Hindi News »National »Ayodhya Vivad »Latest News» TDP To Exit NDA Alliance Over Andhra Pradesh, What Is Special Status Category Status In India

जिस वजह एनडीए से अलग हुई टीडीपी, जानिए उसके पीछे की कहानी

आखिरकार तेलगुदेशम पार्टी (टीडीपी) ने एनडीए से अलग होने का एलान कर दिया है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 16, 2018, 01:57 PM IST

  • जिस वजह एनडीए से अलग हुई टीडीपी, जानिए उसके पीछे की कहानी
    +1और स्लाइड देखें

    स्पेशल डेस्क.आखिरकार तेलगुदेशम पार्टी (टीडीपी) ने एनडीए से अलग होने का एलान कर दिया है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा न देना है। इसके अलावा टीडीपी, सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का भी समर्थन किया है। हालांकि इससे पहले सरकार ने कहा है कि आंध्र प्रदेश को पहले से घोषित स्पेशल पैकेज के बराबर रकम मुहैया कराने को तैयार हैं। टीडीपी का एनडीए से अलग होने का फैसला राजनीतिक या नहीं। ये आने वाला वक्त बताएगा, लेकिन हम आम लोगों के मन में एक सवाल ये उठता है कि आखिर ये विशेष राज्य का दर्जा होता क्या है? आखिर ये किन परिस्थिति में दिया जाता है ? किन राज्यों के पास पहले से ही ये दर्जा मौजूद है? आइए जानते हैं एक सवाल...


    क्या है विशेष राज्य का दर्जा?
    देश की तीसरी पंचवर्षीय योजना यानी 1961-66 तक और फिर 1966-1969 तक केंद्र के पास राज्यों को अनुदान देने का कोई फिक्स फॉर्मूला नहीं था। उस समय सिर्फ योजना के अनुसार की ग्रांट दी जाती थी। 1969 में केंद्रीय सहायता का फॉर्मूला बनाते समय 5वें वित्त आयोग ने गाडगिल फॉर्म्युले के अनुरूप तीन राज्यों को विशेष राज्य का दर्जा दिया। इसमें असम, नागालैंड और जम्मू-कश्मीर शामिल थे। इसका आधार था इन राज्यों का पिछड़ापन, दुरूह भौगोलिक स्थिति और वहां व्याप्त सामाजिक समस्याएं।

    क्या है इसका फायदा?
    जब किसी को राज्य को विशेष दर्जा मिलता है तो केंद्र सरकार अपनी तरफ से उसे 90% ग्रांट दे देती है। बाकी 10% बिना ब्याज का लोन देती है। यानी राज्य को सिर्फ केंद्र को 10% रकम की वापस करनी होती है, वो भी बिना किसी ब्याज के। विशेष राज्य को एक्साइज ड्यूटी में भी रियायत मिलती है। इससे बिजनेसमैन इंडस्ट्री लगा सकें।

    किस तरह दिया जाता है?
    भारतीय संविधान में स्पेशल स्टेटस का प्रावधान है। इस कानून को संसद के दोनों सदनों (लोकसभा-राज्यसभा) ने दो तिहाई बहुमत से पास किया था।

    कौन इसको अप्रूव करती है?
    स्पेशल कैटेगरी स्टेटस (SCS) देने का अधिकार भारत सरकार का बॉडी नेशनल डेवलपमेंट काउंसिल को है।


    किन परिस्थिति में इसे दिया जाता है?
    नेशनल डेवलपमेंट काउंसिल इन पैरामीटर पर किसी राज्य को यह दर्जा देता है-
    1# पहाड़ी, मुश्किल इलाके और कम संसाधन वाला राज्य
    2# कम जनसंख्या घनत्व और अंतरराष्ट्रीय सीमा को शेयर करने वाला राज्य
    3# आर्थिक और ढांचागत पिछड़ापन
    4# राज्य में इकोनॉमी के हिसाब से माहौल न होना

    अभी किन राज्यों के पास ये दर्जा है?
    - असम
    - नगालैंड
    - जम्मू और कश्मीर
    - अरुणाचल प्रदेश
    - मणिपुर
    - मेघालय
    - मिजोरम
    - सिक्किम
    - त्रिपुरा
    - उत्तराखंड
    - हिमाचल प्रदेश

  • जिस वजह एनडीए से अलग हुई टीडीपी, जानिए उसके पीछे की कहानी
    +1और स्लाइड देखें
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Latest News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×