Hindi News »National »Ayodhya Vivad »Latest News» Pnb Scam Campare With Wells Fargo Bank Fraud

PNB Scam: घोटाले से निपटने के लिए भारत को अमेरिका के इस घोटाले से सीख लेनी चाहिए

PNB घोटाले के आरोपियों से निपटने के लिए भारत को वेल्स फार्गो घोटाले से सीख लेनी चाहिए।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 20, 2018, 06:56 PM IST

    • साल 2016: सीनेटर ने CEO को ऐसे लगाई थी फटकार

      नेशनल डेस्क. पंजाब नेशनल बैंक स्कैम से देश में हड़कंप मचा हुआ है। 11,356 करोड़ का ये घोटाला देश में बैंकिंग सेक्टर का सबसे बड़ा स्कैम माना जा रहा है। कांग्रेस से लेकर बीजेपी तक एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। लेकिन अभी तक किसी ने घोटाले की जिम्मेदारी नहीं ली है। हमारे देश में भले ही खुलासे के बाद एक दूसरे पर आरोप लगाने की परंपरा रही हो लेकिन आज आपको अमेरिका के इसी तरह के एक बैंक घोटाले के बारे में बताते हैं जिसमें बैंक सीईओ को सीनेट कमेटी ने कड़ी फटकार लगाई थी। इस्तीफा तक मांग लिया था।

      वेल्स फार्गो घोटाला

      साल 2016 में अमेरिका के सबसे बड़े बैंक वेल्स फार्गो पर फेक अकाउंट बनाने का आरोप लगा था। बैंक के सीईओ जॉन स्टेम्प समेत कर्मचारियों पर फर्जी अकाउंट बनाने के अलावा कस्टमर को फेक पॉलिसीज और गलत तरीके से क्रेडिट और डेबिट कार्ड बांटने का आरोप लगा था।

      टारगेट पूरा करने के लिए किया गया था फर्जीवाड़ा
      पूछताछ में पता चला कि बैंक की तरफ के कर्मचारियों को टारगेट दिया गया था। जिसे पूरा करने के लिए उन्होंने फर्जी अकाउंट बनाए और गलत तरीके से क्रेडिट और डेबिट कार्ट बांटे। करीब पांच साल तक बैंक की तरफ से घोटाला चलता रहा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बैंक ने पांच साल में 20 लाख से ज्यादा फर्जी अकाउंट बनाए।

      5300 कर्चमारी किए गए थे बर्खास्त
      मामले का खुलासा हुआ तो बैंक पर 1200 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया, साथ ही बैंक के 5300 कर्मचारियों को बर्खास्त किया गया। पड़ताल में सामने आया कि इन फर्जी अकाउंट से कोई बड़ी लेन-देन नहीं हुई, न ही कर्मचारियों ने फेक अकाउंट बनाकर पैसे कमाए,बल्कि उन्होंने कंपनी का टारगेट पूरा करने के लिए ऐसा किया। लेकिन इसके बाद भी उनके खिलाफ सख्त एक्शन लिया गया।

      सीनेट कमेटी में CEO को लगी थी फटकार
      वेल्स फार्गो घोटाले का खुलासा होने के बाद बैंक के सीईओ जॉन स्टेम्प से सीनेट कमेटी ने कई सवाल पूछे थे। उनसे सीनेटर एलिजाबेथ ने पूछा था कि क्या आपको नहीं लगता कि इस धोखाधड़ी के बाद आपको इस्तीफा दे देना चाहिए? उन्होंने कहा कि आपको धोखाधड़ी का सारा पैसा वापस कर देना चाहिए। इसके अलावा घोटाले का पूरा आरोप छोटे कर्मचारियों पर डालने की बजाय किसी सीनियर एग्जिक्यूटिव लेवल के अधिकारी से इस्तीफा लेना चाहिए। साथ ही उन्होंने सीईओ से पूछा कि क्या आपकी नजर में ये जिम्मेदारी है कि अपनी गलती को अपने नीचे काम करने वाले लोगों के ऊपर डाल दें? सीनेटर ने ऐसी लीडरशिप को कायरता बताया। उन्होंने कहा था कि आपको इस्तीफा दे देना चाहिए और जॉन स्टेम्प को इस्तीफा देना पड़ा था।

      खुलासे के बाद PNB के CEO ने क्या कहा?
      11,356 करोड़ रुपए का घोटाला सामने आने के दूसरे दिन पंजाब नेशनल बैंक के एमडी और सीईओ सुनील मेहता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने बताया कि नीरव मोदी ने पिछले हफ्ते कुछ पैसे लौटाने के लिए ऑफर दिया था। हमने उसे बैंक आने और पैसे लौटाने का प्लान लिखित में मांगा है। उन्होंने कहा कि 123 साल में बैंक ने कई उतार-चढ़ाव देखे। बैंक इस समस्या से उबरने में सक्षम है। अगर जिम्मेदारी हमारे ऊपर बनी तो हम पैसे चुकाएंगे। पैसे की रिकवरी के प्रयास शुरू कर दिए गए हैं।

      मेहता के अनुसार, दूसरी शाखाओं में भी छानबीन की गई, लेकिन गड़बड़ी सिर्फ एक ब्रांच में हुई है। बैंक ने एक्शन लेते हुए 10 कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया है। इस मामले में छह लोगों की गिरफ्तारी भी हो चुकी है लेकिन वेल्स फार्गो घोटाले की तरह यहां भी नीचे लेवल के कर्मचारियों पर ही एक्शन लिया गया है। सीनियर एग्जिक्यूटिव लेवल के अधिकारियों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। क्या इस मामले में बैंक के CEO दोषी नहीं हैं? क्या बड़े लेवल के अधिकारियों को दोषी नहीं ठहराया जाना चाहिए?

    • PNB Scam: घोटाले से निपटने के लिए भारत को अमेरिका के इस घोटाले से सीख लेनी चाहिए
      +1और स्लाइड देखें
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

    More From Latest News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×