--Advertisement--

रत्नागिरि रिफाइनरी प्रोजेक्ट: सऊदी अरामको अपनी 50% हिस्सेदारी में एडनॉक को करेगी शामिल, एग्रीमेंट कल

अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी अरामको से हिस्सेदारी खरीदेगी।

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 01:39 PM IST
अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी रत्नागिरी प्रोजेक्ट में पार्टनर बनेगी।- फाइल अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी रत्नागिरी प्रोजेक्ट में पार्टनर बनेगी।- फाइल

- एडनॉक अबू धाबी की सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी है

नई दिल्ली. अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी (ADNOC) महाराष्ट्र में प्रस्तावित दुनिया के सबसे बड़े रिफाइनरी कम पेट्रोकेमिकल प्रोजेक्ट में हिस्सा खरीदेगी। सऊदी अरामको अपनी 50% हिस्सेदारी में से कुछ शेयर एडनॉक को बेचेगी। यूएई में रविवार को इसके लिए एग्रीमेंट साइन किया जाएगा। इस दौरान एडनॉक के सीईओ सुल्तान अल जबेर, अरामको के सीईओ अमीन एच नसीर और भारत के पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान मौजूद रहेंगे।

एडनॉक की हिस्सेदारी अभी तय नहीं
- दुनिया की सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी सऊदी अरामको ने पिछले महीने रत्नागिरी रिफाइनरी प्रोजेक्ट के लिए दिल्ली में एमओयू साइन किया था। अरामको ने उसी वक्त साफ कर दिया था कि वो अपनी 50% हिस्सेदारी बेचने के लिए दूसरे निवेशक तलाशेगी। इसी के तहत एडनॉक को पार्टनर बनाया जा रहा है। हालांकि ये साफ नहीं है कि एडनॉक कितना हिस्सा खरीद रही है।

रत्नागिरी प्रोजेक्ट के पार्टनर

कंपनी हिस्सेदारी आगे
सऊदी अरामको 50%

अरामको अपना 50% हिस्सा बेचेगी

एडनॉक इसमें पहला निवेश करेगी

आईओसी

बीपीसीएल

एचपीसीएल

50% हिस्सेदारी बनी रहेगी

प्रस्तावित रत्नागिरि प्रोजेक्ट की खास बातें
- दुनिया का सबसे बड़ा रिफाइनरी कम पेट्रोकेमिकल प्रोजेक्ट
- 44 बिलियन डॉलर (करीब 2.90 लाख करोड़) की योजना
- 6 करोड़ टन सालाना उत्पादन की क्षमता
- दुनिया की सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी अरामको हिस्सेदार
- उच्च क्षमता वाले पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स का उत्पादन होगा
- 2025 तक प्रोजेक्ट का काम शुरू होने की उम्मीद

प्रोजेक्ट से जुड़ी 3 बड़ी बातें

1) रत्नागिरी दुनिया का सबसे बड़ा रिफाइनरी कम पेट्रोकेमिकल प्रोजेक्ट होगा

2) सऊदी अरामको दुनिया की सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी है

3) एडनॉक अबू धाबी की सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी है

भारत में बड़ा दांव क्यों?
- दूसरे तेल उत्पादकों की तरह अरामको और एडनॉक भी भारत में अपनी पकड़ मजबूत करना चाहते हैं। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल उपभोक्ता है जो अपनी जरूरतों का 80% से ज्यादा कच्चा तेल इंपोर्ट करता है।

- 2016-17 तक सऊदी अरब भारत का सबसे बड़ा क्रूड सप्लायर था, लेकिन पिछले वित्त वर्ष में इराक से पीछे हो गया।

भारत का क्रूड इंपोर्ट

वित्त वर्ष देश क्रूड आयात
2016-17 सऊदी अरब 39.5 मिलियन टन
इराक 37.5 मिलियन टन
2017-18 सऊदी अरब 33.9 मिलियन टन
इराक 42.4 मिलियन टन

- संयुक्त अरब अमीरात से काफी कम इंपोर्ट हो रहा है।

भारत की रिफाइनरी क्षमता

कंपनी रिफाइनरी संख्या क्षमता
आईओसी 11 81.2 मिलियन टन
बीपीसीएल 4 33.4 मिलियन टन
एचपीसीएल 3 24.8 मिलियन टन

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की मौजूदगी में यूएई में एडनॉक के साथ एग्रीमेंट साइन होगा।- फाइल पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की मौजूदगी में यूएई में एडनॉक के साथ एग्रीमेंट साइन होगा।- फाइल
X
अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी रत्नागिरी प्रोजेक्ट में पार्टनर बनेगी।- फाइलअबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी रत्नागिरी प्रोजेक्ट में पार्टनर बनेगी।- फाइल
पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की मौजूदगी में यूएई में एडनॉक के साथ एग्रीमेंट साइन होगा।- फाइलपेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की मौजूदगी में यूएई में एडनॉक के साथ एग्रीमेंट साइन होगा।- फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..