• Home
  • National
  • Jammu Kashmir himachal pradesh weather snowfall news and updates
--Advertisement--

कश्मीर में बर्फबारी के बाद टूरिस्ट कर रहे इंज्वाय; श्रीनगर-लेह हाईवे बंद

कश्मीर घाटी और हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकाें में बुधवार को सीजन की पहली बर्फबारी हुई।

Danik Bhaskar | Nov 16, 2017, 12:00 PM IST
वेस्टर्न डिस्टर्बेंस की वजह स वेस्टर्न डिस्टर्बेंस की वजह स

श्रीनगर.   जम्मू-कश्मीर के सोनमर्ग में बुधवार को हुई सीजन की पहली बर्फबारी के बाद घाटी की फिजा खूबसूरत हो गई है। टूरिटस्ट इसे इंज्वाय कर रहे हैं। हालांकि, लद्दाख को कश्मीर और ऐतिहासिक मुगल रोड से जोड़ने वाला 434 किलोमीटर लंबा नेशनल हाईवे अभी भी बंद है। इस पर फिसलन है। उधर, 300 किलोमीटर लंबा श्रीनगर-जम्मू नेशनल हाईवे खुला हुआ है।

 


- न्यूज एजेंसी ने वेदर डिपार्टमेंट के हवाले से बताया है कि वेस्टर्न डिस्टर्बेंस की वजह से पाकिस्तान, अफगानिस्तान और ओमान से आने वाली नमी देश के उत्तरी हिस्से में पहुंच रही है। ऐसे में कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में एक-दो दिन में और बर्फबारी होने के आसार हैं। 
- बुधवार को रोहतांग में हल्की बर्फबारी हुई, वहां टूरिस्ट के जाने पर रोक लगा दी गई है। उधर हिमाचल के निचले इलाकों इंदौरा और डलहौजी में हल्की बारिश हुई है, जिससे ठिठुरन बढ़ गई है। 

 

बंद हाईवे का ऑफिशियल्स ले रहे जायजा

 

- न्यूज एजेंसी ने ट्रैफिक पुलिस के ऑफिशियल्स के हवाले से बताया कि 86 किलोमीटर लंबा मुगल रोड दक्षिण कश्मीर के शोपियां को जम्मू रीजन के राजौरी और पुंछ से जोड़ता है। इस रोड पर अभी फिसलन है, लिहाजा इसे बंद रखा गया है। इस रोड पर पीर की गली इलाके में बर्फबारी हुई है।

- उन्होंने कहा कि सिविल और ट्रैफिक पुलिस के सीनियर ऑफिशियल्स रोड की हालत का जायजा ले रहे हैं। ग्रीन सिग्नल मिलते ही इसे शुरू कर दिया जाएगा।

 

श्रीनगर-लेह हाईवे बंद 

- ऑफिशियल्स ने बताया कि बुधवार को हुई बर्फबारी की वजह से श्रीनगर-लेह हाईवे पर भी फिसलन हो गई है और इसे गुरुवार को इस पर से गाड़ियों की आवाजाही रोक दी गई है।

- उन्होंने कहा कि लोगों ने गुजारिश की जा रही है कि इस रोड से अपना सफर शुरू करने से पहले वे ट्रैफिक पुलिस को कॉन्टैक्ट कर लें।

- इस बीच ट्रैफिक पुलिस ने बताया कि कश्मीर घाटी को बाकी देश से जोड़ने वाले हाईवे पर बारिश के बावजूद ट्रैफिक चल रहा है। बड़ी गाड़ियों को एक तरफ से और छोटी गाड़ियों को दोनों तरफ से आने-जाने दिया जा रहा है।