Hindi News »National »Utility» Air Pollution In Delhi

प्रदूषण भी बन सकता है मौत का कारण, बचने के लिए तुरंत करें ये 9 काम

दिल्ली में सांस लेना भी मुश्किल हो गया है। राजस्थान, हरियाणा और यूपी के ज्यादातर शहरों में भी यही हाल हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 14, 2018, 02:09 PM IST

प्रदूषण भी बन सकता है मौत का कारण, बचने के लिए तुरंत करें ये 9 काम

न्यूज डेस्क। दिल्ली में सांस लेना भी मुश्किल हो गया है। राजस्थान, हरियाणा और यूपी के ज्यादातर शहरों में भी यही हाल हैं। राजस्थान में धूल भरी भरी आंधी ने उत्तर भारत के कई राज्यों के आसमान में धूल का जहर घोल दिया है। हालात ये हो गए हैं कि लोग घर से बाहर निकल रहे हैं तो ऑक्सीजन से ज्यादा धूल सांस में घुल रही है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार पीएम 10 का स्तर खतरे के निशान से बेहद अधिक दर्ज किया गया। दिल्ली-एनसीआर में यह 778 और दिल्ली में 824 दर्ज किया गया है। केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय का अनुमान है कि अगले तीन दिन दिल्ली में धुंध छाई रह सकती है।


क्या होता है पीएम 10
- पीएम 10 को पर्टिकुलेट मैटर कहते हैं। इन कणों का साइज 10 माइक्रोमीटर से कम होता है। इससे छोटे कणों का व्यास 2.5 माइक्रोमीटर या कम होता है। यह कण ठोस या तरल रूप में वातावरण में होते हैं। ये हवा में ऑक्सीजन की मात्रा कम कर देते हैं। इसकी जद में रहने वाले लोगों को घुटन का एहसास होता है।

इसलिए खराब हुई हवा
- ईरान-दक्षिण अफगानिस्तान की तरफ से धूल भरी हवाएं 20 हजार फीट की ऊंचाई से राजस्थान से होते हुए दिल्ली में दस्तक दे रही हैं। इससे वातावरण में धूल छा गई है। अगले चार दिन तक दिल्ली में ऐसे ही हालात रहेंगे।

- यूपी में बुधवार को आए आंधी-तूफान से 10 लोगों की मौत हो गई और 28 लोग घायल हो गए। बीते दिनों यूपी में बिजली गिरने से 26 लोगों की मौत हो गई थी। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी कर कहा है कि गोंडा, बस्ती, फैजाबाद और लखनऊ के आसपास के इलाकों में धूल भरी आंधी चल सकती है।

बचने के लिए क्या करें...

- मास्क पहनकर ही घर से बाहर निकलें। एन-95 मास्क पहनें। यह ज्यादा सुरक्षित होता है।
- बहुत जरूरी हो तो ही घर से बाहर निकलें।
- अस्थमा के मरीज अपने साथ हमेशा इन्हेलर रखें।
- शरीर में पानी की कमी नहीं होने दें।
- नींबू पानी पीएं, जिससे शरीर में पानी की मात्रा बनी रहे।
- हल्का पचने वाला खाना खाएं।
- बाहर का खाना कम से कम खाएं।
- घर के आसपास पानी का छिड़काव करें।

#आंधी-तूफान से पहले की सावधानियां...
- इमरजेंसी किट पहले से तैयार करके रखें। इसमें सेफ्टी के सभी आइटम्स रखें।
- घर को सिक्योर करें। खतरनाक स्थिति हो तो घर खाली कर दें। किसी दूसरे घर में शिफ्ट हो जाएं।
- घर के बाहर की ऐसी चीजें जो खतरा पैदा कर सकती हों उन्हें हटा दें।
- पेड़ों की छंटाई कर दें। कोई डाल खतरनाक लग रही हो तो उसे काट दें।
- वेदर अपडेट के लिए न्यूजपेपर पढ़ें। टीवी, रेडियो से अपडेट लेते रहें।

#आंधी-तूफान के दौरान की सावधानियां...
> मौसम से जुड़ी ताजा जानकारी और चेतावनियों के लिए रेडियो सुनें, टीवी देखें और अखबार पढ़ें।
> घर के अंदर ही रहने की कोशिश करें। खुले में जाने से बचें।
> बिजली के सभी सामानों के प्लग हटा दें।
> पेड़ों के नीचे या आसपास न जाएं।
> अगर गाड़ी, बस या किसी अन्य ढकी हुई गाड़ी के अंदर हैं तो उसी में रहें।
> साइकिल और मोटरसाइकल पर चलने से बचें।
> पूल, तालाब, छोटी नाव में हैं तो तुरंत बाहर आ जाएं।
> गाड़ी चलाते समय डिपर और पार्किंग लाइट का इस्तेमाल करें ताकि आगे-पीछे चल रहे वाहन आपकी गाड़ी को देख सकें।
> दिल्ली में यदि ट्रैफिक पुलिस की मदद चाहते हैं तो 1095, 25844444 पर कॉल कर सकते हैं। आप 8750871493 पर वॉट्सऐप भी कर सकते हैं।

#आंधी-तूफान के बाद की सावधानियां...

- आंधी-तूफान से डैमेज हुए एरिया से दूर रहें।
- अपडेट इंफॉर्मेशन के लिए रेडियो/टीवी पर न्यूज सुनते रहें।
- बच्चों, महिलाओं और शारीरिक रूप से कमजोर लोगों की मदद करें। - खतरनाक घरों, पेड़ों से दूर रहें। इनकी जानकारी अपने शहर के नगर निगम को दें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Utility

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×