• Home
  • National
  • J&K Mehbooba Mufti stone pelting cases withdrawal militancy in Jammu and Kashmir
--Advertisement--

जम्मू-कश्मीर में 4 हजार से ज्यादा पत्थरबाजों पर दर्ज केस वापस लेगी सरकार

सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि यह फैसला एक हाई पावर कमेटी की रिकमंडेशन के बाद लिया गया है।

Danik Bhaskar | Nov 29, 2017, 09:51 PM IST
महबूबा मुफ्ती ने बुधवार को कहा- सिर्फ आतंकियों को मारने से ही राज्य में आतंकवाद खत्म नहीं होगा, इसके लिए इंसानियत से जुड़े कदम भी उठाने होंगे।- फाइल महबूबा मुफ्ती ने बुधवार को कहा- सिर्फ आतंकियों को मारने से ही राज्य में आतंकवाद खत्म नहीं होगा, इसके लिए इंसानियत से जुड़े कदम भी उठाने होंगे।- फाइल

श्रीनगर/नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने 4,327 पत्थरबाजों पर दर्ज केस वापस लेने के ऑर्डर दिए हैं। सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि यह फैसला एक हाई पावर कमेटी की रिकमंडेशन के बाद लिया गया है। इस कमेटी के चेयरमैन डीजीपी एसपी वैद हैं। दूसरी तरफ, महबूबा मुफ्ती ने एक बयान में ये भी कहा कि सिर्फ आतंकियों के मारे जाने से ही आतंकवाद खत्म नहीं होगा। इसके लिए मानवता भी दिखानी होगी।

6 साल पुराने मामले

- जम्मू-कश्मीर सरकार के एक स्पोक्सपर्सन ने कहा, चीफ मिनिस्टर ने सरकार में आने के बाद कुछ केसों को वापस लेने का फैसला लिया था। 2008 से 2014 तक के मामलों को देखा जा रहा है। मुफ्ती ने शुरुआती दो महीनों में 634 युवाओं पर दर्ज 104 केसों को वापस लिया था।
- बयान के मुताबिक- इसके बाद राज्य में हिंसा बढ़ गई और इसकी वजह से यह प्रॉसेस धीमा हो गया। अब 4,327 युवाओं पर दर्ज 744 केस वापस लिए गए हैं।
- सरकार ने उन युवाओं पर दर्ज केस ही वापस लेने का फैसला किया है जिनके खिलाफ गंभीर मामले दर्ज नहीं है। राज्य सरकार ने हाल ही में 2015 से अब तक के केस रिव्यू करने के ऑर्डर दिए थे।
- स्पोक्सपर्स ने कहा- यह फैसला लेते वक्त सीएम ने उम्मीद जताई कि इस कदम से युवाओं और उनके परिवारों अपनी जिंदगी फिर से शुरू करने का मौका मिलेगा।

आतंकियों को मारने से ही पूरी कामयाबी नहीं मिलेगी

- बुधवार को एक प्रोग्राम के बाद मुफ्ती ने कहा- सिर्फ आतंकियों को मारने से ही राज्य में आतंकवाद खत्म नहीं होगा, इसके लिए इंसानियत से जुड़े कदम भी उठाने होंगे।
- सीएम ने ये भी कहा कि राज्य में आतंकवाद के बाद ड्रग्स और महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों को रोकना भी एक बड़ी चुनौती है। मुफ्ती ने कहा- आपको कश्मीर में आतंकवाद खत्म करना है। लेकिन, सिर्फ आतंकियों को मार देने से ही यह मसला हल नहीं होगा। इसको पूरी तरह से खत्म करने के लिए हमें मानवता भरे कदम भी उठाने होंगे। बता दें कि इस साल अब तक सिक्युरिटी फोर्सेस के हाथों 200 आतंकी मारे जा चुके हैं।
- सीएम ने यह बात पुलिस ट्रेनिंग स्कूल में 847 रिक्रूट्स की पासिंग आउट परेड के बाद मीडिया से बातचीत में कही। उन्होंने कहा- हमें आतंकवाद की परेशानी और इसकी सही वजहों को समझना होगा। इसके लिए कुछ सॉफ्ट स्टेप भी लेने पड़ेंगे।

पीएम मोदी के साथ महबूबा मुफ्ती। - फाइल पीएम मोदी के साथ महबूबा मुफ्ती। - फाइल