--Advertisement--

उपचुनाव में बीजेपी क्या हारी, बदल गए साथियों के सुर

TDP के अलग होने के बाद LJP ने भी उठाए सवाल

Danik Bhaskar | Mar 17, 2018, 03:27 PM IST
हार के बाद रार हार के बाद रार

स्पेशल डेस्क: सुख के सब साथी, दुख में न कोई...ये कहावत पुरानी भले ही हो, लेकिन देश के मौजूदा सियासी हालात में मौजूं है। अभी दो हफ्ते पहले ही बीजेपी ने जब त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड में जीत दर्ज की थी, एनडीए के सहयोगी दल पीएम मोदी और अमित शाह की तारीफ में कसीदे पढ़ रहे थे। लेकिन यूपी और बिहार की 3 लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में बीजेपी की हार ने तस्वीर ही बदल दी। जो कल तक तारीफ करते नहीं थक रहे थे वो ही अब नेतृत्व पर सवाल उठा रहे हैं। टीडीपी के अलग होने के बाद अब एलजेपी और अकाली दल ने भी मोदी, शाह को नसीहत दी है। आसान नहीं होगा एनडीए को एक रखना...

क्या चिराग पासवान ने भांप लिए हालात ?
केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के बेटे और लोकजनशक्ति पार्टी के सांसद चिराग पासवान ने कहा कि उपचुनाव के नतीजे 2019 के चुनाव के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं। खतरे की घंटी हैं. अभी भी समय है, गठबंधन के साथी दलों से सलाह-मशविरा के बाद ही फैसले लिए जाएं। जो नाराज सहयोगी हैं उनकी नाराज़गी को दूर नहीं की गई तो 2019 में दिक्कत आएगी।

अकाली दल सांसद बोले- अब पहले जैसा एनडीए नहीं रहा
टीडीपी की मांग को जायज बताते हुए पंजाब में सहयोगी अकाली दल के सांसद नरेश गुजराल ने कहा कि ये बात ध्यान में रखनी चाहिए की 2019 में किसी एक की दल की पूर्ण बहुमत की सरकार नहीं बनेगी। उन्होंने ये भी कहा, 'मैं पिछले तीन साल से कह रहा हूं कि ये एनडीए पिछले एनडीए जैसा काम नहीं कर रहा है. अटल जी की कुछ और ही बात थी.'

2019 में शिवसेना अकेले लड़ेगी चुनाव
वक्त-वक्त पर मोदी सरकार के खिलाफ बयानबाजी करने वाली शिवसेना ने पहले ही साफ कर दिया है कि वो 2019 का चुनाव एनडीए के साथ नहीं लड़ेगी।

जीतन राम मांझी ने छोड़ा साथ
टीडीपी से पहले बिहार के एक्स सीएम जीतन राम मांझी एनडीए से अलग हो चुके हैं। मांझी की अगुवाई वाली 'हम' फिलहाल भले ही पॉलिटिकली मजबूत न हो लेकिन मांझी का पिछड़े और अति पिछड़े वोटो पर पकड़ मजबूत है ऐसे में वो बिहार में बीजेपी को नुकसान पहुंचा सकते हैं ।

चिराग पासवान के बदले सुर चिराग पासवान के बदले सुर
अकाली दल सांसद बोले- अब पहले वाली बात नहीं अकाली दल सांसद बोले- अब पहले वाली बात नहीं
जीतन राम मांझी पहले ही NDA से अलग हुए जीतन राम मांझी पहले ही NDA से अलग हुए
2019 में शिवसेना अकेले लड़ेगी चुनाव 2019 में शिवसेना अकेले लड़ेगी चुनाव