Hindi News »National »Latest News »National» Hafiz Saeed Celebrates Free From House Arrest Says He Will Fight For Kashmir Cause

हाफिज ने केक काटकर मनाया रिहाई का जश्न, बोला- कश्मीरियों के लिए लड़ता रहूंगा

हाफिज ने कहा कि 10 महीने तक मुझे इसलिए कैद किया गया था ताकि कश्मीर को लेकर मेरी आवाज दबाई जा सके।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 24, 2017, 09:45 AM IST

  • हाफिज ने केक काटकर मनाया रिहाई का जश्न, बोला- कश्मीरियों के लिए लड़ता रहूंगा, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    सईद ने कहा कि भारत मुझ पर आधारहीन आरोप लगाता रहा है। कोर्ट का फैसला मेरी बेगुनाही साबित करता है।

    लाहौर. मुंबई हमले के मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद को गुरुवार को नजरबंदी से रिहा कर दिया गया। हाफिज ने रिहाई का जश्न बाकायदा केक काटकर मनाया। उसने कहा कि कश्मीर की आजादी के लिए लड़ता रहूंगा। बुधवार को लाहौर हाईकोर्ट ने हाफिज की रिहाई का ऑर्डर दिया था, इसके बाद गुरुवार रात उसे रिहा कर दिया गया।


    अपने मकसद के लिए लोगों को इकट्ठा करूंगा

    - न्यूज एजेंसी के मुताबिक रिहाई के बाद हाफिज ने कहा, "10 महीने तक मुझे इसलिए कैद किया गया था, ताकि कश्मीर को लेकर मेरी आवाज दबाई जा सके।"
    - "मैं कश्मीरियों और कश्मीर की आजादी के लिए लड़ता रहूंगा। कश्मीर के लिए मैं पूरे पाकिस्तान से लोगों को इकट्ठा करता रहूंगा। हमारी कोशिश रहेगी कि कश्मीरी आजादी के अपने मकसद में कामयाब हो सकें।"
    - "मुझे खुशी है कि मेरे खिलाफ कोई आरोप साबित नहीं हो सका। लिहाजा, हाईकोर्ट के तीन जजों ने रिहाई का ऑर्डर दे दिया।"
    - "भारत मुझ पर आधारहीन आरोप लगाता रहा है। कोर्ट का फैसला मेरी बेगुनाही साबित करता है।"
    - "मुझे अमेरिका के दबाव में नजरबंद किया गया था। इसके लिए भारत सरकार ने अमेरिका से गुहार लगाई थी।"

    पाक में रिहाई का मना जश्न

    - हाफिज की रिहाई का उसके समर्थकों ने जमकर जश्न मनाया। सैकड़ों जमात-उद-दावा समर्थक लाहौर में हाफिज के घर पर इकट्ठा हुए और उन्होंने भारत विरोधी नारे लगाए।
    - जमात के स्पोक्सपर्सन अहमद नदीम ने कहा, "हमें खुशी है कि हमारे नेता को आजाद कर दिया गया। जेल अफसरों ने उन्हें रिहाई का ऑर्डर दे दिया।"

    हाफिज की रिहाई पर क्या बोला भारत

    - हाफिज सईद की पाकिस्तान में रिहाई पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने नाराजगी जताई।
    - MEA स्पोक्सपर्सन रवीश कुमार ने गुरुवार को कहा कि हाफिज की रिहाई एक आतंकवादी को मुख्यधारा में लाने की पाकिस्तान की कोशिश है, जिसे यूनाइटेड नेशन्स ने बैन किया है।
    - कुमार ने कहा, "इस कदम से साफ जाहिर होता है कि पाकिस्तान आतंकियों को सजा देने को लेकर संजीदा नहीं है और उसके देश का ढांचा ऐसे आतंकियों को सुरक्षा और सहयोग मुहैया कराता है। आतंकियों पर पाकिस्तान ने अपनी पॉलिसी नहीं बदली है और उसका असली चेहरा अब सभी देख रहे हैं।"

    कौन है हाफिज सईद?

    - हाफिज सईद आतंकी संगठन जमात-उद-दावा का चीफ है। ये एक दूसरे आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का को-फाउंडर भी है। इन दोनों संगठनों का भारत में कई आतंकी हमलों में हाथ पाया गया है। हाफिज के सिर पर अमेरिका ने 1 करोड़ डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है। इसके खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी हो चुका है।
    - पाक सरकार ने हाफिज का नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट (ECL) में भी शामिल किया है। यानी यह पाक छोड़कर नहीं जा सकता। पाकिस्तान ने हाफिज सईद को आतंकी भी माना है। पंजाब प्रोविन्स की सरकार ने सईद का नाम एंटी-टेररिज्म एक्ट (ATA) के 4th शेड्यूल में शामिल कर रखा है।
    - हाफिज सईद मुंबई के 26/11 हमले का मास्टरमाइंड है। इन हमलों में 6 अमेरिकी नागरिकों समेत 166 लोग मारे गए थे।
    - भारत पाकिस्तान से लगातार मुंबई हमले की जांच दोबारा से करने मांग करता रहा है। भारत की ये भी मांग है कि हाफिज और लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर जकीउर रहमान लखवी पर केस चलाया जाए। इसके लिए भारत पहले ही पाक को सबूत दे चुका है।

  • हाफिज ने केक काटकर मनाया रिहाई का जश्न, बोला- कश्मीरियों के लिए लड़ता रहूंगा, national news in hindi, national news
    +1और स्लाइड देखें
    हाफिज को 10 महीने पर नजरबंदी से रिहाई मिली है। इस पर उसके समर्थकों ने जश्न मनाया।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Hafiz Saeed Celebrates Free From House Arrest Says He Will Fight For Kashmir Cause
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×