--Advertisement--

त्रिपुरा में 'कमल' खिलते ही गिराई गई लेनिन की मूर्ति, बीजेपी समर्थकों पर आरोप

लेफ्ट पार्टीज ने हिंसा का विरोध किया है

Dainik Bhaskar

Mar 06, 2018, 12:36 PM IST
देखिए वीडियो देखिए वीडियो

स्पेशल डेस्क: दक्षिणी त्रिपुरा में सोमवार को रूसी क्रांति के नायक रहे व्लादिमीर लेनिन की प्रतिमा गिरा दी। आरोप बीजेपी वर्कर्स पर लगा है। इस दौरान उन्होंने भारत माता की जय के नारे लगाए। पार्टी के महासचिव राम माधव ने इसका फोटो ट्वीट किया। उधर, राज्य में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) के कई दफ्तरों में तोड़फोड़ की गई है। इन खबरों के बाद केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने गवर्नर तथागत रॉय और डीजीपी एके शुक्ला से सरकार बनने तक हालात पर नजर रखने को कहा है।

सीपीएम ने जताई नाराजगी
- साउथ त्रिपुरा डिस्ट्रिक्ट के बेलोनिया सबडिवीजन में लगी लेनिन की मूर्ति को जेसीबी से गिरा गया है। यहां ये मूर्ति पांच साल पहले लगाई गई थी।
- पुलिस के मुताबिक, जेसीबी के ड्राइवर को अरेस्ट कर लिया गया है। वह नशे में था। इस घटना पर लेफ्ट ने नाराजगी जाहिर की है।

केंद्रीय मंत्री ने मूर्ति गिराए जाने को सही बताया

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने त्रिपुरा में व्लादीमीर लेनिन की मूर्ति गिराए जाने को सही ठहराते हुए कहा कि मुगलों के जमाने में तो मंदिर गिराए गए थे।

त्रिपुरा में कई जगह तोड़फोड़
- बीजेपी की जीत के बाद राज्य में सीपीएम दफ्तरों समेत कई जगह तोड़फोड़ की गई है।
- सीपीएम ने इसके लिए बीजेपी और उसकी सहयोगी आईपीएफटी कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाया है।
- उनका कहना है कि सीपीएम के कार्यकर्ताओं के घरों को भी निशाना बनाया जा रहा है।
- बीजेपी का कहना है कि यह सीपीएम के खिलाफ लोगों का गुस्सा है।

जनता जवाब देगी: अनंत कुमार
- त्रिपुरा में हिंसा के सवाल पर केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने मीडिया से कहा, "त्रिपुरा में मार्क्सवादियों ने हमारे 9 कार्यकर्ताओं को मार दिया। कर्नाटक में कांग्रेस के कुशासन के चलते बीजेपी के 24 कार्यकर्ता मारे गए। आने वाले चुनावों जनता इसका मुंहतोड़ जवाब देगी।"

लोकतंत्र में यह मंजूर नहीं: डी राजा
- सीपीआई लीडर डी राजा ने कहा, "मैं इस हिंसा का पुरजोर विरोध करता हूं। लोकतंत्र में यह मंजूर नहीं है। हम कई पार्टियों वाले लोकतंत्र हैं। इसमें कुछ पार्टियां जीतती हैं तो कुछ हारती हैं। इसका मतलब यह नहीं कि वे तोड़फोड़ और हिंसा करें। जैसा कि लेनिन की मूर्ति का गिराया गया।"

हिंसा ही उनका राजनीतिक भविष्य है: सीताराम येचुरी
- सीपीआई लीडर सीताराम येचुरी ने कहा, "त्रिपुरा में जो हिंसा हो रही है ये स्पष्ट करती है कि आरएसएस-बीजेपी का रुझान क्या है। हिंसा के अलावा उनका कोई राजनीतिक भविष्य नहीं है। त्रिपुरा की जनता इसका जवाब देगी।"

मूर्ती गिराने के बाद लगाए गए भारत माता की जय के नारे मूर्ती गिराने के बाद लगाए गए भारत माता की जय के नारे
सीपीएम के कई दफ्तरों में तोड़फोड़ की गई है। सीपीएम के कई दफ्तरों में तोड़फोड़ की गई है।
X
देखिए वीडियोदेखिए वीडियो
मूर्ती गिराने के बाद लगाए गए भारत माता की जय के नारेमूर्ती गिराने के बाद लगाए गए भारत माता की जय के नारे
सीपीएम के कई दफ्तरों में तोड़फोड़ की गई है।सीपीएम के कई दफ्तरों में तोड़फोड़ की गई है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..