Hindi News »National »Ayodhya Vivad »Latest News» Kerala Bjp Leader Fined 97 Traffic Rule Violations Social Media Has Field Day

बीजेपी के नेता ने 97 बार तोड़ा ट्रैफिक नियम, नहीं भरा डेढ़ लाख रुपए का जुर्माना

बीजेपी के स्टेट प्रेसिडेंट पर 97 बार ट्रैफिक रूल्स तोड़ने का आरोप।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 12, 2018, 02:03 PM IST

बीजेपी के नेता ने 97 बार तोड़ा ट्रैफिक नियम, नहीं भरा डेढ़ लाख रुपए का जुर्माना

नेशनल डेस्क. केरल में बीजेपी के स्टेट प्रेसिडेंट कुम्मनम राजशेखरन पर 97 बार ट्रैफिक रूल्स तोड़के का आरोप है। जिसके चलते 1.51 लाख रुपए का फाइन भी किया गया है। आरोप है कि उन्होंने अब तक न ही फाइन भरा है न ही मोटर व्हीकल डिपार्टमेंट ने फाइन लेने के लिए कोई एक्शन लिया। इस बात का खुलासा आरटीआई के जरिए हुआ है।

ओवर स्पीडिंग का आरोप
मोहर व्हीकल डिपार्टमेंट के अनुसार कुम्मनम राजशेखरन के नाम पर दो कार हैं। आरोप हैं कि दोनों कारें 97 बार तय स्पीड से तेज ड्राइव की गईं। जिसके बाद फाइन लगाया गया।

बार-बार तोड़ा ट्रैफिक नियम
दोनों कारों से बार-बार ट्रैफिक नियत तोड़े गए। मोटर व्हीकल डिपार्टमेंट की माने तो पहली बार ट्रैफिक रूल तोड़ने पर ड्राइवर को चार सौ रुपए और गाड़ी के मालिक को तीन सौ रुपए का फाइन भरना होता है। लेकिन बार-बार ट्रैफिक नियम तोड़ने पर ये राशि बढ़कर ड्राइवर के लिए एक हजार और मालिक के लिए पांच सौ हो जाती है।

कैसे हुआ खुलासा
एक्टिविस्ट सी एस शहनवाज ने आरटीआई के जरिए इस बात का खुलासा किया। लेकिन आरटीआई में जो जानकारी थी वो चौंकाने वाली थी। 97 बार ट्रैफिक रूल्स तोड़ने के बाद भी आरोपी के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया। जबकि सीए एस शहनवाज का कहना है कि ऐसे में तो लाइसेंस ही रद्द कर देना चाहिए। इतना ही नहीं मोटर व्हीकल डिपार्टमेंट ने फाइन कलेक्ट करने के लिए भी कोई कोशिश नहीं की। जो डिपार्टमेंट की लापरवाही दिखाता है। जिसके खिलाफ सी एस शहनवाज ने कोर्ट जाने का फैसला किया है। हालांकि इस मामले में तिरुवनंतपुरम के रिजनल डिपार्टमेंट के आरटीआई अधिकारी ने कहा है कि इस मामले में कार्रवाई की गई है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Latest News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×