Hindi News »National »Latest News »National» YSR Congress President YS Jaganmohan Reddy Poll Yatra, Andhra Pradesh Padyatra

पदयात्रा पर वाईएस जगनमोहन रेड्डी, क्या मिलेगी सत्ता ?

3000 किमी की पदयात्रा पर हैं जगनमोहन रेड्डी। एक नजर उन मंत्रियों पर जिन्होंने पदयात्रा के जरिए आंध प्रदेश में सफलता पाई।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Nov 06, 2017, 01:11 PM IST

पदयात्रा पर वाईएस जगनमोहन रेड्डी, क्या मिलेगी सत्ता ?, national news in hindi, national news
वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष और आंध्र पद्रेश विधानसभा में विपक्ष के नेता वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने कड्प्पा जिले से इदुपुलपया से अपनी 300 किलोमीटर की पदयात्रा शुरू की है।
इस पदयात्रा के जरिए जगनमोहन वाईएसआर कांग्रेस पार्टी की तेजी से घटती लोकप्रियता का पता लगाना चाहते हैं। साथ ही वो अपनी बिगड़ती छवि को सुधारना चाहते हैं। अब इस पदयात्रा से जगनमोहन रेड्डी को कोई फायदा होगा या नहीं, ये तो आने वाले वक्त में ही पता चलेगा।

फिलहाल हम आपको बतातें हैं उन मंत्रियों के बारे में जिन्होंने पदयात्रा के जरिए आंध प्रदेश राजनीति में एतिहासिक सफलता पाई -

चन्ना रेड्डी

आंध्र पद्रेश की राजनीति का जिक्र हो और पदयात्रा की उसमें बात ना हो, ऐसा हो ही नहीं सकता। यूं समझ लीजिए कि आंध्र पद्रेश की राजनीति और पदयात्रा का चोली-दामन का साथ रहा है। जब जब किसी भी मंत्री ने आंध प्रदेश में पदयात्रा की वो यहां की राजनीति में एक सफल प्रयोग साबित हुई। 1993 तक तमिलनाडु के गवर्नर रहे चन्ना रेड्डी 1978 से 1980 और 1989 से 1990 के बीच
आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। उन्होंने 1989 में राज्य के अलग-अलग शहरों में छोटी-छोटी पदयात्राएं कीं जो काफी सफल रहीं।

उनके जरिए चन्ना रेड्डी ना सिर्फ वोट बैंक बदलने में कामयाब रहे बल्कि वो सत्ता में भी आ गए।

वाईएसआर रेड्डी

वाईएसआर रेड्डी साल 2003 में वाईएसआर रेड्डी यानि वाईएस जगनमोहन रेड्डी के पिता ने संयुक्त आंध्र प्रदेश के समय विपक्ष में रहते हुए 1500 किलोमीटर की पैदल यात्रा की थी। राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो इसके जरिए उन्हें सत्ता हासिल करने में मदद मिली थी।

चंद्रबाबू नायडू

आंध्र प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने साल 2014 में में 2400 किलोमीटर की पदयात्रा की और उस दौरान उन्होंने लकड़ी से लेकर जूते ठीक करने तक का काम किया। इस पदयात्रा के बाद चंद्रबाबू नायडू सत्ता में आ गए और आंध्र पद्रेश के मुख्यमंत्री बने।

पिता के नक्शेकदम पर जगनमोहन रेड्डी

और अब अपने पिता के पदचिह्नों पर चलते हुए जगनमोहन रेड्डी 3000 किलोमीटर की पदयात्रा पर निकले हैं जो 6 महीने तक जारी रहेगी। अब इस पदयात्रा के बाद जगनमोहन रेड्डी आंध्र पद्रेश के मुख्यमंत्री बनें या ना बनें, लेकिन भारी विश्वास के साथ कहा जा रहा है कि इस पदयात्रा के जरिए वो अपनी छवि सुधारने में जरूर कामयाब होंगे।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×