Hindi News »National »Ayodhya Vivad »Latest News» Major Aditya Father Moves SC For FIR Quashing

शोपियां फायरिंग: मेजर आदित्य के खिलाफ दर्ज FIR रद्द कराने के लिए पिता पहुंचे SC

मेजर आदित्य के पिता लेफ्टिनेंट कर्नल कर्मवीर सिंह ने कहा कि कश्मीर में ड्यूटी करना आसान नहीं है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 09, 2018, 10:22 AM IST

शोपियां फायरिंग: मेजर आदित्य के खिलाफ दर्ज FIR रद्द कराने के लिए पिता पहुंचे SC

नेशनल डेस्क. जम्मू कश्मीर के शोपियां में पत्थरबाजों और सेना के बीच हुई झड़प का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। 27 जनवरी को हुई झड़प में आर्मी मेजर आदित्य के खिलाफ FIR दर्ज हुई है। जिसे रद्द कराने के लिए आदित्य के पिता लेफ्टिनेंट कर्नल कर्मवीर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। उनका कहना है कि बेटे ने साथियों को बचाने के लिए फायरिंग की। बता दें कि 27 जनवरी को हुई झड़प में प्रदर्शन कर रहे दो लोगों की जान चली गई थी।

कश्मीर में आसान नहीं है ड्यूटी
मेजर आदित्य के पिता लेफ्टिनेंट कर्नल कर्मवीर सिंह ने याचिका में कहा कि बेटा आर्मी के अपने साथियों को तनाव वाले इलाके से निकालने के लिए गया था। इस दौरान सिर्फ आर्मी जवानों को रास्ता दिलाने के लिए फायर किए गए। पत्थरबाजों से कई बार आर्मी को नुकसान नहीं पहुंचाने की गुजारिश की, लेकिन वो नहीं माने। इसके बाद वहीं से हटने और रास्ते देने के लिए वॉर्निंग दी गई। कश्मीर में मौजूदा हालात ड्यूटी के हिसाब से काफी कठिन हैं। इसीलिए कोर्ट से गुजारिश है कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के द्वारा दर्ज की गई एफआईआर को रद्द करने का आदेश दिया जाए।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, लेफ्टिनेंट कर्नल करमवीर सिंह ने कहा, '10 गढ़वाल राइफल्स के मेजर आदित्य का नाम एफआईआर में बदले की भावना से जोड़ा गया'।

जारी हो गाइडलाइन्स
27 जनवरी को शोपिया के गनोवपोरा गांव में हुई झड़प के बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने जांच का आदेश दिया था। इस मामले में मेजर आदित्य पर धारा 302 और 307 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गयी है। जिसके बाद आदित्य के पिता की मांग है कि राज्य सरकार को आर्मी के मामले में इस तरह के फैसले लेने से रोका जाए। कोर्ट सैनिकों के अधिकारों की रक्षा और मुआवजे के लिए गाइडलाइन्स जारी करे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Latest News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×