैसी जानकारियां हों।- सिम्बॉलिक
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×