--Advertisement--

भारत-चीन बॉर्डर पर तिब्बत में 6.9 तीव्रता का भूकंप, जमीन से 10 KM नीचे था केंद्र

इस इलाके में सुबह करीब 6 बजे दूसरी बार भी झटके लगे। इनकी तीव्रता 5 थी।

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2017, 08:27 AM IST
VIDEO: भूकंप के झटके अरुणाचल में भ VIDEO: भूकंप के झटके अरुणाचल में भ

नई दिल्ली. भारत-चीन बॉर्डर पर तिब्बत के निंगजी में भारतीय समयानुसार शनिवार सुबह 4:04 बजे 6.9 तीव्रता का भूकंप आया। चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, इसका केंद्र जमीन से करीब 10 किलोमीटर नीचे था। यह इलाका अरुणाचल प्रदेश के बॉर्डर से लगा हुआ है। यहां इसकी तीव्रता 6.4 रही। हालांकि, इससे अभी तक किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है।

- न्यूज एजेंसी ने चाइना अर्थक्वेक नेटवर्क सेंटर (सीईएनसी) के हवाले से बताया कि इस इलाके में सुबह करीब 6 बजे दूसरी बार भी झटके लगे। इनकी तीव्रता 5 थी। इसका केंद्र जमीन से करीब 6 किलोमीटर नीचे था।

क्यों आता है भूकंप?
- पृथ्वी के अंदर 7 प्लेट्स हैं जो लगातार घूम रही हैं। जहां ये प्लेट्स ज्यादा टकराती हैं, वह जोन फॉल्ट लाइन कहलाता है। बार-बार टकराने से प्लेट्स के कोने मुड़ते हैं। जब ज्यादा दबाव बनता है तो प्लेट्स टूटने लगती हैं। नीचे की ऊर्जा बाहर आने का रास्ता खोजती है। हलचल के बाद भूकंप आता है।

कितनी तबाही लाता है भूकंप?

रिक्टर स्केल असर
0 से 1.9 सिर्फ सीज्मोग्राफ से ही पता चलता है।
2 से 2.9 हल्का कंपन।
3 से 3.9 कोई ट्रक आपके नजदीक से गुजर जाए, ऐसा असर।
4 से 4.9 खिड़कियां टूट सकती हैं। दीवारों पर टंगी फ्रेम गिर सकती हैं।
5 से 5.9 फर्नीचर हिल सकता है।
6 से 6.9 इमारतों की नींव दरक सकती है। ऊपरी मंजिलों को नुकसान हो सकता है।
7 से 7.9 इमारतें गिर जाती हैं। जमीन के अंदर पाइप फट जाते हैं।
8 से 8.9 इमारतों सहित बड़े पुल भी गिर जाते हैं।
9 9 और उससे ज्यादा पूरी तबाही। कोई मैदान में खड़ा हो तो उसे धरती लहराते हुए दिखेगी। समंदर नजदीक हो तो सुनामी

- भूकंप में रिक्टर पैमाने का हर स्केल पिछले स्केल के मुकाबले 10 गुना ज्यादा ताकतवर होता है।

X
VIDEO: भूकंप के झटके अरुणाचल में भVIDEO: भूकंप के झटके अरुणाचल में भ
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..