--Advertisement--

मैं 200% फिल्म, संजय लीला भंसाली के साथ हूं: पहली बार पद्मावती पर बोले रणवीर

रणवीर सिंह ने कहा कि मैं 200 % फिल्म और मेरे डायरेक्टर संजय लीला भंसाली के साथ हूं।

Danik Bhaskar | Nov 21, 2017, 06:05 PM IST
फिल्म में रणवीर सिंह ने अलाउद्दीन खिलजी का रोल निभाया है। फिल्म में रणवीर सिंह ने अलाउद्दीन खिलजी का रोल निभाया है।

मुंबई. पद्मावती विवाद पर रणवीर सिंह का पहली बार बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि मैं 200% फिल्म और मेरे डायरेक्टर संजय लीला भंसाली के साथ हूं। मुझसे चुप रहने के लिए कहा गया है। जो भी ऑफिशियल स्टैंड होगा, उस बारे में प्रोडयूसर्स बताएंगे। यह बहुत ही संवेदनशील मामला है। बता दें कि फिल्म में रणवीर सिंह ने अलाउद्दीन खिलजी का रोल निभाया है। विवाद रुकने का नाम नहीं ले रहा है। एमपी, यूपी, राजस्थान और पंजाब के सीएम भी इस फिल्म के रिलीज को लेकर आपत्ति जता चुके हैं। मंगलवार को योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगर धमकी देने वाले दोषी हैं, तो भंसाली भी दोषी हैं। दोनों पक्षों पर समान रूप से कार्रवाई होनी चाहिए।

क्या बोले राज्यों के सीएम?

- योगी आदित्यनाथ (उत्तर प्रदेश): एक चैनल को दिए इंटरव्यू में योगी ने कहा, "कानून को हाथ में लेने का अधिकार किसी को भी नहीं है। चाहे वह भंसाली हों या फिर कोई और। मुझे लगता है कि अगर धमकी देने वाले दोषी हैं तो भंसाली भी कम दोषी नहीं हैं, जो जनभावनाओं के साथ खिलवाड़ करने के आदी बन चुके हैं। कार्रवाई होगी तो दोनों पक्षों पर समान रूप से होगी।"

- "सबको एक-दूसरे की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए। मुझे लगता है कि एक-दूसरे के प्रति अच्छे भाव रखेंगे तो सौहार्द की स्थापना होगी।"

- उधर, कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया और प. बंगाल सीएम ममता बनर्जी ने भंसाली का समर्थन किया है।

- वसुंधरा राजे सिंधिया (राजस्थान): "कानून-व्यवस्था को सुनिश्चित रखना राज्य की पहली प्राथमिकता है और इसे हर हाल में बहाल रखा जाएगा। जब तक केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को 18 नवंबर को लिखे पत्र में दिए गए सुझावों पर अमल नहीं हो जाता, तब तक राजस्थान में फिल्म पद्मावती का प्रदर्शन नहीं होगा।"
- राजे ने सुझाव दिया था कि इतिहासकारों और समाज के प्रतिनिधियों की समिति द्वारा फिल्म पद्मावती की समीक्षा कर यह सुनिश्चित किया जाए कि राजपूत समाज की भावनाएं आहत ना हों।
- कैप्टन अमरिंदर सिंह (पंजाब)- "जो फिल्म इतिहास से छेड़छाड़ करती है, उसे राज्य में रिलीज नहीं होने दिया जाएगा। जो लोग इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, वे ठीक कर रहे हैं।"
- शिवराज सिंह चौहान (मध्य प्रदेश): "ऐतिहासिक तथ्यों से खिलवाड़ कर अगर राष्ट्रमाता पद्मावती के सम्मान के खिलाफ जिस फिल्म में दृश्य दिखाया गया है या बात कही गई है। तो उस फिल्म का प्रदर्शन मध्य प्रदेश की धरती पर नहीं होगा।"

यह भी पढ़ें: पद्मावती: सिर काटने की धमकी देने वाले दोषी तो भंसाली पर भी कार्रवाई हो- योगी

दीपिका ने कहा था- फिल्म की रिलीज को कोई नहीं रोक सकता
- दीपिका पादुकोण ने कुछ दिन पहले कहा था कि इसे रिलीज होने से कोई भी चीज नहीं रोक सकती। उन्होंने कहा- "हम सिर्फ सेंसर बोर्ड के लिए जवाबदेह हैं। इसका विरोध डराने वाला है। मुझे विश्वास है कि यह एक बड़ी लड़ाई जीतेगी। मैं पद्मावती के लिए रिलीज का इंतजार कर रही हूं।"

- "मुझे पूरा भरोसा है कि फिल्म विवादों से निकलकर सिनेमाघरों में दिखाई जाएगी और इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री के लिए एक बड़ी लड़ाई जीतेगी। एक महिला के रूप में मुझे इस फिल्म का हिस्सा होने और कहानी को बताने पर फख्र है।"

- बता दें कि दीपिका ने रानी पद्मावती का रोल निभाया है।

फिल्म पद्मावती को लेकर क्या आपत्ति है?

- राजस्थान में करणी सेना, बीजेपी लीडर्स और हिंदूवादी संगठनों ने इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। राजपूत करणी सेना का मानना है कि ​इस फिल्म में पद्मिनी और खिलजी के बीच इंटीमेट सीन फिल्माए जाने से उनकी भावनाओं को ठेस पहुंची है। लिहाजा, फिल्म को रिलीज से पहले पार्टी के राजपूत प्रतिनिधियों को दिखाया जाना चाहिए।

रील V/S रियल पद्मावती का सच

- 1540 में कवि मलिक मोहम्मद जायसी ने 'पदमावत' लिखा। प्रचलित कहानी यही है कि खिलजी के आक्रमण के बाद रानी पद्मावती ने जौहर किया था।
- 1589 में हेमरतन की गोरा बादल की चौपाई में पद्मावती के जौहर की कहानी है। एक अन्य हीरामन की कथा में रानी पद्मावती को श्रीलंका की राजकुमारी बताया गया है।
- दूसरी ओर, भंसाली की फिल्म में रानी पद्मावती को पुरुषों के सामने घूमर लोकनृत्य करते दिखाया गया है। इसी पर विवाद है।

Video- पद्मावती पर पहली बार बोले रणवीर सिंह... Video- पद्मावती पर पहली बार बोले रणवीर सिंह...