--Advertisement--

नीरव मोदी ने तोड़ी चुप्पी, कहा- PNB की जल्दबाजी से मेरा ब्रांड और धंधा चौपट हुआ,अब नहीं लौटाऊंगा पैसे

नीरव मोदी ने PNB मैनेजमेंट को लिखा लेटर

Dainik Bhaskar

Feb 20, 2018, 12:30 PM IST
PNB मैनेजमेंट को लिखा लेटर PNB मैनेजमेंट को लिखा लेटर

स्पेशल डेस्क: इंडिया में बैंकिंग इंडस्ट्री के सबसे बड़े फ्रॉड में आरोपी हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने अपनी चु्प्पी तोड़ी है। पीएनबी मैनेजमेंट को लेटर में नीरव ने साफ किया है कि वो बैंक के रुपए नहीं लौटाएंगे। नीरव ने दावा किया कि बैंक ने जितनी देनदारी बताई हैं, उतनी है नहीं। यह 5000 करोड़ से भी कम है। 'बैंक की जल्दबाजी से धंधा चौपट हुआ'...

क्या लिखा नीरव ने पीएनबी को लेटर में ?
पहला आरोप- गलत जानकारी से बिगड़ा मामला

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, नीरव मोदी ने यह लेटर 15-16 फरवरी को लिखा था। जबकि पीएनबी ने 14 फरवरी को बैंक फ्रॉड पब्लिक किया था। इसमें नीरव ने लिखा, "हमारी देनदारी का गलत आंकड़ा बताने के चलते मीडिया की नजरें टिक गईं। इसके चलते तुरंत तलाशी और जब्ती होने लगी। इसका नतीजा ये निकला कि फायर स्टार इंटरनेशनल और फायर स्टार डायमंड इंटरनेशनल को कारोबार रोकना पड़ा। इससे ग्रुप की बैंक को देनदारी चुकानी की क्षमता खतरे में पड़ गई।"

दूसरा आरोप- PNB ने ब्रांड और बिजनेस तबाह किया
"13 फरवरी को मैंने पैसा लौटाने का ऑफर दिया था। लेकिन, देनदारी वसूलने की जल्दबाजी में उठाए गए कदमों ने मेरे ब्रांड और बिजनेस को तबाह कर दिया। ऐसे में आपने खुद कर्ज वसूलने के अवसरों को सीमित कर लिया है।"

तीसरा आरोप- शिकायत के बावजूद मैंने ऑफर दिया
नीरव ने देनदारी के पीएनबी द्वारा दिए आंकड़ों पर लिखा, "आप जानते हैं कि ये (11 हजार करोड़ से ज्यादा की देनदारी) पूरी तरह गलत है और नीरव मोदी ग्रुप की देनदारी इससे कहीं कम है। आपकी शिकायत फाइल होने के बाद भी भलमनसाहत के चलते मैंने आपको लिखा था कि कृपया मुझे फायर स्टार ग्रुप को बेचने या उसकी कीमती संपत्तियों को बेचने की इजाजत दें और अपनी देनदारी रिकवर करें। केवल फायर स्टार ग्रुप से ही नहीं, बल्कि बाकी तीन फर्म्स से भी।"

बैंक को दो-टूक: देनदारी वसूलने का दौर गुजर गया
- "भारत में मेरे बिजनेस की वैल्यू करीब 6,500 करोड़ रुपए है और इससे बैंक का कुछ कर्ज लौटाया जा सकता था। लेकिन, अब ये मुमकिन नहीं है, क्योंकि मेरे सारे अकाउंट्स फ्रीज हैं और संपत्तियां सील कर दी गई हैं। ईडी और सीबीआई ने जो कीमती सामान और संपत्तियां जब्त किया है, उनकी कीमत 5649 है, ये और दूसरी संपत्तियों से बैंक की सारी देनदारी चुकाई जा सकती थी, लेकिन ऐसा लगता है कि ये दौर अब गुजर गया है।"

क्या है पूरा मामला?
पंजाब नेशनल बैंक ने पिछले दिनों सेबी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को 11,356 करोड़ रुपए के घोटाले के जानकारी दी थी। घोटाले को पीएनबी की मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में अंजाम दिया गया। शुरुआत 2011 से हुई। 7 साल में हजारों करोड़ की रकम फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (LoUs) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई।

बैंक पर लगाए गई आरोप बैंक पर लगाए गई आरोप
ब्रांड और धंधा चौपट करने का आरोप ब्रांड और धंधा चौपट करने का आरोप
X
PNB मैनेजमेंट को लिखा लेटरPNB मैनेजमेंट को लिखा लेटर
बैंक पर लगाए गई आरोपबैंक पर लगाए गई आरोप
ब्रांड और धंधा चौपट करने का आरोपब्रांड और धंधा चौपट करने का आरोप
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..