Hindi News »India News »Latest News »National» Jaitley Says That It Was Not Correct To Say That The RBI Was Still Counting The Scrapped Notes

500-1000 के पुराने नोटों की गिनती पूरी, अब जाली नोटों की पहचान जारी: जेटली

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 05, 2017, 01:26 PM IST

जेटली ने कहा कि नोटों की गिनती पूरी हो चुकी है और अब RBI जाली नोटों की पहचान कर रहा है।
  • 500-1000 के पुराने नोटों की गिनती पूरी, अब जाली नोटों की पहचान जारी: जेटली, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    गुजरात के अहमदाबाद में जेटली ने चलन से बाहर किए गए 1000-500 के नोटों पर जानकारी दी। (फाइल)
    अहमदाबाद.फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि 8 नवंबर 2016 को बंद किए गए 1000-500 के नोटों की गिनती पूरी हो चुकी है। अरुण जेटली ने ये बात एक सवाल के जवाब में कही। जेटली गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी के इंचार्ज भी हैं। जेटली ने कहा कि नोटों की गिनती पूरी हो चुकी है और अब RBI जाली नोटों की पहचान कर रहा है। बता दें कि RBI ने एक RTI के जवाब में कहा था कि पिछले साल 8 नवंबर को चलन से बाहर हुए 15.44 लाख करोड़ के नोटों में से 15.28 लाख नोट बैंकों में वापस आ गए और इनमें से 10.91 लाख करोड़ रुपए के नोटों का वेरिफिकेशन किया जा चुका है।

    नोटों की गिनती पर क्या बोले जेटली?


    - जेटली ने कहा, "ये कहना सही नहीं होगा कि नोटबंदी को एक साल पूरा होने के बाद भी चलन से बाहर किए गए नोटों की गिनती जारी है। रिजर्व बैंक ये काम पूरा कर चुका है और मौजूदा वक्त में जाली नोटों की पहचान का काम चल रहा है। RBI की जून की रिपोर्ट में इसका पूरा जिक्र किया गया है।"
    GST नहीं समझते हैं राहुल- फाइनेंस मिनिस्टर
    - राहुल गांधी के जीएसटी पर विरोध पर जेटली ने कहा, "जिस तरह से कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी गुजरात चुनाव में जीएसटी का मुद्दा उठा रहे हैं, उससे साफ जाहिर होता है कि वे ये बिल्कुल नहीं समझ पा रहे हैं कि ये टैक्स व्यवस्था देश के लिए फायदेमंद होगी। उन्होंने इसे पढ़ा भी नहीं है। पूरी दुनिया ने इसकी तारीफ की है।"
    - "जीएसटी पर लिए गए हर फैसले में कांग्रेस शासित प्रदेशों के वित्त मंत्री पूरी तरह राजी थे। सबकी सहमति से लिए गए फैसले देश के लिए फायदेमंद होते हैं और इसकी पूरी दुनिया में भी तारीफ की गई।"
    जीएसटी से ट्रेडिंग आसान
    - "GST लंबे समय के लिए और ट्रेडिंग को आसान करने के लिए है। इसके साथ ही ये टैक्सेशन सिस्टम को भी बेहतर करेगा। इसका विकल्प पुराना और पेंचीदा 17 टैक्सेस वाला सिस्टम है। इसके दौरान विभिन्न डिपार्टमेंट्स के इंस्पेक्टर्स ट्रेडिंग के लिए चीजों को मुश्किल करेंगे। GST काउंसिल की मीटिंग हर महीने होती है। इसमें दो अहम मुद्दों पर बात होती है। पहला ट्रांजैक्शन पर दूसरी स्टेट और सेंटर के बीच टैक्स शेयरिंग का बैलेंस मेंटेन करने को लेकर होती है।"
    RBI ने गिनती पर क्या कहा था?
    - RTI के जवाब में RBI ने कहा था कि 30 सितंबर तक 500 रुपए के लगभग 1,134 करोड़ नोटों की और 1,000 रुपए के 524.90 करोड़ नोटों को प्रोसेस्‍ड किया जा चुका है। इन नोटों की फेस वैल्‍यू 5.67 लाख करोड़ और 5.24 लाख करोड़ रुपए है। प्रोसेस्‍ड हो चुके 500 व 1000 दोनों तरह के नोटों की कुल फेस वैल्‍यू लगभग 10.91 लाख करोड़ रुपए है।

    कितने नोट सिस्‍टम में वापस आए?
    - सरकार ने पिछले साल 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपए के नोटों को बंद कर दिया था। बैन हुए नोट बैंकों में डिपॉजिट कराए गए थे। इन्‍हीं नोटों का RBI वेरिफिकेशन कर रही है। ताकि बैंक यह पता लगा सके कि इनमें से कितने नोट नकली हैं।
    - 30 अगस्‍त को 2016-17 के लिए जारी अपनी सालाना रिपोर्ट में RBI ने कहा था कि बैन हुए नोटों का 99 फीसदी यानी 15.28 लाख करोड़ नोट बैंकिंग सिस्‍टम में वापस आ चुके हैं। 15.44 लाख करोड़ में से केवल 16,050 करोड़ नोट वापस नहीं आए हैं।
  • 500-1000 के पुराने नोटों की गिनती पूरी, अब जाली नोटों की पहचान जारी: जेटली, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    8 नवंबर 2016 को 1000-500 के नोट चलन से बाहर कर दिए गए थे। (फाइल)
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Jaitley Says That It Was Not Correct To Say That The RBI Was Still Counting The Scrapped Notes
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×